धमतरी। बांस से तो हम सभी परिचित हैं। बांस से बनी सजावटी वस्तुओं के बारे में भी हम सभी जानते हैं पर बांस से जेवर More »

भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

 

दुर्ग साइंस कालेज के प्रोफेसर अजय सिंह नेशनल अकादमी आँफ साइंसेस के सदस्य मनोनीत

Dr Ajay Singh nominated to the National Academy of Sciencesदुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय के रसायन शास्त्र के प्राध्यापक डॉ अजय कुमार सिंह को ‘‘द नेशनल अकादमी आँफ साइंसेस इंडिया’’ का सदस्य मनोनीत किया गया है। पूरे मध्य भारत के किसी भी महाविद्यालय से प्रतिष्ठित नेशनल अकादमी आँफ साइंस इंडिया में रसायन शास्त्र से सदस्य के रुप में मनोनीत होने वाले डॉ अजय सिंह पहले एवं एकमात्र प्राध्यापक है। डॉ अजय सिंह की राष्ट्रीय स्तर की इस उपलब्धि पर हर्षव्यक्त करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आर.एन. सिंह ने जानकारी दी कि आमतौर पर इन अकादमी में बड़े शैक्षणिक संस्थानों जैसे आई.आई.टी., एन.आई.टी., शोध संस्थानों (सी.एस.आई.आर., बी.ए.आर.सी.) ट्रिपल आई.टी. आदि के प्राध्यापकों का मनोनयन किया जाता है। मनोनयन का मुख्य आधार उस प्राध्यापक की शैक्षणिक उपलब्धियां, गतिविधिया तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर की उच्च इंपैक्ट फैक्टर वाली शोध पत्रिकाओं में शोध पत्रों का प्रकाशन होता है। उल्लेखनीय है कि डॉ अजय सिंह के लगभग 130 से अधिक शोधपत्र प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय रिसर्च जर्नल्स में प्रकाशित हो चुके है। डॉ सिंह द्वारा लगभग 10 बुक चैप्टरर्स का भी प्रकाशन अंतर्राष्ट्रीय प्रकाशकों द्वारा प्रकाशित हो चुका है।
डॉ अजय सिंह के मार्गदर्शन में 15 से अधिक शोधार्थियों ने पी.एच.डी. की उपाधि प्राप्त की है तथा 6 शोध छात्र शोधरत् है। इसके अतिरिक्त डॉ सिंह ने यूजीसी के माइंनर, मेजर रिसर्च प्रोजेक्ट तथा छ.ग. कौसिल ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी का मिनी रिसर्च प्रोजेक्ट पर भी उत्कृष्ट शोधकार्य किया है। डी.एस.टी. नई दिल्ली द्वारा इंडिया बुल्गारिया बाईलेटरल एक्चेंज प्रोग्राम के अंतर्गत अंतर्राष्ट्रीय रिसर्च प्रोजेक्ट पर शोधकार्य जारी है। डॉ. अजय सिंह ने ढाका विश्वविद्यालय, बंगलादेश एवं त्रिभुवन विश्वविद्यालय काठमाडुं, नेपाल में आमंत्रित व्याख्यान भी दिया है। डॉ सिंह के मार्गदर्शन में साइंस कालेज, दुर्ग में 2 बार अंतर्राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन हुआ है। डॉ सिंह विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग नईदिल्ली द्वारा प्रायोजित एवं साइंस कालेज, दुर्ग में चार बार आयोजित ‟इंस्पायर साइंस इंटर्नशिप कैंपस के सहायक समन्वयक रह चुके है। डॉ सिंह के मार्गदर्शन में शोधरत् विद्यार्थियों को यूजीसी की पोस्ट डॉक्टरेट रिसर्च अवार्ड, युवा वैज्ञानिक पुरस्कार, वूमन साइंटिस्ट पुरस्कार आदि प्राप्त हो चुका है।
डॉ सिंह की इस उपलब्धि पर महाविद्यालय परिवार के साथ-साथ प्राचार्य डॉ. आर.एन. सिंह, रसायन शास्त्र की विभागाध्यक्ष डॉ. अनुपमा अस्थाना ने बधाई दी है। दुर्ग वि.वि. के पूर्व कुलपति डॉ. शैलेन्द्र सराफ एवं वर्तमान कुलपति डॉ. अरूणा पल्टा ने भी डॉ सिंह की उपलब्धि को साइंस कालेज, दुर्ग के लिये मील का पत्थर बताया है । भारत के प्रथम प्रधान मंत्री पं. जावाहर लाल नेहरू द्वारा कुल तीन अकादमी की स्थापना इलाहाबाद, नई दिल्ली तथा बेंगलुरु में किया गया था, जिसकी सदस्यता प्राप्त करना विज्ञान के क्षेत्र में एक विशिष्ट उपलब्धि के रूप में देखा जाता है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>