ब्लीच्ड सैनिटरी नैपकिन का भी गर्भाशय कैंसर में हाथ : गिरिधरन

श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में विशाखा समिति की राज्यसभा सदस्य का उद्बोधन

Bleached Sanitary Pads cause cancerभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय की महिला प्रकोष्ठ द्वारा छात्राओं के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता विशाखा समिति की राज्यसभा सदस्य हेलेना गिरिधरन ने सेनेटरी पैड से होने वाले नुकसान की चर्चा करते हुए कहा की सेनेटरी पैड क्लोरीन से ब्लीच होता है जो कि कैन्सर को जन्म देता है। आज कल गर्भाशय कैन्सर के 90 प्रतिशत मामलों में सेनेटरी पैड ही मुख्य कारण है साथ ही यह पर्यावरण को प्रदूषित करता है। SSMV Guest Lecture Women Cellउन्होंने कहा कि हमें आम पैड का उपयोग करने के बजाये एन्टीमाइक्रो वियर पैड का इस्तेमाल करने को कहा। उन्होंने माइक्रो वियर पैड दिखाते हुए उसकी विभिन्न साइज, उपयोगिता एवं उपयोग करने के तरीके बताये। उन्होंने बताया कि एक पैड का उपयोग लगभग दो वर्ष तक किया जा सकता है। इसको नष्ट करने से कोई प्रदूषण भी नही होता है। कार्यशाला बहुत उपयोगी एवं रोचक रही।
आरंभ में महिला प्रकोष्ठ की प्रभारी डॉ. अर्चना झा ने पौधा देकर कार्यशाला के वक्ताओं का स्वागत किया। एडवोकेट श्रीमती हेलेना गिरिधरन ने विशाखा समिति के गठन के उद्देश्यों को विस्तार से समझाया। इंडियन पीनल कोड की धारा 354 के अन्तर्गत ‘सेक्सुअल हरासमेंट’ के विषय में चर्चा की तथा उसे रोकने के संबंध में विधान की व्यवस्थाओं को समझाया। उन्होंने कहा ‘माना कि जमाने की हर खुशी तुझे दरकार है। पर हमें भी तो इज्जत की जिन्दगी जीने का अधिकार है’।
दूसरे सत्र में उन्होंने घरेलू हिन्सा एवं उसकी शिकायत दर्ज करवाने के विषय में जानकारी दी। तीसरे सत्र में प्रश्न उत्तर सत्र में छात्राओं द्वारा पूछे गये प्रश्नों का उत्तर देकर उनकी जिज्ञासाओं को शांत किया।
महाविद्यालय के निदेशक एवं प्राचार्या डॉ. रक्षा सिंह ने कार्यक्रम प्रसंशा करते हुए महिला प्रकोष्ठ को बधाई दी एवं अतिरिक्त निदेशक डॉ. जे. दुर्गा प्रसाद राव ने कायर्शाला को छात्राओं के लिए उपयोगी एवं प्रेरणा दायक बताया।
कार्यशाला का संचालन सहा. प्राध्यापिका आफरिन खानम ने किया तथा कायर्शाला में 73 छात्राओं ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *