धमतरी। बांस से तो हम सभी परिचित हैं। बांस से बनी सजावटी वस्तुओं के बारे में भी हम सभी जानते हैं पर बांस से जेवर More »

भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

 

Monthly Archives: July 2020

अपनी सुरक्षा को दांव पर लगाकर स्पर्श के चिकित्सकों ने बचाई दो लोगों की जान

Surgery team of Sparsh Multispeciality Hospital saves two livesभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल के चिकित्सकों की टीम ने अपनी सुरक्षा को दांव पर लगाकर इमरजेंसी में दो मरीजों की जान बचा ली। दोनों ही मरीज युवा थे और उनकी हालत बेहद नाजुक हो चुकी थी। इनमें से एक युवक था जो सड़क हादसे में घायल होकर पहुंचा था। दूसरी मरीज एक 30 वर्षीय गर्भवती महिला थी। दोनों की सर्जरी की गई और एक सप्ताह से भी कम समय में दोनों अपने अपने घर चले गए।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

प्राध्यापक कोरोना काल में आए परिवर्तन को स्वीकारें – उच्च शिक्षा मंत्री पटेल

दुर्ग विश्वविद्यालय एवं साइंस कॉलेज का संयुक्त 10 दिवसीय फेकल्टी डेव्हलपमेंट प्रोग्राम प्रारंभ

Faculty Development program on online educationदुर्ग। वर्तमान कोविड-19 काल में परंपरागत कक्षाओं के स्थान पर ऑनलाईन शिक्षण व्यवस्था आवश्यक है। सभी प्राध्यापकों को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे रचनात्मक परिवर्तन को स्वीकार करना चाहिए। ये उद्गार छत्तीसगढ़ शासन के उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने आज हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, दुर्ग एवं साइंस कॉलेज दुर्ग द्वारा संयुक्त रूप से 10 दिवसीय ऑनलाईन फेकल्टी डेव्हलपमेंट प्रोग्राम के उद्घाटन अवसर पर व्यक्त किये।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

शंकराचार्य महाविद्यालय में व्यक्तित्व विकास में संगीत की भूमिका पर वेबीनार

Webinar on music in SSMV Bhilaiभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी भिलाई के सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के द्वारा दिनांक एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन 21 जुलाई को किया गया। इसका शीर्षक था-छात्रों के व्यक्तित्व विकास में संगीत की भूमिकाः को कोरोना के परिप्रेक्ष्य में। संगीत का छात्रों के व्यक्तित्व विकास पर प्रभाव पर पूरे छत्तीसगढ़ में संभवतः यह पहला कार्यक्रम था। वर्तमान में करोना के बढ़ते असर के कारण लोगों में अवसाद एवं आत्महत्या की प्रवृत्ति बढ़ रही है। इसे दृष्टिगत रखते हुए संगीत पर आधारित वेबीनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ राष्ट्रीय नृत्य निदेशक एवं कथक कोरोयोग्राफर डॉ सरिता श्रीवास्तव के वीडियो से किया गया। स्वागत भाषण महाविद्यालय के अतिरिक्त निदेशक डॉ जे. दुर्गा प्रसाद राव ने दिया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

दुर्ग साइंस कालेज के प्रोफेसर अजय सिंह नेशनल अकादमी आँफ साइंसेस के सदस्य मनोनीत

Dr Ajay Singh nominated to the National Academy of Sciencesदुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय के रसायन शास्त्र के प्राध्यापक डॉ अजय कुमार सिंह को ‘‘द नेशनल अकादमी आँफ साइंसेस इंडिया’’ का सदस्य मनोनीत किया गया है। पूरे मध्य भारत के किसी भी महाविद्यालय से प्रतिष्ठित नेशनल अकादमी आँफ साइंस इंडिया में रसायन शास्त्र से सदस्य के रुप में मनोनीत होने वाले डॉ अजय सिंह पहले एवं एकमात्र प्राध्यापक है। डॉ अजय सिंह की राष्ट्रीय स्तर की इस उपलब्धि पर हर्षव्यक्त करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आर.एन. सिंह ने जानकारी दी कि आमतौर पर इन अकादमी में बड़े शैक्षणिक संस्थानों जैसे आई.आई.टी., एन.आई.टी., शोध संस्थानों (सी.एस.आई.आर., बी.ए.आर.सी.) ट्रिपल आई.टी. आदि के प्राध्यापकों का मनोनयन किया जाता है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

कोरोना : रूंगटा कालेज की इंजीनियरिंग स्टूडेन्ट ने बनाए मास्क, गरीबों तक पहुंचाया

RCET girls make and distribute masks to the needyभिलाई। संतोष रूंगटा समूह (आर-1) द्वारा संचालित तकनीकी महाविद्यालय की छात्राओं ने गरीब बस्तियों तक मास्क पहुंचाने का काम किया है। इन छात्राओं ने अपने साधनों से कपड़ों की व्यवस्था की और फिर खुद ही उसे सीलकर मास्क बनाया। एनएसएस इकाई के स्वयंसेवकों के सहयोग से उन्होंने इसका वितरण गरीबों के बीच किया। कोरोना के कारण महाविद्यालय भले ही बंद हो किन्तु इन छात्राओं ने अपने लिए काम निकाल ही लिया है। 

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हरेली उत्सव मनाया गया

Hareli at SSSSMVभिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय, हुडको, भिलाई में हरेली उत्सव पर हरेली क्वीन एवं हरेली प्रिंस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थी एवं प्राध्यापकों ने अपनी प्रतिभागिता दी। ये हरेली उत्सव छत्तीसगढ़ का प्रथम त्यौहार होता है इस त्यौहार पर लोग अपने घरों को हरी पत्तियों एवं नीम से सजाते है तथा विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाये जाते है। इस अवसर पर महाविद्यालय के सीओओ डॉ दीपक शर्मा ने हरेली उत्सव की बधाई देते हुये कहा कि हरेली खुशी का प्रतीक है और इस प्रकार के कार्यक्रम से विद्यार्थी अपनी संस्कृति से रूबरू होते है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

हरियाली पर आस्था संस्था ने सेक्टर-2 पार्क में किया वृक्षारोपण

Hareli at aastha sansthaभिलाई। आस्था बहुद्देश्यीय संस्था सेक्टर-2 ने हरेली के अवसर पर सेक्टर-2 पार्क में वृक्षारोपण किया गया। सभी लोगों ने पेड़ की बड़ा होने तक देखभाल करने एवं पानी की व्यवस्था करने का संकल्प लिया। यह कार्य पिछले 15 सालों से लगातार जारी है। संस्था हर साल 100 पौधे लगाने का कार्यक्रम करती है। आस्था संस्था के सभी लोगों ने वृक्ष को पकड़कर वृक्षारोपण कर वृक्ष को सुरक्षित रखने का प्रण लिया है। इस अवसर पर सभी वृद्धों को फलाहार उपलब्ध कराया गया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

संतोष राय इंस्टीट्यूट में अंग्रेजी की उपयोगिता पर अंतरराष्ट्रीय वेबीनार

Webinar at Santosh Rai Instituteभिलाई। सीए, सीएम, सीएस में शानदार परिणाम देने वाली संस्था डॉ संतोष राय इंस्टीट्यूट ने अंग्रेजी की उपयोगिता तथा उसे सीखने एवं बेहतर बनाने के उपायों पर एक वेबीनार का आयोजन किया। इसमें कोलकाता की सीए सुचेता शर्मा, भिलाई के वाय रामचन्द्रन राव ने मल्टीनेशनल कंपनियों में अंग्रेजी की उपयोगिता एवं जरूरत विषय पर प्रकाश डाला। वहीं मारिया रिजवी ने कतर-दोहा से छात्र-छात्राओं को अंग्रेजी सीखने के टिप्स दिए।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

शंकराचार्य महाविद्यालय में हरेली पर्व का ऑनलाइन आयोजन

Hareli at SSMvभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी भिलाई के शिक्षा विभाग की तरफ हरेली पर्व के उपलक्ष्य में एक अनोखी पहल की गयी। जिसमें महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापकों एवं कर्मचारियों को फूल एवं पत्तों से छत्तीसगढ़ के पारंपरिक आभूषण निर्मित एवं हरेली पर्व के अवसर पर अपने अपने घरों से ऑनलाइन प्रदर्शित करना था। महाविद्यालय के सभी शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक कर्मचारियों ने जमीन पर गिरे हुए फूलों, पत्तियों एवं फलो से छत्तीसगढ़ी पारंपरिक आभूषणों को बनाकर एवं उसे पहनकर इन विषम परिस्थितियों में भी अपने पर्यावरण केा संरक्षित रखने के लिए पौधारोपण भी किया एवं समाज को संदेश दिया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

माँ शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट ने हरेली पर जोरातराई में किया पौधारोपण

Sharda Samarthya Trust plants trees on hareliभिलाई। माँ शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट के सदस्यों द्वारा जोरातराई औधोगिक क्षेत्र में हरेली पर पौधारोपण किया। ट्रस्ट के सदस्य अमित श्रीवास्तव, श्रीलेखा विरूलकर (एम.जे.कॉलेज), फजल फारूकी, रिजवाना फारूकी, डॉ. मिट्ठू, सी.ए. दिव्या रत्नानी, रमेश पटेल, पीयूष जोशी, डॉ. संतोष राय, विनम्र अग्रवाल, रितेश कुमार, सपना श्रीवास्तव प्रमुख रूप से उपस्थित थे। ट्रस्ट के सभी सदस्य एक स्वर में कहते हैं कि हमने समाज से, इस देश से बहुत कुछ पाया हैं इसलिए हमारा भी ये कर्तव्य हैं कि हम इस समाज के जरूरतमंदों के लिए कुछ करें।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare