भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

 

Daily Archives: February 23, 2018

उच्च शिक्षा की गोलमोल व्यवस्था पर हुआ मंथन

भिलाई। दुर्ग जिला भारतीय शिक्षण मण्डल द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में आने वाली विभिन्न समस्याओं और उनके समाधान के लिए 21 फरवरी 2018 को एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें उच्च शिक्षा के विभिन्न पहलुओं पर विचार मंथन किया गया। इस बैठक में प्रमुख रूप से नैक के द्वारा महाविद्यालय को मिलने वाले ग्रेड के विरोधाभासी मापदण्डों पर चर्चा हुई। डिग्री महाविद्यालयों, तकनीकि महाविद्यालयों और चिकित्सा महाविद्यालयों के लिए एक जैसे मापदण्ड है।भिलाई। दुर्ग जिला भारतीय शिक्षण मण्डल द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में आने वाली विभिन्न समस्याओं और उनके समाधान के लिए 21 फरवरी 2018 को एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें उच्च शिक्षा के विभिन्न पहलुओं पर विचार मंथन किया गया। इस बैठक में प्रमुख रूप से नैक के द्वारा महाविद्यालय को मिलने वाले ग्रेड के विरोधाभासी मापदण्डों पर चर्चा हुई। डिग्री महाविद्यालयों, तकनीकि महाविद्यालयों और चिकित्सा महाविद्यालयों के लिए एक जैसे मापदण्ड है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

संतोष रूंगटा कैम्पस में एचआर कॉन्क्लेव : छात्रों को जीएसटी अपनाने की सलाह

भिलाई। संतोष रूंगटा एजुकेशनल कैम्पस में संचालित रूंगटा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी (आरसीइटी) के ऑडिटोरियम में दो-दिवसीय मेगा एचआर कॉनक्लेव का आगाज हो गया। अपने की-नोट एड्रेस में टेक्निकल एजुकेशन द वे अहेड विषय पर क्विनॉक्स के सीनियर वाईस प्रेसीडेंट अरूण कुमार सिंह ने बताया कि कंपनियों में रोजगार संभावनाओं की कोई कमी नहीं है, आवश्यकता युवाओं को अपने आपको दक्ष बनाने की है। जिस तरह रॉ मटेरियल को प्रोसेस कर फैक्ट्री में फिनिश्ड प्रोडक्ट्स बनाये जाते हैं उसी प्रकार शैक्षणिक संस्थानों में भावी इंजीनियर्स को विभिन्न प्रशिक्षण प्रक्रियाओं से गुजारकर निखारा जाना चाहिये। एग्रीकल्चर तथा वॉटर कंजर्वेशन के क्षेत्र में रिसर्च तथा इनोवेशन की सदैव संभावनायें हैं। सामाजिक आवश्यकताओं के अनुरूप अपडेटेड स्किल्स सदैव उपयोगी होती हैं।भिलाई। संतोष रूंगटा एजुकेशनल कैम्पस में संचालित रूंगटा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी (आरसीइटी) के ऑडिटोरियम में दो-दिवसीय मेगा एचआर कॉनक्लेव का आगाज हो गया। अपने की-नोट एड्रेस में टेक्निकल एजुकेशन द वे अहेड विषय पर क्विनॉक्स के सीनियर वाईस प्रेसीडेंट अरूण कुमार सिंह ने बताया कि कंपनियों में रोजगार संभावनाओं की कोई कमी नहीं है, आवश्यकता युवाओं को अपने आपको दक्ष बनाने की है। जिस तरह रॉ मटेरियल को प्रोसेस कर फैक्ट्री में फिनिश्ड प्रोडक्ट्स बनाये जाते हैं उसी प्रकार शैक्षणिक संस्थानों में भावी इंजीनियर्स को विभिन्न प्रशिक्षण प्रक्रियाओं से गुजारकर निखारा जाना चाहिये। एग्रीकल्चर तथा वॉटर कंजर्वेशन के क्षेत्र में रिसर्च तथा इनोवेशन की सदैव संभावनायें हैं। सामाजिक आवश्यकताओं के अनुरूप अपडेटेड स्किल्स सदैव उपयोगी होती हैं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

डिग्री के साथ ही करें शार्ट टर्म कोर्स : सूरीशेट्टी

भिलाई। शिक्षाविद् तथा मोटीवेटर डॉ. जवाहर सूरीशेट्टी ने कहा कि वर्तमान में सिलेबस द्वारा प्रदान की जा रही इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स को 75 प्रतिशत थ्योरिटीकल तथा मात्र 25 प्रतिशत तकनीकी प्रैक्टिकल नॉलेज होता है। वे कार्पोरेट स्किल्स के अनुरूप नहीं होते और इन्हें रोजगार पाने के लिये जद्दोजहद करना पड़ता है। युवा अपने आपको इतना स्किल्ड बनायें जिससे वे एम्प्लॉयबल बन सकें। डिग्री की पढ़ाई के दौरान ही अधिक से अधिक शॉर्टटर्म कोर्सेस कर अपने आपको दक्ष बनायें।भिलाई। शिक्षाविद् तथा मोटीवेटर डॉ. जवाहर सूरीशेट्टी ने कहा कि वर्तमान में सिलेबस द्वारा प्रदान की जा रही इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स को 75 प्रतिशत थ्योरिटीकल तथा मात्र 25 प्रतिशत तकनीकी प्रैक्टिकल नॉलेज होता है। वे कार्पोरेट स्किल्स के अनुरूप नहीं होते और इन्हें रोजगार पाने के लिये जद्दोजहद करना पड़ता है। युवा अपने आपको इतना स्किल्ड बनायें जिससे वे एम्प्लॉयबल बन सकें। डिग्री की पढ़ाई के दौरान ही अधिक से अधिक शॉर्टटर्म कोर्सेस कर अपने आपको दक्ष बनायें।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में मनाया गया पुस्तक वाचन दिवस

भिलाई। विद्यार्थियों को पुस्तककालय की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में पुस्तक वाचन दिवस का आयोजन किया गया। ग्रंथपाल श्रीमती वनिता महाले ने बताया साहित्य, अभिप्रेरक, सामान्य ज्ञान, समसमायिक घटना चक्र छ.ग. साहित्य व संस्कृति आदि से संबंधित पुस्तकों को डिसप्ले किया गया। जिससे विद्यार्थी प्राध्यापक आमंत्रित स्टेक होल्डर विषय के अतिरिक्त दूसरी पुस्तकें पढ़े व ग्रंथालय में ज्यादा समय व्यतीत करने का आदत डालें। भिलाई। विद्यार्थियों को पुस्तककालय की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में पुस्तक वाचन दिवस का आयोजन किया गया। ग्रंथपाल श्रीमती वनिता महाले ने बताया साहित्य, अभिप्रेरक, सामान्य ज्ञान, समसमायिक घटना चक्र छ.ग. साहित्य व संस्कृति आदि से संबंधित पुस्तकों को डिसप्ले किया गया। जिससे विद्यार्थी प्राध्यापक आमंत्रित स्टेक होल्डर विषय के अतिरिक्त दूसरी पुस्तकें पढ़े व ग्रंथालय में ज्यादा समय व्यतीत करने का आदत डालें। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare