भिलाई। मिसेज यूनिवर्स की फाइनलिस्ट शिखा साहू का मानना है कि बड़ा लक्ष्य साधना हो तो जहां से भी अवसर मिले शुरुआत कर देनी चाहिए। More »

भिलाई। माँ शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट के सदस्य डॉ. संतोष राय ने बताया कि माँ शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट की वार्षिक सभा एवं मेम्बर्स मीट More »

भिलाई। भूपेश बघेल 10-11 अगस्त, 2019 को शिकागो अमेरिका में प्रथम एनआरआई छत्तीसगढ़ सम्मेलन के मुख्य अतिथि होंगे। उत्तरी अमेरिका छत्तीसगढ़ संघ (नाचा) द्वारा आयोजित More »

सार्वजनिक नीति और सुशासन को बताया लोककल्याण के लिए जरूरी भिलाई। विजन इंडिया फाउंडेशन द्वारा आयोजित पॉलिसी बूटकैम्प 2019 में युवा नेतृत्व कर्ताओं के साथ More »

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी में दस दिवसीय योग प्रशिक्षण का कार्यक्रम, योग प्रशिक्षक अरूण अग्रवाल (बिहार योग विद्यालय से प्रशिक्षित एवं वर्तमान में कबीर More »

 

Daily Archives: April 28, 2019

पल्स हॉस्पिटल में शिशु पालन पर महत्वपूर्ण कार्यशाला का आयोजन

Pulse Hospital Parenting workshopभिलाई। शिशु को बुखार आने पर माता पिता आतंकित न हों। बुखार संक्रमण से शरीर के संघर्ष के कारण आता है। बुखार होने पर तुरंत दवा देने से भी बचें। यदि शिशु लगातार रो रहा हो और किसी भी उपक्रम से शांत न हो रहा हो तो तुरन्त डॉक्टर के पास लेकर जाना चाहिए। इसी तरह के सवाल जवाबों के बीच पल्स हॉस्पिटल में आज प्रेम एवं ज्ञान के साथ शिशु की देखभाल पर एक बेहद उपयोगी कार्यशाला का आयोजन किया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

सीपीआर देकर युवक की जान बचाने वाले बालकों का पल्स हॉस्पिटल ने किया सम्मान

School Boys save life of youth by giving CPR for 20 minutesभिलाई। सीपीआर देकर एक युवक की धड़कनों को दोबारा शुरू करने वाले दो स्कूली बालकों का पल्स हॉस्पिटल ने आज सम्मान किया। युवक ने अपने घर के पीछे फांसी लगाकर जान देने की कोशिश की थी। जब उसे उतारा गया तो उसके दिल की धड़कनें थम चुकी थीं और सांस भी नहीं चल रही थी। तब इन दो बालकों ने उसके सीने पर लगातार कार्डियो पल्मोनरी रेससिटेशन (सीपीआर) देकर उसकी धड़कनों को दोबारा शुरू कर दिया था।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

देश में पौने तीन करोड़ दंपति निस्संतान, 2020 में हो सकता है 10 फीसदी इजाफा

Infertilityनई दिल्ली। बेंगलुरू के एक मेडिकल टेक्नोलॉजी कंपनी के अध्ययन के अनुसार देश में दो करोड़ 75 लाख ऐसे दंपती हैं जो निस्संतान हैं तथा उन्हें बच्चे की चाहत है। 2020 तक इस आंकड़े में 10 फीसदी और इजाफा होने का अनुमान है। नर्चर आईवीएफ सेंटर की आईवीएफ एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ अचर्ना धवन बजाज कहती हैं कि स्वास्थ्य बीमा योजना अगर सभी प्रजनन प्रक्रिया, उपचार और अन्य देख रेख का कवर देता है तो यह प्रभावित दंपत्तियों के लिए वरदान साबित होगा जिनके पास उन्नत इलाज कराने की आर्थिक क्षमता नहीं है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्नातकोत्तर परीक्षाओं में गर्ल्स कालेज की छात्राओं का उत्कृष्ट रहा प्रदर्शन

Girls PG College Meritदुर्ग। शासकीय डॉ. वा. वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय दुर्ग की छात्राओं ने दिसंबर 2018 में आयोजित की गई हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग की सेमेस्टर परीक्षाओं में उत्कृष्ठ परिणाम दिया है। गृहविज्ञान संकाय का परीक्षाफल शतप्रतिशत रहा। एम.एससी गृहविज्ञान प्रथम सेमेस्टर में कु. अनंदिता बिश्वास ने सर्वाधिक 84.4 प्रतिशत अंक प्राप्त किये। एम.एससी तृतीय सेमेस्टर में कु. कुसुमलता ने सर्वाधिक 75.8 प्रतिशत अंक प्राप्त किये। एम.ए. गृहविज्ञान तृतीय सेमेस्टर में कु. जेमिनी सरगम ने 65 प्रतिशत अंक प्राप्त किया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

चार साल में रोके 1377 बाल विवाह, अक्षय तृतीया पर रहेगी खास नजर

1377 child marriages stopped in CGबेमेतरा। महिला एवं बाल विकास विभाग ने छत्तीसगढ़ में पिछले 4 वर्षों में लगभग एक हजार 377 बाल विवाह रोकने में सफलता पाई है। इस वर्ष भी महिला एवं बाल विकास विभाग ने समन्वित प्रयास और सामाजिक सहयोग से बाल विवाह रोकने की तैयारी कर ली है। अक्षय तृतीया के अवसर पर बाल विवाह कराए जाने की संभावना सर्वाधिक होती है। विभाग ने इस पर अंकुश लगाने के लिए गांव-गांव में अपना नेटवर्क फैला दिया है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एईआरबी प्रायोजित राष्ट्रीय सेमीनार में एमजे की सीमा को द्वितीय पुरस्कार

AERB Prize to Seema Kashyapभिलाई। एटमिक एनर्जी रेगुलेटरी बोर्ड (एईआरबी) द्वारा प्रायोजित राष्ट्रीय सेमीनार में एमजे कालेज आफ फार्मेसी की सीमा कश्यप को उनके प्रजेन्टेशन के लिए द्वितीय पुरस्कार प्रदान किया गया। इस सेमीनार का आयोजन रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट आफ फार्मेसी द्वारा किया गया था। सीमा को यह पुरस्कार रीसेन्ट अडवांसमेन्ट्स एंड हजार्ड्स आफ रेडियो फार्मास्युटिकल्स इन डिजीज मैनेजमेंट पर उनकी प्रस्तुति के लिए दिया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

ब्रह्माकुमारीज उत्कर्ष समर कैम्प में भीतर के प्रकाश से परिचित हुए बच्चे

Brahmakumari Summer Campभिलाई। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के पीस ऑडिटोरियम में कक्षा छठवीं, सातवीं एवं आठवीं के विद्यार्थियों के लिये आयोजित उत्कर्ष समर कैम्प -19 के चौथे दिन टच द लाईट प्रोग्राम कि शिक्षिका शिखा भटनागर ने इनर ब्यूटी यानि आंतरिक सुंदरता विषय पर सम्बोधित करते हुए कहा कि हर चमकती हुई चीज सोना नहीं होती एक समय बाद वह अपनी चमक खो देता है पर असली सोना सदा चमकता रहता है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare