Covid Vaccination campaign by Patankar Girls College Durg

गर्ल्स कालेज में टीकाकरण पर राष्ट्रीय वेबीनार “है तैयार हम”

दुर्ग। वावा पाटनकर शासकीय कन्या महाविद्यालय में टीकाकरण अभियान हेतु जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। “हैं तैयार हम” के नाम से आयोजित इस ऑनलाइन राष्ट्रीय वेबीनार में विशेषज्ञों ने टीकाकरण के महत्व और उपयोगिता को स्पष्ट करते हुए विद्यार्थियों की जिज्ञासा का भी समाधान किया। प्राचार्य डॉ सुशील चन्द्र तिवारी ने इस अवसर पर कहा कि टीकाकरण से अच्छा कोई कवच नहीं है। विशेषज्ञों की राय में वैक्सीन के बाद यदि संक्रमण हुआ भी तो 99 फीसद मरीजों का घर पर ही इलाज हो सकेगा और हालत भी गंभीर नहीं होगी।महाविद्यालय की यूथ रेडक्रॉस इकाई के द्वारा आज 1 मई को आयोजित इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वे आगे बढ़कर वैक्सीन लगवाएं तथा कोरोना से परिवार और देश को सुरक्षित करने में अपनी जिम्मेदारी निभाएं।
वेबिनार की संचालक डॉ रेशमा लाकेश ने कहा कि देश को इस महामारी से बचाने के लिए वैक्सीन एक बड़ा शस्त्र है, यह टीका ही हमें सुरक्षित कर सकेगा। उन्होंने यूथ रेडक्रॉस, राष्ट्रीय सेवा योजना के विद्यार्थियों को इस अभियान में सक्रिय होकर कार्य करने को कहा। कार्यक्रम में वैक्सीन के संबंध में जानकारी देने वीडियो फिल्म भी दिखाई गयी।
कार्यक्रम की मुख्य वक्ता डॉ शमा हमदानी ने विद्यार्थियों से कहा कि वैक्सीन आज की परिस्थितियों से मुकाबला करने सबसे बेहतर उपाय है। वैक्सीन का मुख्य कार्य हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करना है। हम सभी जानते है कि हमारा शरीर विभिन्न रोगों से तभी अच्छी तरह लड़ पाता है जब हमारे अंदर इम्यूनीटि अच्छी होती है। कोरोना वायरस से हमारे शरीर को लड़ने की ताकत इस वैक्सीन से आती है।
उन्होने बताया कि टीके लगवाने के बाद भी यदि कोरोना संक्रमण हुआ तो हमें वह ज्यादा नुकसान नहीं पहुँचा पाएगा। वैक्सीन से सबसे बड़ा फायदा यदि हम कोरोना पॉजीटिव के संपर्क में आते हैं तो भी हमें कम जोखिम रहेगा। वैक्सीन के सबंध में फैली विभिन्न भ्रांतियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इसके लगाने के बाद हल्का बुखार, सिरदर्द या चक्कर आ सकते है जो कि सामान्य है। यह संकेत देता है कि वैक्सीन हमारे शरीर में अपना कार्य कर रही है।
प्राध्यापक डॉ ऋचा ठाकुर ने विभिन्न संदेशात्मक वीडियो के माध्यम से अपनी बात रखी।
इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में छात्राएँ जुड़ी तथा विभिन्न महाविद्यालयों के प्राध्यापकों ने भी हिस्सा लिया। अंत में डॉ रेशमा लाकेश ने आभार व्यक्त किया।

Pic Credit : Citytoday.news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *