ज्यों-ज्यों बढ़ रहे प्रवचन, भागवत ; बढ़ रही थानों की संख्या : ताम्रध्वज

डॉ सुजाता दास की पुस्तक ‘ब्रिटिश युगीन बस्तर’ का विमोचन

Dr Ratan Lal Dangiभिलाई। राज्य के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने रविवार को सीएआई भवन में पुलिस अधिकारी डॉ सुजाता दास की पुस्तक ‘ब्रिटिश युगीन बस्तर’ का विमोचन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह एक विडम्बना है कि बस्तर को हममे से किसी ने भी समझने की कोशिश नहीं की। छिटपुट घटनाओं की खबरों के आधार पर हमने अपने दिमाग में बस्तर की धुंधली सी तस्वीर बना ली है। यह कुछ-कुछ वैसा ही जैसे कि प्रवचन, भागवत की बाढ़ के बीच थानों और अदालतों का बढ़ते जाना।गृहमंत्री ने कहा कि सतही बातें किसी समस्या का हल नहीं हो सकतीं। 25 साल पहले गांव में एक ही मंदिर होता था, शीतला माता का। अब प्रत्येक गांव में 20-25 मंदिर हैं। कभी साल में दो चार भागवत या प्रवचन होते थे। पर आज यह 12 मासी कार्यक्रम हो गया है। वर्षाकाल में भी वाटरप्रूफ डोम बनाकर प्रवचन भागवत हो रहा है। टीवी पर कई कई चैनल 24 घंटे धर्म की शिक्षा दे रहे हैं। पर इसका समाज पर कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है। अपराध बढ़ रहे हैं, थानों की संख्या लगातार बढ़ रही है, अदालतों में केसों का अंबार लग रहा है।
उन्होंने कहा कि यह एक सुखद आश्चर्य का विषय है कि एक पुलिस अधिकारी ने शोध परक ग्रंथ की रचना की है। वे आशा करते हैं कि इससे पुलिस के अधिकारियों को बस्तर का इतिहास जानने में सुविधा होगी। हम अपना इतिहास जाने आगे कदम नहीं बढ़ा सकते।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए आईजी दुर्ग रेंज रतन लाल डांगी ने बस्तर में ब्रिटिश काल एवं उससे भी पहले हुए बदलावों की चर्चा की। उन्होंने तिथिवार घटनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि बस्तर में हालात बदल रहे हैं और नक्सलवाद को खत्म करने में भी सफलता मिलेगी। उन्होंने डॉ सुजाता दास एवं उनके शोध निदेशक डॉ एमए खान के निष्कर्ष से असहमति व्यक्त करते हुए कहा कि तथ्य अपनी जगह हैं पर नक्सलवाद का एकमात्र कारण वही नहीं है जैसा कि समाज का एक वर्ग समझता है।
कार्यक्रम में रविवि के इतिहास विभाग के अध्यक्ष डॉ नरेन्द्र नाथ मिश्र, सेवानिवृत्त इतिहासकार डॉ एमए खान, जिला पुलिस अधीक्षक प्रखर पाण्डेय ने भी समारोह को संबोधित किया। कार्यक्रम का खूबसूरत संचालन अपनी विशिष्ट शैली में सुप्रियो सेन ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *