भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

भिलाई। 11वें भारत संस्कृति उत्सव एवं 16वें इंटरनेशनल फेस्टिवल आॅफ इंडियन आर्ट एंड कल्चर का आयोजन 21 अक्टूबर से होने जा रहा है। चार चरणों More »

 

Daily Archives: March 1, 2018

श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में विज्ञान दिवस का आयोजन

भिलाई। प्रतिवर्ष की भॉति इस वर्ष भी सी.वी. रमन के जन्म दिन के उपलक्ष्य पर श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के विज्ञान विभाग द्वारा विज्ञान दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भिलाई नगर निगम के महापौर श्री देवेन्द्र यादव मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुये समारोह का शुभारम्भ द्वीप प्रज्वलन से हुआ इस अवसर पर अपने उद्गार व्यक्त करते हुए श्री देवेन्द्र यादव ने कहा कि सभी विद्यार्थियों को कुछ नया करने की दिशा में अनवरत प्रयत्नशील रहना चाहिए अपना मुख्य ध्येय सदैव निश्चित रखें एक विद्यार्थी अपने जीवन में चाहे कितना भी आगे बढ़ जाये किन्तु उसे अपने शिक्षकों की भूमिका को कभी भी नहीं भुलना चाहिए। क्योंकि उनके द्वारा तय किये गये सोपानो के पीछे शिक्षक ही होता है। इस अवसर पर उनके द्वारा पोस्टर प्रदर्शनी का अनावरण किया गया।भिलाई। प्रतिवर्ष की भॉति इस वर्ष भी सी.वी. रमन के जन्म दिन के उपलक्ष्य पर श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के विज्ञान विभाग द्वारा विज्ञान दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भिलाई नगर निगम के महापौर श्री देवेन्द्र यादव मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुये  श्री देवेन्द्र यादव ने कहा कि सभी विद्यार्थियों को कुछ नया करने की दिशा में अनवरत प्रयत्नशील रहना चाहिए अपना मुख्य ध्येय सदैव निश्चित रखें एक विद्यार्थी अपने जीवन में चाहे कितना भी आगे बढ़ जाये किन्तु उसे अपने शिक्षकों की भूमिका को कभी भी नहीं भुलना चाहिए। क्योंकि उनके द्वारा तय किये गये सोपानो के पीछे शिक्षक ही होता है। इस अवसर पर उनके द्वारा पोस्टर प्रदर्शनी का अनावरण किया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

श्री शंकरचार्य टेक्निकल कैंपस में नेशनल साइंस डे का सफल आयोजन

भिलाई। श्री शंकराचार्य टेक्निकाल कैंपस में डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैथमैटिक्स द्वारा नेशनल साइंस डे 2018 समारोह का आयोजन किया गया। जिसमे क्विज कम्पटीशन हुआ जो कि छतीससगढ़ कौंसिल ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के द्वारा स्पोंसर्ड था। इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति डॉ आर पी पाठक, प्रोफेसर एंड हेड, डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैथमेटिक्स एनआईटी रायपुर एवं डॉ एन के ठाकुर, प्रोफेसर, एनआईटी रायपुर उपस्थित थे।भिलाई। श्री शंकराचार्य टेक्निकाल कैंपस में डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैथमैटिक्स द्वारा नेशनल साइंस डे 2018 समारोह का आयोजन किया गया। जिसमे क्विज कम्पटीशन हुआ जो कि छतीससगढ़ कौंसिल ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के द्वारा स्पोंसर्ड था। इस कार्यक्रम के मुख्य अथिति डॉ आर पी पाठक, प्रोफेसर एंड हेड, डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैथमेटिक्स एनआईटी रायपुर एवं डॉ एन के ठाकुर, प्रोफेसर, एनआईटी रायपुर उपस्थित थे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

18 श्रेष्ठ युवा शोधार्थी यंग साइंटिस्ट अवार्ड से सम्मानित

दुर्ग। युवा वैज्ञानिक कांग्रेंस जैसे आयोजन युवा शोधार्थियों द्वारा किए जा रहे शोधकार्य को समाज के समक्ष लाने का सर्वश्रेष्ठ प्लेटफार्म है। हमें वैज्ञानिक तथ्यों को आम जनमानस तक पहुंचाने का प्रयास करना चाहिए। ये उद्गार पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति डॉ. शिवकुमार पाण्डेय ने आज बीआईटी दुर्ग के सभागार में व्यक्त किये। डॉ. पाण्डेय आज छत्तीसगढ़ काउसिंल ऑफ साइंस एण्ड टेक्नालॉजी रायपुर द्वारा प्रायोजित एवं दुर्ग विश्वविद्यालय दुर्ग द्वारा आयोजित 16 वीं युवा वैज्ञानिक कांग्रेस के समापन एवं यंग साइंटिस्ट अवार्ड वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। डॉ. पाण्डेय ने बड़ी संख्या में उपस्थित युवा शोधार्थियों, प्राध्यापकों, गणमान्य नागरिकों एवं छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि विज्ञान को जीवन का हिस्सा बनायें। यदि युवा शोधार्थी निष्ठापूर्वक मौलिक शोधकार्य में लगे रहे तो निश्चित रूप से असंभव को संभव किया जा सकता है।दुर्ग। युवा वैज्ञानिक कांग्रेंस जैसे आयोजन युवा शोधार्थियों द्वारा किए जा रहे शोधकार्य को समाज के समक्ष लाने का सर्वश्रेष्ठ प्लेटफार्म है। हमें वैज्ञानिक तथ्यों को आम जनमानस तक पहुंचाने का प्रयास करना चाहिए। ये उद्गार पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति डॉ. शिवकुमार पाण्डेय ने आज बीआईटी दुर्ग के सभागार में व्यक्त किये। डॉ. पाण्डेय आज छत्तीसगढ़ काउसिंल ऑफ साइंस एण्ड टेक्नालॉजी रायपुर द्वारा प्रायोजित एवं दुर्ग विश्वविद्यालय दुर्ग द्वारा आयोजित 16 वीं युवा वैज्ञानिक कांग्रेस के समापन एवं यंग साइंटिस्ट अवार्ड वितरण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। डॉ. पाण्डेय ने बड़ी संख्या में उपस्थित युवा शोधार्थियों, प्राध्यापकों, गणमान्य नागरिकों एवं छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि विज्ञान को जीवन का हिस्सा बनायें। यदि युवा शोधार्थी निष्ठापूर्वक मौलिक शोधकार्य में लगे रहे तो निश्चित रूप से असंभव को संभव किया जा सकता है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare