भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

भिलाई। कृष्णा पब्लिक स्कूल कुटेलाभाटा ने 73वां स्वतंत्रता दिवस खुले, स्वच्छंद आकाश में ध्वजारोहण करते हर्षोल्लास के साथ मनाया। इस समारोह में स्कूल की बैण्ड More »

 

स्वरूपानंद महाविद्यालय में बाल दिवस पर अनेक प्रतियोगिताओं का आयोजन

भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कल्पतरू, आईक्यूएसी एवं हैल्दी प्रेक्टीस सेल के संयुक्त तत्वावधान में विद्यार्थियों के लिये ‘बाल दिवस’ का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों के लिए विविध मनोरंजक खेल, बॉलीवुड प्रश्नोत्तर व सामान्य ज्ञान, विज्ञान से संबंधित प्रश्नोत्तर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि श्री शंकराचार्य नर्सिंग महाविद्यालय की सीओओ डॉ. मोनिषा शर्मा थी। अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने की।भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कल्पतरू, आईक्यूएसी एवं हैल्दी प्रेक्टीस सेल के संयुक्त तत्वावधान में विद्यार्थियों के लिये ‘बाल दिवस’ का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों के लिए विविध मनोरंजक खेल, बॉलीवुड प्रश्नोत्तर व सामान्य ज्ञान, विज्ञान से संबंधित प्रश्नोत्तर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि श्री शंकराचार्य नर्सिंग महाविद्यालय की सीओओ डॉ. मोनिषा शर्मा थी। अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने की।भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कल्पतरू, आईक्यूएसी एवं हैल्दी प्रेक्टीस सेल के संयुक्त तत्वावधान में विद्यार्थियों के लिये ‘बाल दिवस’ का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों के लिए विविध मनोरंजक खेल, बॉलीवुड प्रश्नोत्तर व सामान्य ज्ञान, विज्ञान से संबंधित प्रश्नोत्तर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि श्री शंकराचार्य नर्सिंग महाविद्यालय की सीओओ डॉ. मोनिषा शर्मा थी। अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने की।इसरो का चीफ कौन है? आईएमईआई का फूल फार्म क्या है? सुप्रीम कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश कौन है? छत्तीसगढ़ का प्रदेश गीत कौन सा है? घटोतकच के मरते पिता के नाम क्या था? जैसे प्रश्न पूछे गये। इस अवसर पर बेस्ट अनुशासन के लिये समृद्धि तिवारी बीएससी प्रथम वर्ष व बेस्ट फार्मल ड्रैस के लिये रिलेश देवांगन बीबीए प्रथम सेमेस्टर, बेस्ट क्यूट चाईल्ड गर्ल्स पूजा साहू – बीएससी प्रथम सेमेस्टर को दिया गया।
स.प्रा. मंजू साहू ने अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार इंद्रावती तोर पखारह पैया गाकर दर्षक दीर्द्या को मंत्रमुग्ध कर दिया स.प्रा. डॉ. रचना पांडे ने तुझे चांद के बहाने देखूं छप पर आ जा गोरिया गाकर लोगों को ताली बजाने के लिये मजबूर कर दिया।
विविध समसामयिक एवं समान्य ज्ञान के प्रश्न पूछे गये जिसका जवाब देकर विद्यार्थियों ने अपनी बुद्धि का लोहा मनवाया विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में मंच संचालन स.प्रा. शिरीन अनवर अहमद व स.प्रा. दीपक सिंह ने किया।
बी.काम. अंतिम वर्ष की छात्रा रक्षा जैन ने कार्यक्रम आयोजन में अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुये कहा शिक्षकों ने अपने व्यस्तम समय में हमारे लिये इतना अच्छा कार्यक्रम का आयोजन किया इसके लिये बहुत बहुत धन्यवाद।
अवंतया शुक्ला बी.बी.ए. प्रथम सेमेस्टर ने कहा कार्यक्रम का आयोजन बहुत अच्छा था। पूजा सिंह स्कूल में भी बाल दिवस होता था पर महाविद्यालय में इस प्रकार का आयोजन अभूतपूर्व था प्रश्नमंच, विविध प्रकार के गैम बहुत ही अच्छा रहा।
डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने अपने उद्बोधन में विद्यार्थियों को बाल दिवस की बधाई देते हुये कहा हम उम्र में कितने भी बड़े हो जाये पर दिल बच्चें को समान मासूम व कोमल होना चाहिये बच्चे आपस में लड़ते है थोड़ी देर बाद वे आपस में मिल जाते है। बचपन में जो मासूमियत होती है वह धीरे-धीरे समाप्त हो जाती है क्योंकि हर कार्य में हम तर्क करना षुरु कर देते है। बचपन में जब शिक्षक बुलाते तो बच्चे दौड़कर आगे आते थे पर आज जब आप बड़े हो गये है तो आगे नहीं आना चाहते क्योंकि मन में भय की भावना आने लगती है। क्यों बुला रहे है और हमारा बचपन समाप्त होने लगता है।
स.प्रा. दीपक शर्मा ने रामायण के कहानी में महावीर हनुमान के उदाहरण द्वारा समझाया महान व्यक्ति हमेशा छोटा बनकर रहते है समुद्र पार जाने के बाद भी हनुमान सीता से प्रश्न पूछने पर कहते है मैं रामदूत हनुमान हूँ, साथ ही सीता माता के शंका समाधान हेतु हनुमान जी ने बढ़ा रूप दिखाया जब वह भयभीत थी। हम भी अपना बड़ा रूप तब दिखाना चाहिये जब लोगों के मन से भय की भावना दूर करना हो।
प्रबंधन एवं वाणिज्य विभाग द्वारा इस अवसर पर विद्यार्थियों के लिये बैंगल बेल गैम कराया गया। जिसमें विद्यार्थियों को एक हाथ में घंटी बजाते हुये बाटल में एक एक कार चूड़ी डालना था जिस विद्यार्थियों ने सबसे अधिक चूड़ी डाली उसे विजेता घोशित किया गया।
साईंस विभाग द्वारा विद्यार्थियों से बॉलीवुड से संबंधित प्रश्न पूछे गये जिसमें बहुत हो गया अब दंगल होगा, बोल दिया, बचपन से ही शादी करने का बड़ा क्रेज था आदि डायलाग कौन सी फिल्म का है पूछे गये वहीं चित्र दिखाकर पूछे गये कौन से हिरो का बचपन का फोटो है, लता मंगेशकर को भारत रत्न किस वर्ष में मिला आदि प्रश्न पूछे गये वहीं तारे जमीं पर फिल्म में बच्चे को कौन सी बिमारी थी व पॉ में अमिताभ बच्चन का कौन सी बिमारी थी पूछे गये प्रश्न का उत्तर दे विद्यार्थियों ने अपने बुद्धि कौशल का परिचय दिया।
कम्प्यूटर विभाग द्वारा सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न पुछे गये जैसे भारत का राष्ट्रीय जल प्राणी कौन सा है हड़प्पा संस्कृति किस देश में है। विविध प्रतियोगिता के विजेताओं के विवरण निम्न प्रकार है-
बैंगल बेल – हशिर्ता साहू – बी.एस.सी.-द्वितीय वर्श, अवंतय – बीबीए प्रथम सेमेस्टर, दामिनी – बीकॉम प्रथम वर्ष, सचिन वर्मा – बीसीए द्वितीय वर्ष, देवयानी सोनी – बीएससी तृतीय वर्ष।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>