भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

भिलाई। कृष्णा पब्लिक स्कूल कुटेलाभाटा ने 73वां स्वतंत्रता दिवस खुले, स्वच्छंद आकाश में ध्वजारोहण करते हर्षोल्लास के साथ मनाया। इस समारोह में स्कूल की बैण्ड More »

भिलाई। संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशंस द्वारा संचालित रूंगटा पब्लिक स्कूल में 15 अगस्त को स्कूल प्रांगण में कक्षा नसर्री से पहली तक के बच्चों द्वारा More »

भिलाई। डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल सेक्टर -2 में रक्षाबंधन मनाया गया। इस त्यौहार को अग्रिम रूप से कक्षा नसर्री, एलकेजी तथा यूकेजी के छात्रों ने More »

 

इतना हो रहा विकास तो भूख सूचकांक पर देश 103 नम्बर पर कैसे : एनके सिंह

NK Singh flays populace for taking no interest in real issuesभिलाई। वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह ने आज कहा कि देश में वास्तविक मुद्दों पर गैरजरूरी विषय हावी हो गए हैं। कोई नहीं पूछता कि एमपीलैड फंड के पांच करोड़ से कौन से काम हुए? कोई नहीं पूछता कि इतना विकास हो रहा है तो ग्लोबल हंगर इंडेक्स पर भारत का स्थान 103 पर क्यों है? भूख के सूचकांक पर पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे देश भी हमसे आगे कैसे हैं? महाराष्ट्र में लोकतंत्र का मजाक बनाया गया पर देश इससे बेजार है। बेकार के मुद्दे चर्चा के केन्द्र में हैं और देश धीरे-धीरे सड़ रहा है जिसकी किसीको फिक्र नहीं है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

छत्तीसगढ़ की प्रतिभाओं को शिखर तक ले जाने करने होंगे प्रयास : बघेल

फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ संजय रूंगटा समूह का ‘सृजन’

The biggest school student event 'Srijan' culminates at the Sanjay Rungta Group Campusभिलाई। छत्तीसगढ़ में प्रतिभा की कमी नही है। जरूरत है तो बस उसे तलाशने और तराशने की। एक सुदृढ़ प्लेटफार्म देकर उसे शिखर तक पहुंचाने की। एक ऐसा ही अभिनव प्रयास पिछले कई वर्षों से संजय रूंगटा समूह द्वारा किया जा रहा है जो अत्यंत सराहनीय है। उक्त विचार संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशंस भिलाई, दुर्ग द्वारा छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े़ स्कूल स्तरीय आयोजन सृजन-2019 के उदघाटन अवसर पर मुख्य अतिथि प्रवास सिंह बघेल जिला शिक्षा अधिकारी ने व्यक्त किये।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में रंगारंग कार्यक्रम ‘भागवतम’ का शुभारंभ

Bhagwatam Fest at Shankaracharya Mahavidyalayaभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा आयोजित आठ दिवसीय रंगारंग कार्यक्रम ‘भागवतम’ का भव्य शुभारंभ महाविद्यालय की निदेशक एवं प्राचार्य डॉ. रक्षा सिंह तथा अतिरिक्त निदेशक डॉ. जे. दुर्गा प्रसाद राव द्वारा मां सरस्वती के तैल चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया गया। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. रक्षा सिंह ने उद्बोधन में बताया कि महाविद्यालय की यह एक ऐतिहासिक पहल है जिसमें समस्त छात्र-छात्राओं ने मतदान द्वारा अपने प्रतिनिधियों को चुन कर उन्हें अध्यक्ष बनाया और इस कार्यक्रम का संचालन कर रहे है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

सम्प्रेषण की दक्षता एवं विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास के लिए होंगे प्रयास

प्राध्यापकों को शोध के लिए मिलेंगे 1 से 5 लाख रुपए तक की राशि

IQAC thrust on language skill development of studentsदुर्ग। भाषा सम्प्रेषण की दक्षता एवं विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास हेतु विशेष प्रयास किये जायेंगे। विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु हर स्तर पर रचनात्मक प्रयास किया जायेगा। ये निष्कर्ष शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय में आयोजित आईक्यूएसी सेल की वार्षिक बैठक के दौरान सामने आया। बैठक की अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. आर.एन. सिंह ने की। डॉ. सिंह ने कहा कि नैक मूल्यांकन में अच्छा ग्रेड प्राप्त करने के साथ-साथ हम सभी का यह दायित्व है, कि आर्थिक रूप से कमजोर एवं ग्रामीण परिवेश से आए हुए विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु हर संभव प्रयास करें।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

बाल दिवस पर माइलस्टोन के बच्चों ने खूब मचाई धमा-चौकड़ी

Milestones Kids enjoy themselves on Childrens Dayभिलाई। खेलना बच्चों का अधिकार है, इस बात को ध्यान में रखते हुये माइलस्टोन जूनियर, जुनवानी, भिलाई में बाल दिवस का आयोजन किया गया। जिसे बच्चों ने सिर्फ और सिर्फ खेल कर मनाया। शाला के कोर्टयार्ड में खेल की विभिन्न सामाग्रियों जैसे बॉल, किचनसेट, बैंडमिंटन, क्रिकेट, हॉकीसेट, बॉक्सिंग, झूले, फिसलपट्टी आदि अनेक चीजों को बच्चों को उपलब्ध कराया गया। बच्चों ने अपनी पसंदीदा खेल को स्वयं ही चुना तथा शिक्षिकाओं द्वारा बच्चों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare