रायपुर। करियर और परिवार के बीच बेहतर सामंजस्य बैठाने के लिए बेटियों को भी अपना नजरिया बदलना होगा। टाइम मैनेजमेंट, पाजीटिव सोच और तनाव कम More »

दुर्ग| रविशंकर स्टेडियम में रविवार को 10 हजार से अधिक महिलाओं ने एकसाथ सुआ नृत्य किया। यह पहला मौका है जब छत्तीसगढ़ के इस पारंपरिक More »

Santosh Rungta Campus में सजा TEDxRCET का ग्लोबल मंच भिलाई। संतोष रूंगटा कैम्पस में टेडेक्स आरसीईटी का आयोजन हुआ। इस ग्लोबल मंच से अपने जीवन में बड़ी More »

भिलाई संडे TAFREE में हुई छोटी सी मुलाकात भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के सेवानिवृत्त डीजीएम और पेशे से मेकानिकल इंजीनियर दीपक ताहिल संगीत से खुशियां बांटते More »

भिलाई। शहर के युवा महापौर देवेन्द्र यादव का जन्मदिन आज भिलाई ने स्वस्फूर्त होकर मनाया। सुबह जहां संडे तफरी में कई केक कटे वहीं दोपहर More »

 

Daily Archives: April 5, 2017

जब श्रीराम ने सरयू में ली समाधि

पृथ्वी को मृत्युलोक भी कहा गया है। यहां जो भी आता है, उसका जाना निश्चित होता है। ऐसा भगवान के साथ भी है। त्रिदेव में से भगवान विष्णु ने 10 अवतार लिए। श्रीराम इस कड़ी में सातवें अवतार थे। उन्होंने लगभग 10 हजार वर्ष तक अयोध्या में राज किया। जब उनके जाने की बारी आई तो काल स्वयं उनसे मिलने पहुंचे। श्रीराम ने इसके बाद राजपाट अपने और भाइयों के सुपुत्रों को सौंप कर सरयू नदी में समाधि ले ली। उनसे पहले लक्ष्मण रूपी शेषनाग ने भी सरयू में ही समाधि ले ली थी।पृथ्वी को मृत्युलोक भी कहा गया है। यहां जो भी आता है, उसका जाना निश्चित होता है। ऐसा भगवान के साथ भी है। त्रिदेव में से भगवान विष्णु ने 10 अवतार लिए। श्रीराम इस कड़ी में सातवें अवतार थे। उन्होंने लगभग 10 हजार वर्ष तक अयोध्या में राज किया। जब उनके जाने की बारी आई तो काल स्वयं उनसे मिलने पहुंचे। श्रीराम ने इसके बाद राजपाट अपने और भाइयों के सुपुत्रों को सौंप कर सरयू नदी में समाधि ले ली। उनसे पहले लक्ष्मण रूपी शेषनाग ने भी सरयू में ही समाधि ले ली थी।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook