Category Archives: Literature

भूपेश ने हार्वर्ड में दिया गुरू घासीदास का संदेश, कहा ‘मनखे-मनखे एक समान’

नवरा-गरवा-घुरवा-बारी और मुख्यमंत्री हाटबाजार क्लिनिक का दिया ब्यौरा

CM Bhupesh Baghel on Guru Ghasidas at Harvardरायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय में आयोजित भारत सम्मेलन में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में जाति व्यवस्था है लेकिन जाति वैमनस्यता कहीं देखने को नही मिलेगी। यह संतों की भूमि है। गुरू घासीदास ने ‘मनखे-मनखे एक समान’ का संदेश दिया था जो छत्तीसगढ़ के जनजीवन में व्याप्त है। उन्होंने भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति और संस्कृति के अंतरसंबंधों की चर्चा करते हुए कहा कि जाति और राजनीति को भी इसी परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

चटख रंगों से सजा है नन्दिनी का रचना संसार, अभिव्यक्त होती है सरलता

नेहरू आर्ट गैलरी भिलाई में एकल प्रदर्शनी का शुभारंभ, युवा कलाकारों के साथ ही पहुंचे कला मर्मज्ञ भी

Nandini Verma displayes her paintings in Nehru Art Galleryभिलाई। आधुनिक जीवन शैली के नीचे कहीं दब गई है हमारी मौलिकता। खो गए हैं वो पल, जिनके लिए मन तड़पता है। सखियों का साथ बैठना, हंसना-खिलखिलाना, अभिसारिका के हाथों के कोमल स्पर्श को महसूस करना, संतान से जीवन्त सम्पर्क, नन्दिनी के चित्रों में वह सबकुछ है जो सुखद जीवन के अपरिहार्य अंग हैं। नन्दिनी की तूलिका इन प्रसंगों को चटख रंगों से जीवंत कर देती है। जीवन प्रवाह ‘फ्लो ऑफ़ लाइफ’ का उनका समृद्ध संग्रह बरबस ही आपको एक अलग दुनिया में ले जाता है। उनके अमूर्त एवं साकार चित्रों में जनजीवन को भी अभिव्यक्ति मिलती है। उनकी कृतियों की प्रदर्शनी नेहरू आर्ट गैलरी में गुरुवार को प्रारंभ हुई।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

नेहरू आर्ट गैलरी में नंदिनी वर्मा के तैलचित्रों की एकल प्रदर्शनी आज से

Nandini Verma's Paintings to be exhibited today in Nehru Art Gallery Bhilaiदुर्ग। नेहरू आर्ट गैलरी सिविक सेन्टर में नंदिनी वर्मा के तैलचित्रों की एकल प्रदर्शनी का उद्घाटन 13 फरवरी की शाम 5:30 बजे सेल भिलाई इस्पात संयंत्र के ईडी (एमएम) श्री राकेश करेंगे। नंदिनी के चित्रों की प्रदर्शनी इससे पूर्व भी देश-विदेश की अनेक कला दीर्घाओं में  लग चुकी है। तीन दिवसीय यह प्रदर्शनी गुरुवार से शनिवार तक प्रतिदिन संध्या 5:30 से 8:30 बजे तक अवलोकनार्थ खुली रहेगी। अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चित्रकार नंदिनी वर्मा की तूलिका छत्तीसगढ़ के ग्रामीण जन जीवन को एक अलग नजरिये से देखती हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

नवोदित लेखक एवं कवि शुचि के दोहा और गजल संकलन का विमोचन

Ghazal collection of Shichi Bhavi Releasedभिलाई। नवोदित कवि एवं लेखक शुचि भवि की दो कृतियां दोहा संग्रह ‘आर्यकुलम की नींव’ एवं ग़जल संग्रह ‘मसाफते ख्वाहिशात’ का विमोचन स्थानीय रॉयल ग्रीन कॉलोनी में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्यकार विनोद मिश्र ने की जबकि संचालन डॉ. साकेत रंजन प्रवीर ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि लुधियाना से पधारे प्रसिद्ध साहित्यकार सागर सियालकोटी थे। अध्यक्षता कर रहे विनोद मिश्र ने लेखक की बहुआयामी जिम्मेदारियों की चर्चा करते हुए कहा कि लेखक का एक महत्वपूर्ण धर्म होता है जो हमेशा सकारात्मक होता है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

डॉ संतोष राय इंस्टीट्यूट की डॉ मिटठू और सीए प्रवीण इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज

यह एक गुरू की निष्ठा और समर्पण का ही परिणाम : देवेन्द्र यादव

Dr Mitthu and CA Praveen make it to the India Book of Recordsभिलाई। डॉ संतोष राय इंस्टीट्यूट की फैकल्टी डॉ मिटठू और सीए प्रवीण बाफना का नाम आज इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज हो गया। महापौर एवं भिलाई विधायक देवेन्द्र यादव की उपस्थिति में उन्हें यह सम्मान इंडिया बुक के एडजुडिकेटर डॉ कुशाल सचान ने प्रदान किया गया। डॉ मिटठू और सीए प्रवीण ने यह रिकार्ड अपने-अपने विषय में लगातार 12 घंटे से अधिक समय तक मैराथन क्लास लेकर बनाया। इस दौरान विद्यार्थी बदलते रहे पर टीचर्स ने अपनी जगह नहीं छोड़ी। रिकार्ड बनाने के बाद दोनों शिक्षकों ने अपने प्रेरणास्रोत डॉ संतोष राय का चरणस्पर्श कर यह रिकार्ड उन्हें समर्पित कर दिया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

‘चरणदास चोर’ विराट को सपत्नीक 18वां रामचंद्र देशमुख बहुमत सम्मान

अभिनेता की स्वायत्तता की पक्षधर है छत्तीसगढ़ी लोककला : जयप्रकाश साव
कुछ ऐसा करना चाहिए कि लोग हमें हमारे अच्छे कर्मों से याद रखें : देवेन्द्र यादव

Ramchandra Deshmukh Bahumat Samman to Deepak Tiwari Virat and Poonam Viratभिलाई। ‘रंग-छत्तीसा’ के संस्थापक लोक कलाकार ‘चरणदास चोर’ दीपक तिवारी विराट एवं उनकी पत्नी लोक कलाकार पूनम विराट को आज 18वां रामचंद्र देशमुख बहुमत सम्मान संयुक्त रूप से प्रदान किया गया। कलामंदिर में आयोजित एक गरिमामय समारोह में भिलाई की प्रबुद्ध बिरादरी इस सम्मान की साक्षी बनी। प्रख्यात लेखक एवं समालोचक जयप्रकाश साव ने इस अवसर पर कहा कि छत्तीसगढ़ी लोककला ने हमेशा अभिनेता की स्वायत्तता को सर्वोपरि रखा है। भारतीय लोककला की निरंतरता, जीवंतता एवं विकास में दीपक तिवारी एवं पूनम तिवारी जैसे कलाकारों की महति भूमिका है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

रामचंद्र देशमुख बहुमत सम्मान पूनम एवं दीपक तिवारी ‘विराट’ को

Deepak Poonam Tiwari get Ramchandra Deshmukh Sammanभिलाई। इस वर्ष का रामचंद्र देशमुख बहुमत सम्मान रंगकर्मी दंपत्ति श्रीमती पूनम एवं दीपक तिवारी ‘विराट’ को संयुक्त रूप से प्रदान किया जाएगा। उन्हें यह प्रतिष्ठित सम्मान रंगकर्म और लोकनाट्य के क्षेत्र में चार दशकों की एकाग्र, प्रदीर्घ एवं संघर्षशील कला यात्रा के लिये प्रदान किया जाएगा। सुप्रसिद्ध रंगकर्मी एवं कला विशेषज्ञ राजेश गनोद वाले की अध्यक्षता में गठित निर्णायक समिति के सदस्यगण विजय वतर्मान, डॉक्टर सुनीता वर्मा, श्रीमती नीलांजना मुरली एवं दुर्गा प्रसाद पारकर की अनुशंसा के आधार पर यह निर्णय लिया गया है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर : पं. मदनमोहन त्रिपाठी

भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन को अपने पीछे लगाकर जहां मौत के मुंह तक पहुंचाया वहीं नारदजी ने सूचनाओं का सही व्यक्ति तक प्रेषण कर स्थान-काल-परिस्थितियां निर्मित कीं।’ उक्त बातें आज पं. मदन मोहन त्रिपाठी ने केपीएस कुटेलाभाटा में श्रीमदभागवत के दौरान विभिन्न घटनाओं की व्याख्या करते हुए प्रसंगवश कहीं। केपीएस समूह के चेयरमैन पं. त्रिपाठी ने आज के प्रवचन की शुरुआत जरासंध के बार-बार मथुरा पर आक्रमण की घटनाओं से की।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

बेटों को बंदूक-बल्ला तो बेटियों को तोहफे में गुड़िया-बर्तन, कैसे आएगी लैंगिक समानता

माइलस्टोन के बच्चों ने वार्षिकोत्सव में समाज से किए बुनियादी सवाल

Gender Equality in Milestone Academy's annual functionभिलाई। बेटों को बंदूक-बल्ला तो बेटियों को तोहफे में गुड़िया और बर्तन देने का रिवाज है। बेटियों के जन्म पर मायूस और बेटों के जन्म पर खुशिया मनाता यह समाज लैंगिक असमानता के बीज बचपन में ही बो देता है। यह और बात है कि बेटियों की तरह बेटे भी समाज और परिवार की अपेक्षाओं के बोझ चले दब कर कराह रहे हैं। ऐसे में खुशहाल परिवारों की कल्पना भी नहीं की जा सकती। यह मसला माइलस्टोन के बच्चों ने अपने 24वें वार्षिकोत्सव ‘जेस्ट-2019’ ने पूरी शद्दत के साथ उठाया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

बराबरी के लिए मची है पुरुषों के विकारों को अपनाने की होड़ : राजकुमार शर्मा

माइलस्टोन अकादमी के वार्षिकोत्सव ‘जेस्ट-2019’ के अंतिम दिन बोले वरिष्ठ शिक्षाविद

Milestone Academy Annual Fest Zestभिलाई। वरिष्ठ शिक्षाविद तथा श्रीशंकराचार्य विद्यालय के पूर्व प्राचार्य राजकुमार शर्मा ने कहा कि आज बराबरी के नाम पर महिलाएं पुरुषों के विकारों को अपना रही हैं। इससे स्थिति और बिगड़ेगी। स्त्री और पुरुष एक दूसरे के पूरक हैं जिसे बदला नहीं जा सकता। हालांकि इससे कोई इंकार नहीं है कि दोनों को समान अवसर और अधिकार मिलने चाहिए ताकि वे स्वयं का मनचाहा विकास कर सकें। यह एक गंभीर विषय है जिसपर पूरे समाज को चिंतन करना चाहिए।  Milestone Academy Zest-2019श्री शर्मा यहां माइलस्टोन अकादमी के वार्षिकोत्सव ‘जेस्ट-2019’ के चौथे एवं अंतिम दिन के समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे। 

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare