धमतरी। बांस से तो हम सभी परिचित हैं। बांस से बनी सजावटी वस्तुओं के बारे में भी हम सभी जानते हैं पर बांस से जेवर More »

भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

 

स्वरूपानंद महाविद्यालय ने एल्युमनाइ के लिए टैलेंट हंट का आयोजन किया

Alumni Talent Hunt by SSSSMV Bhilaiभिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालयए में 2005 से लेकर 2019 तक के सभी एल्युमनाइ के लिये टैलेंट हंट कार्यक्रम का आयोजन किया गया। एल्युमनाइ को गाते हुये, पेंटिंग करते हुये, गार्डनिंग, कुकिंग, नृत्य, योगा, कविता पाठ, मिमिक्री आदि का प्रदर्शन करते हुये दो मिनट का वीडियो महाविद्यालय को व्हाट्सप्प करना था।प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला ने कहा कि एल्युमनाइ महाविद्यालय के मुख्य स्तंभ होते हैं जो महाविद्यालय से निकलने के बाद भी महाविद्यालय से जुड़े होते हैं तथा अपने बहुमूल्य सुझाव देकर महाविद्यालय की प्रगति हेतु प्रयास करते हैं। महाविद्यालय द्वारा इस कार्यक्रम का आयोजन इसलिए किया गया विद्यार्थी नौकरी, उद्यमिता और परिवार के दायित्वों का निर्वहन करने के साथ अपनी हॉबी को जीवित रखने के लिए प्रेरित हों।
महाविद्यालय के सीओओ डॉ दीपक शर्मा ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से एल्युमनाइ को पुनः अपने महाविद्यालय से जुड़ने का मौका मिलता है।
कार्यक्रम प्रभारी आरती गुप्ता ने कहा कि एल्युमनाइ से जुड़ी यादे शिक्षकों के लिये अनमोल होती है और एल्युमनी भी महाद्यिालय से जुड़ी यादों को संजोये रखते है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य एल्युमनाइ की प्रतिभा को पुनः मंच प्रदान करना एवं कॉलेज से जुड़ी यादों को ताजा करना था।
कार्यक्रम में महाविद्यालय के एल्युमनाइ ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। अधिकांश एल्युमनाइ ने अपने पसंद का गाना गाकर पुरानी यादों को ताजा कियाए कुछ ने कविता के माध्यम से अपने भाव व्यक्त कियेए कुछ ने कुकिंग का वीडियो बनाकर अपने कुशल सेफ होने का परिचय दियाए कुछ ने अपने सुंदर बगीचे के साथ वीडियो बनाकर अपनी गार्डिनिंग हॉबी को शिक्षकों के साथ साझा किया। एल्युमनाइ का वीडियो देखकर शिक्षकों के मन में उनके कॉलेज के समय की यादें ताजा हुई
अभिलाशा नायर बीएड 2013 बैच ने पारंपरिक गीत काश पास में होते साजन मेरे गीत गाया। डॉ पूनम शुक्ला बीएड 2013 बैच ने अपने खूबसुरत बगीचे का वीडियों भेजकर अपनी कलात्मक अभिरुचि का परिचय दिया। रुपेश चौबे एमएससी बायोटेक्नोलॉजी 2014 बैच ने ये मोह मोह के धागे तेरी उंगलियों से जा उलझे- गाना गाकर कॉलेज के समय की याद ताजा कर दी। चारु श्रीवास्तव बीएड 2015 बैच ने ओट्स केक बनाकर अपने कुशल सेफ होने का परिचय दिया। आर कविता बीएससी बायोटेक्नोलॉजी 2016 बैच ने हमारी अधूरी कहानी गाना गाया। अमित सिंह चौव्हान एवं आकांक्षा शर्मा बीकॉम 2017 बैच ने इंसान तू इंसान बन हैवान नहीं इंसान बन कविता से लोगों से मानवता धर्म निभाने की अपील की, कच्ची उम्र के सहचर हम लक्ष्य हमारा खोने ना पाये कविता से युवाओं को लक्ष्य प्राप्ती हेतु एकाग्रचित होने का संदेश दिया। इशानी दूबे बीकॉम 2018 बैच ने केक एवं पराठा एवं गाजर हलवा की रेसिपी शेयर की। श्रीकांत कौशिक बीबीए 2019 बैच ने संदेशे आते है हमे तड़पाते है गाने का वीडियो देखकर शिक्षकों की आंखे नम हो गयी। अभिशेक त्रिपाठी बीएससी बायोटेक्नोलॉजी अरे वो जिंदगी तू क्या सोचती है कविता के द्वारा जिन्दगी से हार मानने वाली पलायनवादी सोच से दूर रहने का संदेश दिया एवं सुप्रिया वर्मा बीकॉम 2019 बैच ने मैं तैनु समझावा कि ना तेरे बिना लगदा जी गाने का वीडियो भेजकर अपनी गायकी की प्रतिभा से शिक्षकों को चकित कर दिया।
सभी शिक्षक एल्युमनाइ का वीडियो देखकर उनके कॉलेज से जुड़े पलों को याद कर भावविभोर हो गये तथा लॉकडाउन में जब हम अपनो से मिल नहीं पा रहे है तब इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन के लिये एल्युमनाइ कमेटी को धन्यवाद दिया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>