स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में नवप्रवेशित विद्यार्थियों का ओरिएंटेशन

भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय की आईक्यूएसी द्वारा नवप्रवेशित विद्यार्थियों के लिये ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप, उपकुलसचिव (अकादमिक विभाग) हेमचन्द यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग उपस्थित हुए। प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप ने विद्यार्थियों से कहा कि आप अपने लक्ष्य में डटे रहें। मैं लगातार संघर्ष करता रहा तब यह पद प्राप्त किया। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि समय प्रबंधन करे अपने आप से कम्पीटिशन करें। आप अपना 100 प्रतिशत दें तभी आपको सफलता मिलेगी। भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय की आईक्यूएसी द्वारा नवप्रवेशित विद्यार्थियों के लिये ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप, उपकुलसचिव (अकादमिक विभाग) हेमचन्द यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग उपस्थित हुए। प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप ने विद्यार्थियों से कहा कि आप अपने लक्ष्य में डटे रहें। मैं लगातार संघर्ष करता रहा तब यह पद प्राप्त किया। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि समय प्रबंधन करे अपने आप से कम्पीटिशन करें। आप अपना 100 प्रतिशत दें तभी आपको सफलता मिलेगी। भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय की आईक्यूएसी द्वारा नवप्रवेशित विद्यार्थियों के लिये ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप, उपकुलसचिव (अकादमिक विभाग) हेमचन्द यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग उपस्थित हुए। प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप ने विद्यार्थियों से कहा कि आप अपने लक्ष्य में डटे रहें। मैं लगातार संघर्ष करता रहा तब यह पद प्राप्त किया। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि समय प्रबंधन करे अपने आप से कम्पीटिशन करें। आप अपना 100 प्रतिशत दें तभी आपको सफलता मिलेगी। डॉ. भूपेन्द्र कुलदीप ने विद्यार्थियों से कहा कि  मेहनत व ज्ञान ऐसा हो कि नौकरी आपके पीछे-पीछे आये। अपने स्किल डेवलपमेंट पर ध्यान दे। पी.एस.सी. की परीक्षा की तैयारी बिलकुल अलग है इनकी तैयारी 12वीं के बाद से ही करना चाहिए। सही निर्देशन व समय प्रबंध कर आप लक्ष्य प्राप्ति के लिये अग्रसर हो और जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो तब तक प्रयास करे सफलता प्राप्त होगी। केएफसी ने 75 वर्ष में और अमेजान ने भी लंबे संघर्ष के बाद अपना मुकाम बनाया। उपकुलसचिव ने शिवानी शर्मा बी.बी.ए. के द्वारा पूछे गये प्रश्न का जवाब देते हुये कहा आप पहले देखे आप में खूबी या योग्यता क्या है। उस योग्यता को पहचाने व आगे बढ़ें। मैथली ठाकुर सोशल मीडिया में गाना गा कर ही 70000 हजार रुपये कमा लेती है। छात्र विश्वदीप ने पूछा लोग हमें हतोतसाहित करते है तो क्या करना चाहिये का जवाब देते हुये डॉ. कुलदीप ने कहा सदा सफल लोगों से मिली किताब पढ़े, व्यस्त रहें, नकारात्मक सोच वाले से दूर रहें।
महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला ने अपने उद्बोधन में नवप्रवेशी विद्यार्थियों को अनुशासित जीवन जीने की सलाह दी व आई. कार्ड लगाकर व समय पर महाविद्यालय आने के लिये प्रेरित किया व कहा विद्यार्थी जीवन किसी व्यक्ति का सबसे स्वर्णिम काल होता है अत: इसका सदुपयोग करें।
कार्यक्रम प्रभारी डॉ. निहारिका देवांगन आईक्यूएसी ने कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला व महाविद्यालय की उपलब्धियों को रेखांकित करते हुये बताया कि महाविद्यालय में समय-समय पर व्यक्तित्व विकास से संबंधित कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है साथ ही उनके शैक्षणिक विकास के लिये बुक बैंक सुविधा, फ्री इंटरनेट सुविधा, छात्रवृत्ति, कैम्पस प्लेसमेंट आदि के बारे में जानकारी दी।
मुख्य अतिथि ने प्रतिभावान विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया-
अपने लगाए पौधे के साथ सेल्फी प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्षन हेतु शुभम पाण्डेय बी.एस.सी. प्रथम वर्ष, उन्नति पाण्डेय बी.कॉम. प्रथम वर्ष, नेहा साहू बी.कॉम. प्रथम वर्ष, श्रुति जोशी, बी.कॉम. प्रथम वर्ष को प्रमाण पत्र दिया गया। व प्रथम इकाई परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले – नेहा साहू, सृष्टि सिंह, रोहित कुमार, आकांक्षा टण्डन, दीक्षा साहू, समृद्वि तिवारी, सुनिधि पटेल, मनिशा साहू व कहानी लेखन प्रतियागिता में प्रथम स्थान – शुभी बाजपेई बी.कॉम. तृतीय वर्ष ने प्राप्त किया।
विद्यार्थियों को महाविद्यालय में विविध सेल एवं विभागीय गतिविधियों, परीक्षा परिणाम व प्लेसमेंट की जानकारी दी गई।
कार्यक्रम में मंच संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. निहारिका देवांगन आई.क्यू.ए.सी. प्रभारी ने दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में आई.क्यू.ए.सी. सदस्य स.प्रा. टी.बबीता, स.प्रा. शैलजा पवार ने विशेष सहयोग प्रदान किया। कार्यक्रम में प्रथमवर्ष के सभी विद्यार्थी व प्राध्यापक उपस्थित हुए।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>