श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के गौरव ने रक्तदान कर बचाया जीवन

Blood donation by staff of SSMVभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के स्टाफ गौरव चौहान ने समाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए मध्यप्रदेश निवासी 2 वर्ष के हेमांष धाकड़ को रक्तदान कर उसके जीवन की रक्षा की है। उन्हें सोशल मीडिया से इस बच्चे की जरूरत के बारे में जानकारी मिली थी। उन्होंने तत्काल सम्पर्क किया और सहर्ष रक्तदान किया। 21 दिसंबर को बरेली, पिपरिया मध्यप्रदेश से आये 2 वर्ष का मासूम अपने ही घर में खेलते हुए गर्म पानी के बर्तन से टकराया गया था, जिससे वह बुरी तरह जल गया। तत्काल उपचार हेतु स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, वहां से उसे नरसिंगपुर ले जाया गया, जिसे 3 दिन के बाद उसे जबलपुर ले जाया गया। वहां इलाज संभव नहीं होने के कारण उसे भिलाई छत्तीसगढ़ सेक्टर-9 हॉस्पिटल रिर्फर किया गया है। जहां अभी इलाज चल रहा है।
बच्चे के परिजनों से पता चला की बच्चे का 6 जनवरी को ऑपरेशन होना है। जिसके लिये उसे बी पाजिटिव रक्त की आवश्यकता थी। गौरव चौहान ने सोशल मीडिया पर यह खबर पढ़ी और तत्काल बच्चे के माता-पिता से सम्पर्क किया।
महाविद्यालय की निदेशक व प्राचार्या डॉ रक्षा सिंह ने महाविद्यालय के स्टाफ द्वारा किए गए सामाजिक दायित्व के निर्वहन की सराहना करते हुए कहा कि यह समाज के लिए एक संदेश है। अतिरिक्त निदेशक डॉ जे. दुर्गा प्रसाद राव ने कहा कि महाविद्यालय के स्टाफ ने जो बाहर से आये बच्चे के प्रति सद्भाव का परिचय दिया वह प्रशसंनीय कार्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *