भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

भिलाई। कृष्णा पब्लिक स्कूल कुटेलाभाटा ने 73वां स्वतंत्रता दिवस खुले, स्वच्छंद आकाश में ध्वजारोहण करते हर्षोल्लास के साथ मनाया। इस समारोह में स्कूल की बैण्ड More »

भिलाई। संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशंस द्वारा संचालित रूंगटा पब्लिक स्कूल में 15 अगस्त को स्कूल प्रांगण में कक्षा नसर्री से पहली तक के बच्चों द्वारा More »

भिलाई। डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल सेक्टर -2 में रक्षाबंधन मनाया गया। इस त्यौहार को अग्रिम रूप से कक्षा नसर्री, एलकेजी तथा यूकेजी के छात्रों ने More »

 

Daily Archives: June 17, 2019

पेशाब रोकने में कठिनाई कर सकती है परेशान, पूर्ण इलाज संभव : डॉ दारूका

Urologist Dr Naveen Darukaभिलाई। चलते-फिरते या झुककर कोई सामान उठाने पर कभी भी पेशाब का निकल आना एक परेशान करने वाली शारीरिक अवस्था है। रोगी न केवल असहज हो जाता है बल्कि कई बार उसे शर्मिन्दगी भी उठानी पड़ती है। इस तरह की स्थिति का सामना कर रहे लोगों का सामाजिक जीवन बुरी तरह से प्रभावित हो जाता है। वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डॉ नवीन राम दारूका ने बताया कि आधुनिक चिकित्सा पद्धति में इसका पूर्ण इलाज संभव है। इसका इलाज दवाओं से, कसरत द्वारा या सर्जरी द्वारा की जाती है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

इंदु आईटी के 9 बच्चों ने क्रैक किया जेईई मेन्स, 4 एडवांस में भी सफल

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल के 4 बच्चों ने जेईई एडवांस में सफलता हासिल की है। इससे पहले 9 बच्चों ने जेईई मेन्स क्रैक किया था। विदित हो कि जेईई का आयोजन देश के शीर्ष अभियांत्रिकी महाविद्यालयों में प्रवेश के लिए किया जाता है जहां से आईआईटी में जाने का रास्ता खुलता है। बच्चों की इस सफलता पर इंदु आईटी स्कूल प्रबंधन ने उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।भिलाई। इंदु आईटी स्कूल के 4 बच्चों ने जेईई एडवांस में सफलता हासिल की है। इससे पहले 9 बच्चों ने जेईई मेन्स क्रैक किया था। विदित हो कि जेईई का आयोजन देश के शीर्ष अभियांत्रिकी महाविद्यालयों में प्रवेश के लिए किया जाता है जहां से आईआईटी में जाने का रास्ता खुलता है। बच्चों की इस सफलता पर इंदु आईटी स्कूल प्रबंधन ने उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare