स्वरुपानंद महाविद्यालय में आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ की बैठक

स्वरुपानंद महाविद्यालय में आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ की बैठकभिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको के आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ के स्टेक होल्डर्स की बैठक संपन्न हुई। बैठक में श्री गंगाजली शिक्षण समिति की अध्यक्ष श्रीमती जया मिश्रा प्रबंधन सदस्य थीं। अध्यक्षता प्राचार्या डॉ. हंसा शुक्ला ने की। डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव, स.प्रा. साईंस कॉलेज, डॉ. अनिता सहगल, स.प्रा. गल्र्स कॉलेज दुर्ग से बाह्य विशेषज्ञ के रुप में उपस्थित थे। मीटिंग में अब्लान सिन्हा (मिडीया पर्सन), अतुल तिवारी, (प्रशासनिक अधिकारी), स.प्रा. मनोज पाण्डेय (टीपीओ) के साथ भविष्या तलरेजा (छात्रा), चेतना गौर (भूतपूर्व छात्रा) भी उपस्थित थे।स्वरुपानंद महाविद्यालय में आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ की बैठकस्टेक होल्डर्स के समक्ष आईक्यूएसी संयोजिका डॉ. ज्योति उपाध्याय स.प्रा. कम्प्यूटर विभाग ने वर्ष भर में आईक्यूएसी की तरफ से महाविद्यालय में होने वाली गतिविधियों को सदस्यों के समक्ष रखा। श्रीमती जया मिश्रा ने महाविद्यालय में होने वाली गतिविधियों की सराहना करते हुए कहा कि उच्चस्तरीय गतिविधियााँ महाविद्यालय की प्रगति में सहायक होती है। इसके साथ-साथ उन्होंने इंडस्ट्रीयल ट्रेनिंग, एजुकेषनल टूर को बढ़ाने का सुझाव दिया, उन्होने ट्रेनिंग एण्ड प्लेसमेंट सेल के द्वारा विद्यार्थियों की कम्यूनिकेशन स्किल डेवलप करने का भी सुझाव दिया तथा कहा कि कम्प्यूनिकेशन स्किल का मतलब अंग्रेजी आने से नहीं है हम खुद को कितना अच्छे से प्रस्तुत कर पाते है वो ज्यादा महत्व रखता हैं।
डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने शोध पब्लिकेशन तथा शोध प्रोजेक्ट पर ध्यान देने का सुझाव दिया तथा विभिन्न एजेंसियों में प्रोजेक्ट के प्रस्ताव भेजने का सुझाव दिया, उन्होंने कहा कि छात्रों को भी शोध के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए और प्रतियोगी परीक्षाओं की नि:शुल्क कक्षाए महाविद्यालय के शिक्षकों द्वारा चलाई जा रही है जिससे गरीब बच्चों को कहीं ना कहीं लाभ प्राप्त होगा।
डॉ. अमिता सहगल ने छात्राओं को कानूनी अधिकार से अवगत कराने के लिये कार्यशाला करवाने की सलाह दी तथा कहा की महाविद्यालय में साईकोलॉजी काउंसलिंग की सुविधा भी होनी चाहिए जो एक प्रशिक्षित कांउसलर द्वारा हो। डॉ. सहगल ने महाविद्यालय में होने वाले आत्म सुरक्षा कार्यषाला की सराहना करते हुये कहा कि एैसे कार्यषाला छात्राओं का आत्म विष्वास बढ़ाने के लिये सहायक होती है।
प्राचार्य डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने बताया कि महाविद्यालय से कुछ रिसर्च प्रोजेक्ट सबमिट हो चुके है तथा हम आगे इसके लिए प्रयासरत है। कॉलेज में छात्राओं के लिए समय-समय पर सेल्फ डिफेंस की कार्यशाला हेल्थ चेकअप कैंप लगाए जाते है। साथ ही प्राचार्य ने सदस्यों के बहुमुल्य सुझावों के लिए धन्यवाद दिया।
आई.क्यू.ए.सी. की कोर कमिटी से श्रीमती शैलजा पवार स.प्रा. एजुकेशन, कु. श्वेता निर्मलकर स.प्रा. मैथ्स, कु. टी. बबीता स.प्रा. फिजिक्स, श्री जिगर भावसार स.प्रा. कम्प्यूटर साईंस मीटिंग में उपस्थित थे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>