भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

 

Daily Archives: September 5, 2018

राष्ट्रीय एबेकस कॉम्पटिशन में भिलाई की इशानिका फिफ्थ रनरअप, रेहान और आशुतोष प्रावीण्य सूची में 

ABACUS competitionभिलाई। हाल ही में गुजरात के अहमदाबाद में सम्पन्न 17वीं राष्ट्रीय एबेकस एण्ड मेंटल अरिथमेटिक कॉम्पटिशन में मैत्री कुंज रिसाली इग्नाइटेड माइंट की छात्रा इशानिका खण्डेलवाल ने जेड-1 केटेगरी में फिफ्थ रनरअप का खिताब जीता तथा आशुतोष तिवारी और शेख रेहान ने प्रावीण्य सूची में अपना स्थान बनाया है। अक्षत सिंह, पूर्वी नेताम और नम्या सबलोक ने भी उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। 1 और 2 सितम्बर को अहमदाबाद में यह प्रतियोगिता पांच चरणों में हुई जिसमें भारत के 25 राज्यों से कुल 7 हजार प्रतियोगियों ने भाग लिया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्वरूपानंद कालेज की अजीता सजीत को पीएचडी उपाधि

Dr Ajitha Sajith awarded PhDभिलाई। डॉ. श्रीमती अजीता सजीत को रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय द्वारा उनके शोध पत्र भिलाई एवं रायपुर में शहरी महिला सहकारी बैंकों के तुलनात्मक अध्ययन पर पीएचडी की उपाधि प्रदान की गई। डॉ. अजीता सजीत ने अपना शोध कार्य डॉ. आर.पी. अग्रवाल विभागाध्यक्ष वाणिज्य कल्याण महाविद्यालय के निर्देषन में पूरा किया। को-गाईड डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला प्राचार्य, स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय भिलाई थी। डॉ. अजीता सजीत बीएसपी फाउड्री एण्ड पेटन शाप में कार्यरत जी. सजीत की पत्नी है। वर्तमान में स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय भिलाई में स.प्रा. वाणिज्य के पद पर कार्यरत है। उनकी इस उपलब्धि पर उनके परिवार के सदस्यों व गंगाजली शिक्षण समिति के अध्यक्ष आई.पी. मिश्रा, स्वरुपानंद के सी.ओ.ओ. डॉ. दीपक शर्मा ने बधाई दी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

भिलाई महिला महाविद्यालय के बी.एड. प्रशिक्षुओं ने मनाया शिक्षक दिवस

Bhilai Mahila Mahavidyalayaभिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय के बीएड प्रशिक्षुओं द्वारा शिक्षक दिवस समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती की वंदना, अचर्ना तथा डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर कॉलेज की प्राचार्या डॉ. जेहरा हसन ने अपने उद्बोधन में शिक्षक को देश का वास्तविक निर्माता निरूपित किया जो कि विद्याथिर्यों की गल्तियों में सुधार कर उनकी खूबियों को निखारता है और आने वाले कल को आज से बेहतर बनाता है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय की नीता शर्मा को डाक्टरेट की उपाधि

Dr Neeta Sharma awarded PhDभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी की सहायक प्राध्यापक श्रीमती नीता शर्मा को उनके शिक्षा विषय पर पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर द्वारा डाक्टर आॅफ फिलॉसफी प्रदान किया गया। उनकी शोध निर्देशक डॉ. शीला विजय (सहायक प्राध्यापक, डॉ. खूबचंद बघेल शासकीय पी.जी. महाविद्यालय) तथा सह निर्देशक डॉ. प्रतिभा मुखर्जी साहूकार (सहायक प्राध्यापिका, दुर्गा महाविद्यालय, रायपुर) रहे। इस उपलब्धि पर श्री गंगाजली शिक्षण समिति के संरक्षक आई.पी. मिश्रा, अध्यक्ष श्रीमती जया मिश्रा, महाविद्यालय के अतिरिक्त निदेशक डॉ. जे. दुर्गा प्रसाद राव, महाविद्यालय की प्राचार्या एवं निदेशक डॉ. रक्षा सिंह एवं विभागाध्यक्ष अंग्रेजी विभाग के डॉ. राहुल मेने साथी प्राध्यापकों एवं गैर शैक्षणिकों ने बधाई एवं शुभकामनाएँ प्रेषित कर हर्ष व्यक्त किया है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलें शिक्षक, आएंगे सुखद नतीजे : श्रीलेखा

MJ College Teachers Dayभिलाई। एमजे कालेज की निदेशक श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर ने शिक्षक दिवस के मौके पर आज शिक्षकों का आह्वान किया कि वे अपने कम्फर्ट जोन से निकलें। उन्होंने अपने अनुभवों एवं ज्ञान से बच्चों को तराशने का अवसर मिला है। इसका सदुपयोग कर बेहतर नागरिक गढ़ने में अपना योगदान करें। श्रीमती विरुलकर महाविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा आयोजित शिक्षक दिवस समारोह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने दो बाजों की कहानी सुनाते हुए अपनी बात को रेखांकित किया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

माटीशिल्प : एमजे कालेज के बच्चों ने बनाई खूबसूरत गणेश प्रतिमाएं

MJ College Mati Shilpभिलाई। एमजे कालेज के बच्चों ने दो दिवसीय माटीशिल्प कार्यशाला में सुन्दर गणपति प्रतिमाओं का निर्माण किया। कार्यशाला के आज दूसरे दिन उन्होंने गणपति प्रतिमाओं की रंगाई और साज सज्जा की। इन प्रतिमाओं की खूबसूरती देखते ही बनती थी। बच्चों को माटीशिल्प का यह प्रशिक्षण फाइन आर्ट्स कलाकार राजेन्द्र सुनगारिया ने दिया। उन्होंने बताया कि ये सभी गणेश प्रतिमाएं शुद्ध मिट्टी से बनाई गई हैं और पूजन योग्य हैं। ये मूर्तियां लोगों को मिट्टी की प्रतिमाओं की पूजा करने के लिए प्रेरित करेंगी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

श्रीशंकराचार्य में शिक्षक दिवस पर श्रीगणेश पर हस्तकला की प्रदर्शनी

SSMV Ganesh Exhibitionभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रथम पूज्य एवं बुद्धि के देवता श्रीगणेश पर आधारित हस्तकला प्रदर्शनी का आयोजन डॉ रोहिणी पाटणकर के सहयोग से दिव्यांगों की सहायता हेतु किया गया। विभिन्न प्रकार की कलाकृतियों ने शिक्षकों एवं छात्रों को अपनी ओर आकर्षित किया। महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. रक्षा सिंह, अति. निदेशक डॉ. जे.दुर्गा प्रसाद, साहित्यकार विनोद मिश्र एवं डॉ रोहिणी पाटणकर पालक शिक्षक संघ के अध्यक्ष मनोज जैन, उपाध्यक्ष मनहरण ध्रुव के द्वारा फीता काटकर प्रदशर्नी का शुभारंभ किया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एसिडिटी के रैंडम इलाज से किडनी लिवर हो सकते हैं खराब, कैंसर का भी खतरा

Gastric medicineइंदौर। भारत में एसिडिटी की समस्या अब आम होती जा रही है। लोग इससे बचने के लिए बिना डॉक्टर से सलाह लिए दवाइयां लेते हैं। डॉक्टर भी जरूरत से अधिक दवाइयां लिख रहे हैं। इससे लिवर और किडनी दोनों पर बुरा असर पड़ता है। लापरवाही से गलत दवाइयां लेने से कैंसर जैसी बीमारी भी हो सकती है। इसलिए लंबे समय तक ये दवाइयां लेने से बचें। यह बात इंडियन सोसायटी आॅफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी एमपी- सीजी चैप्टर कॉन्फ्रेंस में एशियन इंस्टिट्यूट आॅफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के चेयरमैन पद्मभूषण डॉ. नागेश्वर रेड्डी ने कही। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare