भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

 

Daily Archives: February 20, 2018

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद बढ़ रहे दुष्कर्म के दर्ज मामले

भिलाई। बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका के बाद सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का परिपालन हो रहा है। इसलिए देश भर में दुष्कर्म के दर्ज मामलों में इजाफा हो रहा है। नाबालिगों को भगाकर शादी करने और घर बसाने वालों के खिलाफ भी अब दुष्कर्म के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। ऐसे मामलों की संख्या कुल दुष्कर्म के मामलों के लगभग 30 फीसदी हैं। वर्ष 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका पर सुनवाई करते हुए देश के सभी प्रदेशों में नाबालिगों की गुमशुदगी के मामलों में अपहरण दर्ज कर उनकी पतासाजी करने कहा था।

minor rape diplay pic

भिलाई। बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका के बाद सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का परिपालन हो रहा है। इसलिए देश भर में दुष्कर्म के दर्ज मामलों में इजाफा हो रहा है। नाबालिगों को भगाकर शादी करने और घर बसाने वालों के खिलाफ भी अब दुष्कर्म के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। ऐसे मामलों की संख्या कुल दुष्कर्म के मामलों के लगभग 30 फीसदी हैं। वर्ष 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका पर सुनवाई करते हुए देश के सभी प्रदेशों में नाबालिगों की गुमशुदगी के मामलों में अपहरण दर्ज कर उनकी पतासाजी करने कहा था। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

दंतेवाड़ा की सुदरी के लिए कोरबा से आया दुर्लभ बॉम्बे ब्लड

दंतेवाड़ा। बॉम्बे ब्लड ग्रुप का एक और मरीज दंतेवाड़ा में मिला है। 24 घंटे के भीतर कोरबा से ब्लड अरेंज किया गया। ब्लड बैंक के पैथोलाजिस्ट डॉ. दीपेंद्र भदौरिया के मुताबिक दस हजार में किसी एक में बॉम्बे ब्लड ग्रुप होता है। छग में अब तक इस ग्रुप के 9 और भारत में 178 लोग ही चिन्हित हो पाए हैं। पहली बार इस ग्रुप का मरीज वर्ष 1952 में बॉम्बे के एक हॉस्पिटल में मिला था। इसलिए इस ब्लड ग्रुप का नाम बॉम्बे रखा गया।दंतेवाड़ा। बॉम्बे ब्लड ग्रुप का एक और मरीज दंतेवाड़ा में मिला है। 24 घंटे के भीतर कोरबा से ब्लड अरेंज किया गया। ब्लड बैंक के पैथोलाजिस्ट डॉ. दीपेंद्र भदौरिया के मुताबिक दस हजार में किसी एक में बॉम्बे ब्लड ग्रुप होता है। छग में अब तक इस ग्रुप के 9 और भारत में 178 लोग ही चिन्हित हो पाए हैं। पहली बार इस ग्रुप का मरीज वर्ष 1952 में बॉम्बे के एक हॉस्पिटल में मिला था। इसलिए इस ब्लड ग्रुप का नाम बॉम्बे रखा गया। रक्त की व्यवस्था छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के सहयोग से किया गया। फाउंडेशन के पास इस ग्रुप के 8 डोनर हैं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare