इंदु आईटी स्कूल के विद्यार्थियों ने मनाया विजयादशमी का पर्व

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में कक्षा नर्सरी, केजी-वन, केजी-टू के नौनिहालों द्वारा दशहरा का पर्व बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बुराई पर अच्छाई के इस पर्व पर शिक्षकों ने रामायण के सभी आदर्श पात्रों - श्रीराम, लक्ष्मण, सीता, भरत, शत्रुघ्न, हनुमान का अभिनय करते हुए दशहरे के पर्व का महत्व बताया। बच्चों ने भी सभी पात्रो का मुखौटा लगाकर इसमें अपनी भागीदारी दी।भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में कक्षा नर्सरी, केजी-वन, केजी-टू के नौनिहालों द्वारा दशहरा का पर्व बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बुराई पर अच्छाई के इस पर्व पर शिक्षकों ने रामायण के सभी आदर्श पात्रों – श्रीराम, लक्ष्मण, सीता, भरत, शत्रुघ्न, हनुमान का अभिनय करते हुए दशहरे के पर्व का महत्व बताया। बच्चों ने भी सभी पात्रो का मुखौटा लगाकर इसमें अपनी भागीदारी दी। Indu-IT-School_dussehra-cel भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में कक्षा नर्सरी, केजी-वन, केजी-टू के नौनिहालों द्वारा दशहरा का पर्व बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बुराई पर अच्छाई के इस पर्व पर शिक्षकों ने रामायण के सभी आदर्श पात्रों - श्रीराम, लक्ष्मण, सीता, भरत, शत्रुघ्न, हनुमान का अभिनय करते हुए दशहरे के पर्व का महत्व बताया। बच्चों ने भी सभी पात्रो का मुखौटा लगाकर इसमें अपनी भागीदारी दी।शनिवार को आयोजित इस कार्यक्रम में रामलीला का भव्य मंचन भी किया गया। श्रीराम के द्वारा रावण, मेघनाद, कुंभकर्ण का पुतला दहन कर विजयादशमी पर्व मनाया गया। नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीराम का जयघोष किया गया। इस अवसर पर उपस्थित शाला के डायरेक्टर एसएम उमक ने सभी को विजयादशमी पर्व की शुभकामनाए देते हुए कहा कि यह पर्व असत्य पर सत्य की तथा अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक है। इस मौके पर डाएरेक्टर श्रीमती मीनल उमक, यशोवर्धन उमक, प्राचार्य आलोक श्रीवास्तव, इंचार्ज श्रीमती शिंपी भट्टी सहित सभी शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक स्टाफ भी उपस्थित था।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>