श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़ फाइन आर्ट्स में एक्सप्लोरिंग पब्लिसिटी का आयोजन

भिलाई। श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़ फाइन आर्ट्स एंड कम्युनिकेशन में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जनसंचार में इंटीरियर डिजाइनिंग में फैशन डिजाइनिंग में किस तरह के रोजगार के संभावनाएं हैं, विषय पर विशेषज्ञों ने अपनी बात रखी। विशेषज्ञ के रूप में आये तन्मय पटेल ने कहा की जनसंचार एक ऐसा माध्यम है जिसमे व्यक्ति अपनी एक्टिविटी का प्रदर्शन कर सकता है। दर्पण परमार ने इंटीरियर डिजाइनिंग और ग्राफिक डिजाइनिंग पर अपने विचार व्यक्त किया।भिलाई। श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़ फाइन आर्ट्स एंड कम्युनिकेशन में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जनसंचार में इंटीरियर डिजाइनिंग में फैशन डिजाइनिंग में किस तरह के रोजगार के संभावनाएं हैं, विषय पर विशेषज्ञों ने अपनी बात रखी। विशेषज्ञ के रूप में आये तन्मय पटेल ने कहा की जनसंचार एक ऐसा माध्यम है जिसमे व्यक्ति अपनी एक्टिविटी का प्रदर्शन कर सकता है। दर्पण परमार ने इंटीरियर डिजाइनिंग और ग्राफिक डिजाइनिंग पर अपने विचार व्यक्त किया। छात्रों के प्रश्नों के जवाब देते हुए खुशबू कक्कड़ ने बताया की सोच की माध्यम से हम लोगो को उनके सपनो की महल का डिजाइन तैयार करके दिखा सकते है हमारा मुख्य उद्देश्य क्लाइंट की डिमांड को पूरी करके उसे संतुस्ट करना होता है।
इस अवसर पर श्री शंकराचार्य टेक्निकल कैंपस, भिलाई के निदेशक डॉ पी बी देशमुख ने बताया कि आज की छात्रों को ऐसा पाठ्क्रम चुनना है जो उन्हें रोजगार दे। श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट आॅफ फाइन आर्ट्स एंड कम्युनिकेशन महाविद्यालय, जुनवानी, भिलाई ने तीनों पाठ्क्रम क्रमश: मास कम्युनिकेशन, फैशन डिजाइनिंग, इंटीरियर डेकोरेसन्स तीनो ही पाठ्क्रम प्रैक्टिकल ओरिएंटेड हैं और इसमें छात्रों को रोजगार की असीम सम्भावनाये हैं। कॉलेज की अध्यक्ष जया मिश्रा ने कहा की छात्रों की रूचि को ध्यान में रखकर कुछ शॉर्टटर्म कोर्स भी डिजाइन किया गया है जिसका लाभ ज्यादा से ज्यादा छात्र ले सकते हैं। कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन डॉ कमल मेहता ने किया और कार्यक्रम का संचालन डॉ आकाँक्षा दुबे और मनीषा रोशन ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *