बर्ड फ्लू : बेमेतरा में अधिकारियों को टीम बनाकर पोल्ट्री फार्मों का निरीक्षण करने के निर्देश

Bird Flu prevention measures in Bemetaraबेमेतरा। कलेक्टर शिव अनंत तायल ने पशु चिकित्सा विभाग को टीम बनाकर जिले के सभी मुर्गी फार्म का निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि अगर एक भी पशु या पक्षी की आकस्मिक मृत्यु होती है तो पोल्ट्री संचालक से इसकी जानकारी तुरन्त ली जाए। शासकीय, अशासकीय कुक्कुट पालन प्रक्षेत्रों एवं पोल्ट्री व्यवसायिक केन्द्रों का सर्विलेंस किया जाए एवं विकारीय सामग्री विक्रय करने वाले बाजार वेट मार्केट, पोल्ट्री मार्केट सप्लाई चेन, बतख पालन वाले क्षेत्र एवं जंगली व अप्रवासी पक्षियों के इलाकों पर विशेष निगरानी की जाए। एवियन इन्फ्लूऐन्जा (बर्ड फ्लू) के खतरे को देखते हुए पशु चिकित्सा विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त बैठक आयोजित की। कलेक्टर ने कहा कि जिले में बर्ड फ्लू से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत नहीं है, पर रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु सावधानियॉ जरूरी है। उन्होंने पोल्ट्री फार्म संचालकों की बैठक आयोजित करने और सभी एस.डी.एम. को अपने क्षेत्र के पोल्ट्री फार्मों पर निगरानी रखने के निर्देश दिए।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस के शर्मा ने बताया कि एवियन इन्फ्लूऐन्जा (बर्ड फ्लू) मे बुखार, गला खराब होना, खांसी, सरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, जुकाम और नाक बहना मनुष्यों में बर्ड फ्लू के लक्षण हैं। ऑखों का संक्रमण, सांस लेने में काफी दिक्कत, निमोनिया, मस्तिष्क और हृदय में सूजन बर्ड फ्लू की जटिलताएं हैं। उन्होंने बताया कि ‘‘एविएन इन्फ्लुएंजा (एच5 एन1)‘‘ का संक्रमण मनुष्यों में संक्रमित प्रवासी पक्षियों तथा पोल्ट्री पक्षियों के संक्रमण के माध्यम से फैलता है। पोल्ट्री फार्म के कर्मी, पक्षी व अंडे बेचने वाले, पक्षी व अंडों के बाजार में रहने वालों में बर्ड फ्लू का जोखिम ज्यादा होता है। बैठक के दौरान पुलिस अधिक्षक दिव्यांग कुमार पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक विमल कुमार बैस, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व दुर्गेश कुमार वर्मा, डिप्टी कलेक्टर संदीप ठाकुर एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एस के शर्मा उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *