आत्मा योजना के तहत श्री पद्धति अपनाने से धान के उत्पादन में हुई वृद्धि

Shree System of Paddy Farming बेमेतरा। जिले के विकासखण्ड नवागढ़ अंतर्गत ग्राम धोबघट्टी निवासी चंद्रभान सेन गत कई वर्षों से परम्परागत खेती कर रहा था, जिससे उनकी आय व उत्पादन (35-38 क्वि.प्रति हेक्टेयर) थी। कृषि विभाग में संचालित आत्मा योजना से जुड़ने के बाद उन्होंने धान की वैज्ञानिक पद्धति से खेती प्रारंभ की जिससे उत्पादन व आय दोनों में वृद्धि हुई। एक्सटेंशन रिफार्म्स (आत्मा) योजना के माध्यम से उनको कृषि वैज्ञानिक मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। कृषि से संबंधित नई-नई तकनीक के बारे में जानकारी मिली। मिट्टी परीक्षण रिपोर्ट की अनुशंसा के अनुसार संतुलित खाद व उर्वरक का उपयोग प्रारंभ किया। परम्परागत पद्धति को छोड़कर उन्होंने श्री पद्धति को अपनाया जिसके फलस्वरूप उपज में वृद्धि (58-62 क्वि.प्रति हेक्टेयर) हुई। आत्मा योजना के द्वारा उनको श्री पद्धति के बारे में समय-समय समस्त जानकारी उपलब्ध करवाई गई एवं कृषि मेलों व सफल किसानों का प्रक्षेत्र भ्रमण कराया गया। जिससे उसको धान की श्री पद्धति के बारे में समझने में आसानी हुई जिससे की श्री पद्धति का उपयोग अपने प्रक्षेत्र में करने में सफल रहा। उनकी सफलता से प्रेरित होकर गांव के अन्य किसानों ने भी अब श्री पद्धति को अपना लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *