प्रदर्शनियों से शिल्पकारों से साथ ही ग्राहक भी होते हैं लाभान्वित : मनीष

Youngistan Chairman Manish Pandey inaugurates Silk Expo at Civic Centre Bhilai

भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके साथ मिस इंडिया यूनिवर्स दलजीत कौर भी उपस्थित थीं। श्री पाण्डेय ने कहा कि ऐसी प्रदर्शनियों का शिल्पकार और ग्राहक दोनों का लाभ मिलता है। प्रदशर्नी का अवलोकन करने के पश्चात मनीष पाण्डेय ने कहा कि हस्तशिल्प प्रदर्शनियों से देश की हस्तकला की विरासत सुरक्षित रहती है। Manish Pandey inaugurates Silk Expo at Civic Centre Bhilaiश्री पाण्डेय ने कहा कि ऐसी प्रदर्शनियों में माटी कला, शिल्प कला, वस्त्र कला सभी तरह के उत्पादों को प्रदर्शित किया जाता है। प्रदर्शनियों से एक तरफ जहां शहरी लोगों को देश के कोने-कोने में कलाकारों द्वारा बनाए गए उत्पादों को देखने और खरीदने का मौका मिलता है वहीं इन शिल्पियों को भी अपने उत्पाद की बेहतर कीमत मिल जाती है।
श्री कृष्णा हस्तशिल्प ग्रामोद्योग सेवा समिति द्वारा आयोजिस इस प्रदर्शनी का अवलोकन करने के बाद मिस इंडिया यूनिवर्स दलजीत कौर ने कहा कि वे एक एनजीओ का प्रतिनिधित्व करती हैं। उनका एनजीओ हस्तशिल्पियों के लिए काम करता है। इसमें सभी तरह के शिल्पों को शामिल किया गया है। इसके अलावा उन्हें संयुक्त राष्ट्र की ओर से महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के खिलाफ ब्रैंड एम्बेसेडर बनाया गया है। साथ ही वे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ आंदोलन से भी जुड़ी हुई हैं।
Miss India Universe Daljeet Kaurमिस यूनिवर्स ने कहा कि फैशन इंडस्ट्री से जुड़ी होने के कारण उनकी रुचि हमेशा ही देश के कोने कोने में हाथ करघे पर बनाए जाने वाले विशुद्ध देसी वस्त्रों में रही है। वे इन प्रदर्शनियों में जाकर आर्टिसन्स का हौसला बढ़ाने के साथ साथ खरीदारी भी करती हैं।
इस अवसर पर फैशनिस्ता की संचालक मैगी पिंकी दोषी, राज एडवरटाइजर्स के संचालक श्री राजा, राजेन्द्र नायक सहित बड़ी संख्या में कला प्रेमी और ग्राहक प्रदर्शनी में उपस्थित थे।
यहां प्रदर्शित मास्टर क्राफ्ट्समैन द्वारा तैयार किए गए विभिन्न वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया है। इसमें वस्त्र, परदे, जूलरी, सजावटी सामान, कालीन, फोल्डिंग बेड कम सोफा आदि को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>