Category Archives: Literature

राष्ट्रीय तालाबंदी काव्य प्रतियोगिता में मंजू जायसवाल को उपविजेता का खिताब

Manju Jaiswal runner up in national poetry competitionभिलाई। विश्व हिन्दी साहित्य सेवा संस्थान प्रयागराग उत्तरप्रदेश द्वारा ऑनलाईन आयोजित राष्ट्रस्तरीय तालाबंदी काव्य प्रतियोगिता 6, लॉकडाऊन 06 राष्ट्रीय प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में एमजीएम स्कूल सेक्टर 6 की शिक्षिका मंजू जायसवाल ने दोनों ही प्रतियोगिता में उप विजेता होने का गौरव हासिल किया है। विश्व हिन्दी साहित्य सेवा संस्थान के अध्यक्ष डॉ.सहाबुद्दीन नियज महम्मूद शेख एवं सचिव डॉ.गोकुलेश कुमार द्विवेदी के निर्देशन में आयोजित इस राष्ट्रीय स्तरीय प्रतियोगिता में मंजू जायसवाल ने प्रश्नोत्तरी राऊंड का रिजल्ट 15 मिनट 50 सेकेण्ड में देकर एक रिकॉर्ड बनाया है।

वेब संगोष्ठी परसाई के व्यंग्य आज भी प्रासंगिक – डॉ रमेश तिवारी

Parsai Jayanti at Science College Durgदुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय के हिन्दी विभाग तथा आईक्यूएसी के संयुक्त तत्वावधान में परसाई जी की जयंती पर हिन्दी व्यंग्य परंपरा और हरिशंकर परसाई विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी का उद्घाटन महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आरएन सिंह ने किया।

स्वरूपानंद महाविद्यालय एवं स्टोरी मिरर के राष्ट्रीय कहानी-कविता लेखन स्पर्धा में प्रविष्टि 31 तक

Poetry & Story writing competitionभिलाई। स्वामी श्रीस्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय एवम स्टोरी मिरर के संयुक्त तत्वावधान में आजादी के 74वें साल में आयोजित देशभक्ति कविता एवं कहानी प्रतियोगिता ‘रंग दे बसंती चोला’ में प्रविष्टियां भेजने के कुछ ही दिन शेष हैं। प्रविष्टियां 31 अगस्त तक भेजी जा सकती हैं। इसके परिणाम सितम्बर माह के प्रथम सप्ताह में जारी कर दिये जाएंगे। प्रतियोगिता का उद्देश्य स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देशभक्तिपूर्ण माहौल बनाना तथा देशभक्ति के जज्बे को कविता या कहानी के माध्यम से प्रस्तुत करना है।

शंकराचार्य महाविद्यालय की डॉ नीता की पुस्तक का प्रकाशन

Dr Neeta Sharma publishes a book on indian cities भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी भिलाई में अंग्रेजी की सहायक प्राध्यापक डॉ नीता शर्मा की पुस्तक एनविजनिंग इंडियन सिटीज इन इंडियन इंग्लिश लिटरेचर प्रकाशित हुई है। प्रकाशन पर श्रीगंगाजलि एजुकेशन सोसायटी के चेयरमैन आईपी मिश्रा एवं अध्यक्ष जया अभिषेक मिश्रा ने उन्हें अपनी शुभकामनाएं दी हैं। महाविद्यालय की निदेशक एवं प्राचार्य डॉ रक्षा सिंह, अतिरिक्त निदेशक डॉ जे दुर्गा प्रसाद राव ने भी डॉ नीता को बधाई देते हुए उनकी उत्तरोत्तर प्रगति की कामना की है।

पुस्तक समीक्षा “उड़ान”- प्रभावित करती है भूपेन्द्र की सरल-सहज अभिव्यक्ति

Udaan by Dr Bhupendra Kuldeep inspires the reader to never lose hopeभूपेन्द्र कुलदीप की पुस्तक “उड़ान” की सरलता और सहजता प्रभावित करती है। छोटे-छोटे संवादों के सहारे कथानक द्रुत गति से आगे बढ़ता है। पाठक इस तरह खो जाता है कि कब पुस्तक समाप्त हो जाती है, पता ही नहीं लगता। इसमें प्रेम है, पिता-पुत्र और पिता-पुत्री के बीच की संवेदनाएं हैं, मदद करने वाले मित्र है। छोटी-छोटी नौकरियां हैं और बड़े-बड़े सपने हैं। स्वाध्याय और परस्पर सहयोग से बड़े लक्ष्यों की प्राप्ति का रास्ता है। भूपेन्द्र उन सफल रचनाकारों में से हैं जिन्हें पढ़ते समय मन कुछ और पन्नों को पढ़ने के लिए व्याकुल हो जाता है। यह पुस्तक लेखक के अपने जीवन संघर्ष को अभिव्यक्त करती है।

TEDxRCET : जिन्दगी को मकसद मिले तो हर गम हो जाता है छोटा : अर्पित

संतोष रूंगटा समूह के टेडएक्स में ‘लेट अस नेवर गेट मैरीड’ के लेखक से मुलाकात

Let's Never Get Marriedभिलाई। जीवन को एक मकसद दे देना हजार दुश्वारियों का अंत कर सकता है। बलात्कार के बाद तृषा अपना अंत करना चाहती है पर पढ़ाने की अपनी जिजीविषा उसे रोकती है और फिर बच्चों को पढ़ाना ही उसके जीवन का मकसद बन जाता है। लोहित की प्रेमिका का रेप हो जाता है और वह उसकी जिन्दगी से गायब हो जाती है। लोहित अपराध को होने से पहले रोकने की दिशा में स्वयं को समर्पित कर देता है और यही उसके जीवन का मकसद बन जाता है। हादसे के तीन वर्ष बाद उनकी मुलाकात नाटकीय परिस्थिति में होती है और वे इस शर्त के साथ साथ रहने को तैयार हो जाते हैं कि वे कभी विवाह नहीं करेंगे। यही कथानक है ‘लेट अस नेवर गेट मैरीड’ का। इसे लिखा है युवा इंजीनियर अर्पित अग्रवाल ने।

भूपेश ने हार्वर्ड में दिया गुरू घासीदास का संदेश, कहा ‘मनखे-मनखे एक समान’

नवरा-गरवा-घुरवा-बारी और मुख्यमंत्री हाटबाजार क्लिनिक का दिया ब्यौरा

CM Bhupesh Baghel on Guru Ghasidas at Harvardरायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय में आयोजित भारत सम्मेलन में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में जाति व्यवस्था है लेकिन जाति वैमनस्यता कहीं देखने को नही मिलेगी। यह संतों की भूमि है। गुरू घासीदास ने ‘मनखे-मनखे एक समान’ का संदेश दिया था जो छत्तीसगढ़ के जनजीवन में व्याप्त है। उन्होंने भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति और संस्कृति के अंतरसंबंधों की चर्चा करते हुए कहा कि जाति और राजनीति को भी इसी परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए।

चटख रंगों से सजा है नन्दिनी का रचना संसार, अभिव्यक्त होती है सरलता

नेहरू आर्ट गैलरी भिलाई में एकल प्रदर्शनी का शुभारंभ, युवा कलाकारों के साथ ही पहुंचे कला मर्मज्ञ भी

Nandini Verma displayes her paintings in Nehru Art Galleryभिलाई। आधुनिक जीवन शैली के नीचे कहीं दब गई है हमारी मौलिकता। खो गए हैं वो पल, जिनके लिए मन तड़पता है। सखियों का साथ बैठना, हंसना-खिलखिलाना, अभिसारिका के हाथों के कोमल स्पर्श को महसूस करना, संतान से जीवन्त सम्पर्क, नन्दिनी के चित्रों में वह सबकुछ है जो सुखद जीवन के अपरिहार्य अंग हैं। नन्दिनी की तूलिका इन प्रसंगों को चटख रंगों से जीवंत कर देती है। जीवन प्रवाह ‘फ्लो ऑफ़ लाइफ’ का उनका समृद्ध संग्रह बरबस ही आपको एक अलग दुनिया में ले जाता है। उनके अमूर्त एवं साकार चित्रों में जनजीवन को भी अभिव्यक्ति मिलती है। उनकी कृतियों की प्रदर्शनी नेहरू आर्ट गैलरी में गुरुवार को प्रारंभ हुई।

नेहरू आर्ट गैलरी में नंदिनी वर्मा के तैलचित्रों की एकल प्रदर्शनी आज से

Nandini Verma's Paintings to be exhibited today in Nehru Art Gallery Bhilaiदुर्ग। नेहरू आर्ट गैलरी सिविक सेन्टर में नंदिनी वर्मा के तैलचित्रों की एकल प्रदर्शनी का उद्घाटन 13 फरवरी की शाम 5:30 बजे सेल भिलाई इस्पात संयंत्र के ईडी (एमएम) श्री राकेश करेंगे। नंदिनी के चित्रों की प्रदर्शनी इससे पूर्व भी देश-विदेश की अनेक कला दीर्घाओं में  लग चुकी है। तीन दिवसीय यह प्रदर्शनी गुरुवार से शनिवार तक प्रतिदिन संध्या 5:30 से 8:30 बजे तक अवलोकनार्थ खुली रहेगी। अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चित्रकार नंदिनी वर्मा की तूलिका छत्तीसगढ़ के ग्रामीण जन जीवन को एक अलग नजरिये से देखती हैं।

नवोदित लेखक एवं कवि शुचि के दोहा और गजल संकलन का विमोचन

Ghazal collection of Shichi Bhavi Releasedभिलाई। नवोदित कवि एवं लेखक शुचि भवि की दो कृतियां दोहा संग्रह ‘आर्यकुलम की नींव’ एवं ग़जल संग्रह ‘मसाफते ख्वाहिशात’ का विमोचन स्थानीय रॉयल ग्रीन कॉलोनी में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्यकार विनोद मिश्र ने की जबकि संचालन डॉ. साकेत रंजन प्रवीर ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि लुधियाना से पधारे प्रसिद्ध साहित्यकार सागर सियालकोटी थे। अध्यक्षता कर रहे विनोद मिश्र ने लेखक की बहुआयामी जिम्मेदारियों की चर्चा करते हुए कहा कि लेखक का एक महत्वपूर्ण धर्म होता है जो हमेशा सकारात्मक होता है।