विद्यार्थियों के चहुंमुखी विकास हेतु सकारात्मक पारिवारिक वातावरण भी जरूरी

PTA Meeting held in VYT Science Collegeदुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में ऑनलाइन अभिभावक-शिक्षक-विद्यार्थी बैठक आहूत की गयी। आयोजन डॉ मीता चक्रवर्ती (विभागाध्यक्ष, अंग्रेजी विभाग) एवं शिक्षक अभिभावक समिति के अन्य सदस्यों द्वारा किया गया। कार्यक्रम का आरंभ डॉ पूर्णा बोस ने किया। उन्होंने महाविद्यालय का परिचय दिया तथा पीटीए के उद्देश्य एवं उसके महत्व की जानकारी दी। डॉ अनुपमा अस्थाना, संकायाध्यक्ष विज्ञान संकाय ने कहा कि साइंस कालेज प्रदेश के सर्वोत्कृष्ट कालेजों में से एक है। यहां शिक्षण के साथ ही रिसर्च की बहुत अच्छी सुविधायें उपलब्ध है। डॉ अस्थाना ने कहा कि यहां के विद्यार्थी विदेशो में भी अपनी प्रस्तुति दे रहे हैं। उन्होंने सभी अभिभावकों से अनुरोध किया कि घर में सकारात्मक वातावरण बनाये रखें। उन्होंने शीघ्र ही ऑफलाइन क्लासेस में मिलने की संभावना व्यक्त की। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आर.एन. सिंह ने सभी अभिभावकों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने पालकों को इस महाविद्यालय का चयन करने के लिए धन्यवाद दिया एवं उनके चयन के दृष्टिकोण को पूर्ण करने की बात कही। उन्होंने पालकों से अपने बच्चों को ऑनलाईन कक्षाओं में पूरे समय जुड़े रहने हेतु ध्यान देने की बात कही। साथ ही साथ महाविद्यालय के प्लेसमेंट सेल के द्वारा विद्यार्थियों हेतु समय पर समय पर आयोजित किए जा रहे सभी कार्यक्रमों में प्रतिभागिता हेतु छात्रों एवं उनके अभिभावकों से अनुरोध किया।
आईक्यूएसी संयोजक डॉ जगजीत कौर सलूजा ने सभी अभिभावकों को महाविद्यालय की ग्रंथालय की सुविधाओं के बारे में बताया। सभी अभिभावकों एवं विद्यार्थियों से अनुरोध किया वे सभी प्रकार के गतिविधियों के लिए महाविद्यालय की वेबसाइट का लगातार अवलोकन करते रहे तथा किसी भी समस्या के समाधान हेतु महाविद्यालय के आईक्यूएसी सेल तथा हेल्प डेस्क की सुविधा ले सकते है। उन्होंने छात्रों को बताया कि संभाग स्तरीय कक्षाओं में अवष्य जुड़े, जिससे कम डेटा खर्च पर उन्हें विषय की जानकारी मिल सकती है।
प्लेसमेंट सेल की संयोजक डॉ. पद्मावती ने अभिभावकों को जानकारी दी कि प्लेसमेंट सेल के द्वारा स्नातक एवं स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों हेतु रोजगार से संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है, किंतु उसमें विद्यार्थियों की कम उपस्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए अभिभावको से अनुरोध किया कि वे अपने बच्चों को प्रशिक्षण कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए प्रोत्साहित करें एवं इस दिशा में व्यक्तिगत रूप से रूचि दिखाकर कुछ सुझाव देवें।
उन्होंने बताया कि वर्तमान में राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सहायक प्राध्यापकों की लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण प्रतिभागियों को साक्षात्कार के लिए प्रशिक्षित करने हेतु मॉक इंटरव्यू की व्यवस्था की जा रही है।
गणित विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ एम. ए. सिद्दीकी ने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान में ऑनलाईन कक्षाओं में विद्यार्थियों को कई प्रकार की तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, इसके सुधार हेतु महाविद्यालय अपने स्तर पर लगातार प्रयासरत् है।
प्लेसमेंट सेल के डॉ एच.पी. सिंह सलूजा ने विद्यार्थियों एवं अभिभावकों को संबोधित करते हुए कहा कि प्लेसमेंट सेल विद्यार्थियों के उन्नयन हेतु सतत् रूप से कार्यशील है एवं इस दिशा में लगातार प्रयासरत् है।
कार्यक्रम में कई अभिभावकों ने अपने विचार व्यक्त किये और इस बैठक को उन्होंने सम्मिलित रूप से महाविद्यालय का सराहनीय प्रयास बताया तथा इस प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन भविष्य में भी किए जाने का अनुरोध किया। कुछ पालकों ने महाविद्यालय खुलने के संबंध में परीक्षाओं के आयोजन के संबंध में तथा प्लेसमेंट सेल के विभिन्न कार्यक्रमों के संबंध में जानकारी चाही, जिसका निराकरण महाविद्यालय के प्राध्यापकों द्वारा किया गया। अभिभावकों ने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम से अभिभावक अपने बच्चों के शिक्षकों एवं महाविद्यालयीन वातावरण को समझ सकते है तथा बच्चों के भविष्य निर्माण में सबकी सहभागिता सुनिश्चित कर सकते है।
कार्यक्रम में अनेक विद्यार्थियों ने अपनी-अपनी समस्याओं को रखा। उन्होंने मुख्य रूप से ऑनलाईन कक्षाओं में तकनीकी रूकावटों तथा परीक्षा संबंधी प्रश्न पूछे जिसका निराकरण महाविद्यालय के प्राध्यापकों द्वारा किया गया। कार्यक्रम में महाविद्यालय के प्राध्यापक/सहायक प्राध्यापक एवं 600 से अधिक विद्यार्थी एवं उनके अभिभावक आॅनलाईन उपस्थित रहें। धन्यवाद ज्ञापन डॉ प्रेरणा कठाने द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *