संतोष रूंगटा परिसर में रक्षा टीम : सोशल मीडिया पर न पीटें बाहर जाने का ढिंढोरा

भिलाई। अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम ने आज महाविद्यालयीन छात्राओं को चकाचौंध से बचने एवं सोशल मीडिया का संभल कर उपयोग करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए तमाम कानून और तंत्र हैं जिसका भरपूर इस्तेमाल करें। किसी भी प्रकार के यौन दुर्व्यवहार या शोषण की अनदेखी न कर पुलिस से सम्पर्क करें। मेश्राम यहां संतोष रूंगटा ग्रुप कैम्पस में विद्यार्थियों को संबोधित कर रही थीं।भिलाई। अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम ने आज महाविद्यालयीन छात्राओं को चकाचौंध से बचने एवं सोशल मीडिया का संभल कर उपयोग करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए तमाम कानून और तंत्र हैं जिसका भरपूर इस्तेमाल करें। किसी भी प्रकार के यौन दुर्व्यवहार या शोषण की अनदेखी न कर पुलिस से सम्पर्क करें। मेश्राम यहां संतोष रूंगटा ग्रुप कैम्पस में विद्यार्थियों को संबोधित कर रही थीं।Santosh-Rungta-Group-Raksha भिलाई। अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम ने आज महाविद्यालयीन छात्राओं को चकाचौंध से बचने एवं सोशल मीडिया का संभल कर उपयोग करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए तमाम कानून और तंत्र हैं जिसका भरपूर इस्तेमाल करें। किसी भी प्रकार के यौन दुर्व्यवहार या शोषण की अनदेखी न कर पुलिस से सम्पर्क करें। मेश्राम यहां संतोष रूंगटा ग्रुप कैम्पस में विद्यार्थियों को संबोधित कर रही थीं।प्रज्ञा मेश्राम ने आरसीइटी के आडिटोरियम में महिला सुरक्षा और कानून की जानकारी देने के साथ युवाओं को साइबर क्राइम से सावधान रहने की ताकीद की। उन्होंने कहा कि अपने कीमती वक्त का उपयोग रचनात्मक कार्यों में लगाएं ताकि भविष्य सुरक्षित हो सके। सोशल मीडिया पर अनजान लोगों से दोस्ती न करें। परिवार सहित कहीं घूमने जा रहे हैं तो सोशल मीडिया पर पोस्ट न करें। चोरों को खबर मिल जाती है। लड़के गलती से या मजाक में भी कोई ऐसी हरकत न करें कि उनका भविष्य नष्ट हो जाए।
उन्होंने छात्राओं को पाक्सो एक्ट, मोटर यान अधिनियम, छेड़खानी से जुड़े कानून, सोशल मीडिया संबंधी कानून, टोनही, घरेलू हिंसा, दहेज कानून आदि की भी संक्षिप्त जानकारी दी।
भिलाई। अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम ने आज महाविद्यालयीन छात्राओं को चकाचौंध से बचने एवं सोशल मीडिया का संभल कर उपयोग करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए तमाम कानून और तंत्र हैं जिसका भरपूर इस्तेमाल करें। किसी भी प्रकार के यौन दुर्व्यवहार या शोषण की अनदेखी न कर पुलिस से सम्पर्क करें। मेश्राम यहां संतोष रूंगटा ग्रुप कैम्पस में विद्यार्थियों को संबोधित कर रही थीं।एसएमएस, व्हाट्सअप, फेसबुक पर मिलने वाले आॅफर्स से सावधान रहने के साथ ही एटीएम पिन, ओटीपी आदि का उपयोग स्वयं करने की सलाह भी उन्होंने दी। अनजान व्यक्ति पर भरोसा नहीं करने, दोस्ती को शालीनता का दायरे में रखने की सलाह देते हुए उन्होंने ट्रैफिक नियमों के बारे में भी बताया।
डीन डॉ मनोज वर्गीस के मार्गदर्शन में किये गये इस आयोजन में प्राचार्य डॉ नीमा एस बालन, डॉ मनीषा अग्रवाल, प्रो एस भारती, ममता प्रजापति, रेजो राय और कोआर्डिर्नटर रक्षिता, जेसिका, स्मृति सिंग, जया, आदेश, अभिलाषा, संकेत अग्रवाल, आदर्श कुमार, अल्केश पांडे ने महत्वपूर्ण भागीदारी दी।
यहां करें शिकायत :
कार्यस्थल, सार्वजनिक स्थान, घर या ससुराल में मिलने वाली प्रताड़ना की जानकारी 109, 112 या वाट्सएप 9111801091 नंबर पर प्रेषित कर सकते हैं।
आत्मरक्षा के बताए गुर
कांस्टेबल स्मृता तांडी और प्रतिभा तिवारी ने किसी अनजान खतरे से निबटने के तरीके बताए। असमाजिक तत्वों से बचने हिम्मत के साथ हाथ और पैर चलाने के गुर बताए। वहीं बैग, बॉलपेन, पेन, वाटर बॉटल का उपयोग हथियार के रूप में करने के टिप्स भी दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *