Category Archives: Society

You Light Candles, we light faces of Orphans : RPS Students

Rungta Public School BhilaiBhilai. The prefects council of RPS had taken a giant leap towards charity work. They mobilized fund collection drive by requesting the parents of RPS to donate generously for the cause of lighting faces of orphans of the District Durg. Students from LKG to Class XI donated generously and the students representative had gone to the Shashkiya Bal Griha, an Orphanage Home at Durg. The team of RPS that visited the orphanage consisted of the Prefectorial body of the school along with few teachers and some other student volunteers from classes VI to XI. They had carried Sweets, Note Books, Pencil, Diyas, Lights, Chocolates & Carrom boards.

WhatsAppTwitterGoogle GmailShare

देवी लक्ष्मी के रूप में पूजी जाती हैं मां दंतेश्वरी : 800 साल से चली आ रही है परंपरा

Danteshwari Ma is also worshippped as Godess Laxmiदंतेवाड़ा। कार्तिक अमावस्या की रात देवी लक्ष्मी की पूजा सभी घर और मंदिरों में होती है पर दंतेवाड़ा शक्तिपीठ में 9 दिन पहले ही लक्ष्मी पूजन शुरु हो जाती है। देवी दंतेश्वरी की भी लक्ष्मी के रूप में पूजा करते हैं। यह अनूठी परंपरा यहां 800 साल से चली आ रही है। दीपावली के पूर्व ही माई दंतेश्वरी के पूजा तुलसीपानी विधान से होती है। पुजारी प्रतिदिन ब्रम्हमुहूर्त में डंकनी-शंकनी में स्नान के बाद पूजा-विधान संपन्न् करते हैं। नवरात्र पर माईजी को दुर्गा के 9 रुपों में आराधना करते हैं तो धनतरेस से 9 पहले देवी लक्ष्मी स्वरूप में पूजा होता है।

गायत्री परिवार ने नक्सल प्रभावित सात जिलों को गोद लिया

रायपुर। गायत्री परिवार ने नक्सल प्रभावित सात जिलों को गोद लिया है। अशांत जिलों में दंडकारण्य परियोजना शुरू की जाएगी। शांति के लिए आध्यात्मिक, सामाजिक और भौतिक प्रगति करने में गायत्री परिवार विशेष योगदान देगा।रायपुर। गायत्री परिवार ने नक्सल प्रभावित सात जिलों को गोद लिया है। अशांत जिलों में दंडकारण्य परियोजना शुरू की जाएगी। शांति के लिए आध्यात्मिक, सामाजिक और भौतिक प्रगति करने में गायत्री परिवार विशेष योगदान देगा। छत्तीसगढ़ प्रवास पर आए गायत्री परिवार हरिद्वार के प्रमुख प्रणव पंड्या राजनीति, धर्म, धर्मगुरु और नक्सलवाद पर खुलकर बोले।
राजधानी में पत्रकारों से चर्चा में पंड्या ने कहा कि धर्म का राजनीति से संबंध नहीं है। धर्म की गोद में बैठना, धर्म के नाम पर वोट मांगना गलत है। धर्म तंत्र आदर्श है, लेकिन राजनीति तंत्र के आयाम ही दूसरे हैं। उन्होंने बताया कि गायत्री परिवार ने बस्तर सहित कांकेर, नारायणपुर, सुकमा, कोडागांव, बीजापुर, दंतेवाड़ा को गोद लिया है। इन जिलों के एक-एक बच्चे को गायत्री परिवार से जुड़े ढाई हजार राइस मिलर गोद लेंगे। दंडकारण्य परियोजना का संभागीय मुख्यालय फरसगांव के मसोरा गांव में होगा ।

ओट्स (Oats) के पकौड़े होते हैं स्वादिष्ट

Oats Pakodaओट्स (Oats) हेल्दी है यह तो सभी जानते हैं और इस हेल्दी इंग्रीडिएंट से आपने अब तक कई टेस्टी डिशेज बनायी और खायी होगी। अब बनाइये ओट्स के पकौड़े। बेसन, चावल का आटा और ओट्स को मिलाकर तैयार होने वाला यह पकौड़ा बेहद आसानी से तैयार हो जाता है। चावल का आटा आधा कप, प्याज 2 (बारीक कटा), धनिया पत्ता मुट्ठीभर (बारीक कटा), हरी मिर्च 6, अदरक 1 इंच, करी पत्ता मुट्ठीभर, लहसुन 7 कलियां, मक्खन 2 चम्मच, नमक चुटकी भर, तेल 1 कप. 

संगीत न बजे तो जिम जा सकती हैं मुस्लिम महिलाएं: उलेमा

Muslim women can gymसहारनपुर। मुस्लिम महिलाएं जिम जा सकती हैं या नहीं? देवबंदी उलेमा ने इस मसले पर अपनी राय रखी है। देवबंदी उलेमा मुफ्ती मेहंदी हसन ऐनी कहा कि जिम जाने वाली मुस्लिम महिलाओं को देखना चाहिए कि वहां बेपर्दगी तो नहीं हो रही है। जिम में गाने वगैरह तो नहीं चलते, या सुने जाते। ट्रेनर वहां औरतें हैं या नहीं। मदरसा जामिया हुसैनिया के मुफ्ती तारिक कासमी ने कहा कि औरतें अपने शरीर को फिट रखने के लिए जिम जाती हैं तो इस्लाम के अंदर इसकी गुंजाइश हो सकती है। हालांकि उन्होंने इसके लिए कुछ शर्तों की बात करते हुए कहा कि वहां दूसरे मर्द न आते हों और गाना-बजाना न होता हो और बाकायदा पर्दे का माकुल इतंजाम हो। यह भी कहा कि औरतों का शरीर एक-दूसरे के सामने खुला न हो।

नाबालिग पत्नी से सेक्स भी रेप : सुप्रीम कोर्ट

sex with minor bride is rape says supreme courtनई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने नाबालिग पत्नी से शारीरिक संबंध को रेप माना है। सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 375-2 को असंवैधानिक बताया है, जिसके मुताबिक 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा। फैसले के मुताबिक यदि नाबालिग पत्नी एक साल के भीतर शिकायत करती है तो पति पर रेप का मुकदमा चलेगा।

पाताल भैरवी मंदिर में मिलता है जड़ी बूटियों वाला प्रसाद

Patal Bhairavi Special Prasadरायपुर। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में देवी का एक ऐसा मंदिर हैं जहां प्रसाद के रूप में खीर दी जाती है। इस खीर के बारे में कहा जाता है कि इसे खाने से भक्तों के कई तरह की बीमारियों से ढुटकारा मिल जाता है। दरअसल प्रसाद के लिए बनने वाली इस खीर को बनाने का एक अलग ही तरीका है। राजनांदगांव राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित इस मंदिर में छत्तीसगढ़ के कोने-कोने से लोग दर्शन करने और खासकर माता का प्रसाद लेने आते हैं। ये मंदिर है पाताल भैरवी की जिनकी प्रतिमा जमीन से 16 फीट नीचे है। रौद्र रूप में ये प्रतिमा 15 फीट ऊंची और 11 टन वजनी है। यहां नवरात्रि में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगती है।

दंतेश्वरी मंदिर को जमीन देने वाले देवता की पूजा कुटिया में

दंतेवाड़ा। विश्व प्रसिद्ध दंतेवाड़ा की देवी दंतेश्वरी के दर्शन करने लाखों श्रद्धालु आते हैं और प्रतिमा और मंदिर की निर्माण शैली देख मंत्रमुग्ध होते हैं। परिसर में साज-सज्जा के साथ भव्यता भी आ रही है। लेकिन माईजी को दंतेवाड़ा में जगह देने वाले ग्रामदेव बोधबाबा आज भी उपेक्षित हैं। दंतेवाड़ा। विश्व प्रसिद्ध दंतेवाड़ा की देवी दंतेश्वरी के दर्शन करने लाखों श्रद्धालु आते हैं और प्रतिमा और मंदिर की निर्माण शैली देख मंत्रमुग्ध होते हैं। परिसर में साज-सज्जा के साथ भव्यता भी आ रही है। लेकिन माईजी को दंतेवाड़ा में जगह देने वाले ग्रामदेव बोधबाबा आज भी उपेक्षित हैं।

नवरात्रि पर एमजे कालेज में डांडिया प्रतियोगिता

एमजे कालेज में डांडिया प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अपराध शाखा श्रीमती सुरेशा चौबे मुख्य अतिथि थीं। महाविद्यालय के चेयरमैन अशोक गुप्ता, श्रीमती मंजुला गुप्ता, श्रीमती भूमिका गुप्ता एवं डायरेक्टर श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थीं। भिलाई। एमजे कालेज में डांडिया प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अपराध शाखा श्रीमती सुरेशा चौबे मुख्य अतिथि थीं। महाविद्यालय के चेयरमैन अशोक गुप्ता, श्रीमती मंजुला गुप्ता, श्रीमती भूमिका गुप्ता एवं डायरेक्टर श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थीं। 

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) की अस्मिता का सवाल

BHU-attrocity_1बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की सरगर्मियों के बीच बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) की एक छात्रा के साथ छेडख़ानी होती है। छात्रा वार्डन से शिकायत करती है। वार्डन उलटे उसी को धमकाने लगता है। मामला विश्वविद्यालय के कुलपति के पास ले जाने की कोशिश होती है तो वे समय ही नहीं देते। अब छात्र समुदाय मामले को सड़क पर लेकर आता है तो उनपर पुलिस छोड़ दी जाती है। वही पुलिस जिनपर छात्राओं की एक रिपोर्ट पर छेडख़ानों की क्लास लगाने की जिम्मेदारी है। प्रशासनिक हेकड़ी का इससे बेहतर उदारण और क्या हो सकता है।

श्रीमंत झा ने जीता पंजा कुश्ती का कांस्य पदक

Shrimant Jha Arm Wrestlerभिलाई। बुडापेस्ट (हंगरी) में सम्पन्न विश्व पंजा कुश्ती प्रतियोगिता के डिसेबल्ड वर्ग में छत्तीसगढ़ के पंजा कुश्ती खिलाड़ी श्रीमंत झा ने अपने वजन वर्ग में कांस्य पदक जीतकर छत्तीसगढ़ व देश को गौरवान्वित किया है। भारत के ही हरीश कुमार तथा विनोद ने अपने अपने वर्ग में रजक पदक जीता है। इस प्रतियोगिता में 50 देशों के लगभग 1500 खिलाड़ियों व अधिकारियों ने शिरकत की। प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ पंजा कुश्ती संघ के अध्यक्ष एवं भारतीय पंजा कुश्ती महासंघ प्रमुख चेयरमेन जी सुरेश (बाबे) की अगुवाई में भारतीय टीम ने 2 स्वर्ण, 2 रजत एवं 3 कांस्य सहित 10 पदक जीतने में सफलता पाई है।  श्रीमंत झा को उनकी इस उपलब्धि पर छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के उपाध्यक्ष एवं भारतीय फेंसिंग महासंघ के महासचिव बशीर अहमद खान, छत्तीसगढ़ पंजा कुश्ती संघ के कार्यकारी अध्यक्ष कृष्णा साहू ने उन्हें बधाई दी है।

RPS Classical Dancers Shine in Odisha and Sri Lanka

RPS Bhilai KathakBhilai. Two students of the Rungta Public School have won laurels for the city with their brilliant Kathak performances. Indian Culture Center Colombo, Sri Lanka organized a cultural programme, Bharat Sanskriti Yatra on 8 th September ‘17. Pihu Jain of Class VIII participated in Kathak Dance Competition and bagged ‘Future Talent’ Award for her mesmerizing performance. Similarly, India Theatre Olympiad Cuttack, Odisha organized the festival of Indian Art & Culture in August ‘17.In this festival,  Solo Classical Dance, Kathak was performed by Shreya Chopra of Class X and bagged  ‘National Nritya Shree’ award for her excellent talent and extra- ordinary performance and brilliant achievement in the field of Kathak. Pihu is a desciple of Classical Nritya Guru Dr Rakhi Roy whereas Shreya Chopra is a student of Kathak Guru Upasana Tiwari.

TEDxRCET : इन हस्तियों ने दी अपने जीवन में हर चुनौती को मात

Santosh Rungta Campus में सजा TEDxRCET का ग्लोबल मंच
भिलाई। संतोष रूंगटा कैम्पस में टेडेक्स आरसीईटी का आयोजन हुआ। इस ग्लोबल मंच से अपने जीवन में बड़ी से बड़ी चुनौती को मात देने वाली छह हस्तियों ने अपनी आपबीती शेयर की। इन लोगों ने बताया कि किस तरह जीवन के उस मोड़ पर भी उन्होंने हौसला नहीं गंवाया जब चारों तरफ घुप्प अंधेरा था। उन्होंने न केवल उन अंधेरी गलियों से बाहर निकलने का रास्ता निकाला बल्कि असाधारण उपलब्धियां हासिल कीं। रूंगटा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स तथा भिलाई राउण्ड टेबल के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में फिल्ममेकर अनुराग बसु, मेजर डॉ. सुरेन्द्र पूनिया वीएसएम, एंजल इन्वेस्टर शशीकान्त चौधरी, शिक्षाविद् डॉ. जवाहर सूरीसेट्टी, पद्मश्री फुलबासन बाई यादव तथा मशहूर सितार वादक अनुपमा भागवत ने अपने अनुभव शेयर किए। मौके पर रूंगटा समूह के चेयरमेन संतोष रूंगटा, डायरेक्टर टेक्निकल डॉ. सौरभ रूंगटा, डायरेक्टर एफ एण्ड ए सोनल रूंगटा तथा समूह द्वारा भिलाई तथा रायपुर में संचालित कॉलेजों के डायरेक्टर्स, प्रिंसिपल, फैकल्टी तथा स्टूडेंट उपस्थित थे।

हाईस्कूल के साइंस स्टूडेंट्स साइंस कालेज में सीख रहे प्रैक्टिकल

science-college-durgसरोकार योजना में साइंस कालेज की सराहनीय पहल
दुर्ग। साइंस कालेज दुर्ग अपनी उन्नत विज्ञान प्रयोगशालाओं का लाभ अपने आसपास के हायर सेकण्डरी स्कूलों को दिया जा रहा है। यह पहल यूजीसी की सामाजिक सरोकार योजना के तहत की गई है। इससे इन स्कूली छात्र-छात्राओं को बेहतर शिक्षा मिल सकेगी। 

उम्र 30 पार, रुपये के लिए अब भी पैरंट्स के भरोसे: रिपोर्ट

उम्र 30 पार, रुपये के लिए अब भी पैरंट्स के भरोसे: रिपोर्ट मुंबई। भारत समेत दुनियाभर में कई देशों के 50 फीसदी पैरंट्स ने अपने बच्चों के 18 साल से ज्यादा या वयस्क हो जाने के बाद भी उनसे अपना आर्थिक नाता नहीं तोड़ा है। जरूरत पड़ने पर वे कई सालों से अपने बच्चों को आर्थिक मदद लगातार मुहैया करा रहे हैं।मुंबई। भारत समेत दुनियाभर में कई देशों के 50 फीसदी पैरंट्स ने अपने बच्चों के 18 साल से ज्यादा या वयस्क हो जाने के बाद भी उनसे अपना आर्थिक नाता नहीं तोड़ा है। जरूरत पड़ने पर वे कई सालों से अपने बच्चों को आर्थिक मदद लगातार मुहैया करा रहे हैं। इनमें से कई बच्चों की उम्र अब 30 साल से भी अधिक हो चुकी है। 48 फीसदी पैरंट्स अपने बच्चों की करीब 12 साल पहले से, जब वे 18 साल के थे, तब से रुपये-पैसे की जरूरत को लगातार पूरा कर रहे हैं। एक अध्ययन के अनुसार मध्य-पूर्व और एशिया में लोग 18 साल से बड़ी उम्र के बच्चों को यूरोप और अमेरिका की तुलना में आर्थिक रूप से काफी सहयोग करते हैं।