सार्वजनिक नीति और सुशासन को बताया लोककल्याण के लिए जरूरी भिलाई। विजन इंडिया फाउंडेशन द्वारा आयोजित पॉलिसी बूटकैम्प 2019 में युवा नेतृत्व कर्ताओं के साथ More »

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी में दस दिवसीय योग प्रशिक्षण का कार्यक्रम, योग प्रशिक्षक अरूण अग्रवाल (बिहार योग विद्यालय से प्रशिक्षित एवं वर्तमान में कबीर More »

दुर्ग। शासकीय डॉ. वा. वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय दुर्ग में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में ग्रीन आॅडिट में प्राप्त सुझावों More »

भिलाई। गर्भधारण से लेकर एक शिशु को जन्म देने का सर्वाधिकार उसकी मां के पास सुरक्षित होता है। स्वयंसिद्धा समूह ने एक मां के संघर्ष More »

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

 

Daily Archives: June 8, 2019

एमजे कालेज में एसडीआरएफ की टीम ने दी प्रस्तुति, आपदा से निपटना सिखाया

भिलाई। एमजे कालेज में आज स्टेट डिसास्टर रिस्पांस फोर्स एसडीआरएफ ने अपनी प्रस्तुति दी। फोर्स के डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट एसडी विश्वकर्मा, कंपनी कमांडेंट व प्रभारी जेएल देशमुख तथा फायर सेफ्टी ऑफिसर माइकल सेंटियागो ने आग से निपटने, बाढ़ में बचाव कार्य एवं उपलब्ध संसाधनों से स्ट्रेचर, डूबने से बचने के फौरी उपायों की जानकारी दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय की निदेशक श्रीलेखा विरुलकर ने की। उन्होंने कहा कि लोगों को आपदा प्रबंधन की तकनीकों को स्वयं भी सीखना चाहिए तथा अपने आसपास के लोगों को भी सिखाना चाहिए।भिलाई। एमजे कालेज में आज स्टेट डिसास्टर रिस्पांस फोर्स एसडीआरएफ ने अपनी प्रस्तुति दी। फोर्स के डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट एसडी विश्वकर्मा, कंपनी कमांडेंट व प्रभारी जेएल देशमुख तथा फायर सेफ्टी ऑफिसर माइकल सेंटियागो ने आग से निपटने, बाढ़ में बचाव कार्य एवं उपलब्ध संसाधनों से स्ट्रेचर, डूबने से बचने के फौरी उपायों की जानकारी दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय की निदेशक श्रीलेखा विरुलकर ने की। उन्होंने कहा कि लोगों को आपदा प्रबंधन की तकनीकों को स्वयं भी सीखना चाहिए तथा अपने आसपास के लोगों को भी सिखाना चाहिए।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

गुरूजी बनने-बनाने की जद्दोजहद, जो इसमें पास, उसे ही नौकरी

बेमेतरा। शुक्रवार को प्री बीएड और प्री डीएड की परीक्षाओं का आयोजन राज्यभर में किया गया। बेमेतरा के भी तीन केन्द्रों पर परीक्षा थी। सैकड़ों की संख्या में दूर-दूर से परीक्षार्थी एवं उनके पालकगण पहुंचे थे। न पानी, न पंखा और न पेड़ों की छांव - गुरुजी बनने और गुरुजी बनाने की जद्दोजहद में लोग नालियों पर सोते मिले। शुक्रवार को सुबह से ही पूरे बेमेतरा में बिजली बंद थी। बिजली बंद होने का नए भवनों में क्या मतलब होता है, इसका अनुभव सभी को हो गया। बिजली बंद मतलब पंखा नहीं, लाइट नहीं, पानी नहीं।बेमेतरा। शुक्रवार को प्री बीएड और प्री डीएड की परीक्षाओं का आयोजन राज्यभर में किया गया। बेमेतरा के भी तीन केन्द्रों पर परीक्षा थी। सैकड़ों की संख्या में दूर-दूर से परीक्षार्थी एवं उनके पालकगण पहुंचे थे। न पानी, न पंखा और न पेड़ों की छांव – गुरूजी बनने और गुरूजी बनाने की जद्दोजहद में लोग नालियों पर सोते मिले। शुक्रवार को सुबह से ही पूरे बेमेतरा में बिजली बंद थी। बिजली बंद होने का नए भवनों में क्या मतलब होता है, इसका अनुभव सभी को हो गया। बिजली बंद मतलब पंखा नहीं, लाइट नहीं, पानी नहीं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare