भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

भिलाई। 11वें भारत संस्कृति उत्सव एवं 16वें इंटरनेशनल फेस्टिवल आॅफ इंडियन आर्ट एंड कल्चर का आयोजन 21 अक्टूबर से होने जा रहा है। चार चरणों More »

 

Daily Archives: March 22, 2018

भिलाई के दास कामथ ने बनाया पेट्रोल-डीजल दोनों पर चलने वाला इंजन

भिलाई। इस्पात नगरी भिलाई में पले-बढ़े युवा वैज्ञानिक दास अजी कामथ का एक आविष्कार इंजन तकनीक के क्षेत्र में क्रांतिकारी साबित होने वाला है। चुनौतीपूर्ण समझी जाने वाली इंजन डिजाइन के क्षेत्र में उन्होंने अपनी बरसों की मेहनत और लगन के दम पर भविष्य की ऐसी तकनीक रोटो डायनैमिक वेरिएबल कम्बंशन रेश्यो (आरसीवीआर) विकसित कर ली है, जिससे इंजिन बिना किसी बदलाव के किसी भी ईंधन से चल सकता है। युवा वैज्ञानिक दास अजी कामथ की इस तकनीक को दुनिया के 49 देशों में पेटेंट हासिल हो चुका है।भिलाई। इस्पात नगरी भिलाई में पले-बढ़े युवा वैज्ञानिक दास अजी कामथ का एक आविष्कार इंजन तकनीक के क्षेत्र में क्रांतिकारी साबित होने वाला है। चुनौतीपूर्ण समझी जाने वाली इंजन डिजाइन के क्षेत्र में उन्होंने अपनी बरसों की मेहनत और लगन के दम पर भविष्य की ऐसी तकनीक रोटो डायनैमिक वेरिएबल कम्बंशन रेश्यो (आरसीवीआर) विकसित कर ली है, जिससे इंजिन बिना किसी बदलाव के किसी भी ईंधन से चल सकता है। युवा वैज्ञानिक दास अजी कामथ की इस तकनीक को दुनिया के 49 देशों में पेटेंट हासिल हो चुका है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

देशभर में प्रसिद्ध है 500 साल पुराना रायपुर का बंजारी मंदिर

रायपुर। रावांभाठा स्थित मां बंजारी मंदिर देशभर में प्रसिद्घ है। नवरात्र के मौके पर यहां भक्तों का मेला लगा रहता है। बैठकी, अष्टमी और पंचमी के दिन विशेष पूजन अर्चना होती है और इन दिवसों पर भक्तों की अपार भीड़ उमड़ती है। बंजारी मंदिर के ठीक सामने परिसर में अमर जवान ज्योत निरंतर जलती रहती है। यहां शान से लहराता तिरंगा देशभक्ति का जज्बा पैदा करता है। देवी भक्ति और देश प्रेम का यहां अनूठा संगम है।रायपुर। रावांभाठा स्थित मां बंजारी मंदिर देशभर में प्रसिद्घ है। नवरात्र के मौके पर यहां भक्तों का मेला लगा रहता है। बैठकी, अष्टमी और पंचमी के दिन विशेष पूजन अर्चना होती है और इन दिवसों पर भक्तों की अपार भीड़ उमड़ती है। बंजारी मंदिर के ठीक सामने परिसर में अमर जवान ज्योत निरंतर जलती रहती है। यहां शान से लहराता तिरंगा देशभक्ति का जज्बा पैदा करता है। देवी भक्ति और देश प्रेम का यहां अनूठा संगम है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

तीन मुखों वाली त्रिशक्ति स्तम्भन की देवी माता बगलामुखी

पृथ्वीलोक में माता बगलामुखी तीन स्थानों पर विराजमान है, जो दतिया (मध्यप्रदेश), कांगड़ा (हिमाचल) तथा नलखेड़ा (मध्यप्रदेश) में हैं। नलखेड़ा में तीन मुखों वाली त्रिशक्ति माता बगलामुखी का मंदिर लखुंदर नदी के किनारे स्थित है। ऐसी मान्यता है कि मध्य में मां बगलामुखी, दाएं मां महालक्ष्मी और बाएं मां सरस्वती विराजमान हैं। मां बगलामुखी का त्रिशक्ति स्वरूप में मंदिर भारत में और कहीं नहीं है। द्वापर युगीन यह मंदिर अत्यंत चमत्कारिक है।नलखेड़ा. पृथ्वीलोक में माता बगलामुखी तीन स्थानों पर विराजमान है, जो दतिया (मध्यप्रदेश), कांगड़ा (हिमाचल) तथा नलखेड़ा (मध्यप्रदेश) में हैं। नलखेड़ा में तीन मुखों वाली त्रिशक्ति माता बगलामुखी का मंदिर लखुंदर नदी के किनारे स्थित है। ऐसी मान्यता है कि मध्य में मां बगलामुखी, दाएं मां महालक्ष्मी और बाएं मां सरस्वती विराजमान हैं। मां बगलामुखी का त्रिशक्ति स्वरूप में मंदिर भारत में और कहीं नहीं है। द्वापर युगीन यह मंदिर अत्यंत चमत्कारिक है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम आयुष्मान भारत को मोदी कैबिनेट की मंजूरी

नई दिल्ली। सरकार ने महत्वाकांक्षी मोदी केयर योजना को औपचारिक मंजूरी दे दी है। पीएम नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को कैबिनेट मीटिंग में इसे मंजूरी दी गई। इसे सरकार ने नैशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत आयुष्मान भारत नाम दिया है। इस योजना पर अगले दो साल तक 10,500 करोड़ रुपये खर्च आएगा, जिसे 60 फीसदी केंद्र और 40 फीसदी राज्य सरकार वहन करेगी। इस योजना को विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना माना जा रहा है। दावा किया गया है कि 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। साथ ही यह कैशलेस सुविधा होगी। बीमा कवर के लिए उम्र की भी बाध्यता नहीं रहेगी। इसके लिए देशभर में 1.5 लाख स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे। मोदी सरकार 2019 में इसी योजना की बदौलत आम चुनाव लड़ना चाहती है।नई दिल्ली। सरकार ने महत्वाकांक्षी मोदी केयर योजना को औपचारिक मंजूरी दे दी है। पीएम नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को कैबिनेट मीटिंग में इसे मंजूरी दी गई। इसे सरकार ने नैशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत आयुष्मान भारत नाम दिया है। इस योजना पर अगले दो साल तक 10,500 करोड़ रुपये खर्च आएगा, जिसे 60 फीसदी केंद्र और 40 फीसदी राज्य सरकार वहन करेगी। इस योजना को विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना माना जा रहा है। दावा किया गया है कि 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। साथ ही यह कैशलेस सुविधा होगी। बीमा कवर के लिए उम्र की भी बाध्यता नहीं रहेगी। इसके लिए देशभर में 1.5 लाख स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे। मोदी सरकार 2019 में इसी योजना की बदौलत आम चुनाव लड़ना चाहती है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare