Category Archives: Education

शंकराचार्य महाविद्यालय में मनाई गई डॉ. अब्दुल कलाम की जयंती

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के सूक्ष्मजीव विज्ञान विभाग द्वारा भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर उनके जीवनी व व्यक्तित्व के बारे में एमएससी तृतीय सेमेस्टर की छात्रा जैशमीन रजा ने अपने विचार व्यक्त किए तथा सहायक प्राध्यापक आफरीन खानम ने पावर पाइंट प्रजेन्टेशन व यूटूब विडियो के माध्यम से उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला।भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय के सूक्ष्मजीव विज्ञान विभाग द्वारा भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर उनके जीवनी व व्यक्तित्व के बारे में एमएससी तृतीय सेमेस्टर की छात्रा जैशमीन रजा ने अपने विचार व्यक्त किए तथा सहायक प्राध्यापक आफरीन खानम ने पावर पाइंट प्रजेन्टेशन व यूटूब विडियो के माध्यम से उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

कृतज्ञ होना सीख लिया तो आ जाएगी जिन्दगी जीने की कला : डॉ दीक्षित

मां शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट के सम्मान समारोह में ‘जीना इसी का नाम है’ व्याख्यान

 भिलाई। मां शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट में नए सदस्यों के अधिष्ठापन, कृति व्यक्तियों का सम्मान एवं ‘जीना इसी का नाम है’ व्याख्यान का आयोजन किया गया। आमंत्रित वक्ता डॉ आलोक दीक्षित ने इस अवसर पर कहा कि जिसने कृतज्ञ होना सीख लिया, उसे जीवन जीने की कला भी आ जाएगी। माता पिता, धरती, प्रकृति, अपना शरीर, समाज, गुरूजन या जिसके भी सम्पर्क में आने का सौभाग्य हम प्राप्त करते हैं, उनके प्रति हमें कृतज्ञ होना चाहिए।भिलाई। मां शारदा सामर्थ्य चैरिटेबल ट्रस्ट में नए सदस्यों के अधिष्ठापन, कृति व्यक्तियों का सम्मान एवं ‘जीना इसी का नाम है’ व्याख्यान का आयोजन किया गया। आमंत्रित वक्ता डॉ आलोक दीक्षित ने इस अवसर पर कहा कि जिसने कृतज्ञ होना सीख लिया, उसे जीवन जीने की कला भी आ जाएगी। माता पिता, धरती, प्रकृति, अपना शरीर, समाज, गुरूजन या जिसके भी सम्पर्क में आने का सौभाग्य हम प्राप्त करते हैं, उनके प्रति हमें कृतज्ञ होना चाहिए।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

एनेस्थीसिया डे : एनेस्थेटिस्ट के बिना सर्जरी की कल्पना करना भी मुश्किल

भिलाई। एनेस्थीसिया या निष्चेतना, चिकित्सा क्षेत्र की उस विशेषज्ञता से संबंधित है जिसके बिना सर्जरी की कल्पना तक नहीं की जा सकती। एनेस्थेटिस्ट मरीज को सर्जरी के लिये तैयार करता है, सर्जरी के दौरान एवं सर्जरी के पश्चात पूरी तरह सामान्य होने तक मरीज का प्रबंधन करता है। वह ऐसी व्यवस्था करता है कि सर्जरी के दौरान या बाद में होने वाली पीड़ा का उसे स्मरण न रहे। निश्चेतना के विषय में यहां स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल के निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ संजय गोयल से जानते हैं इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां :-भिलाई। एनेस्थीसिया या निष्चेतना, चिकित्सा क्षेत्र की उस विशेषज्ञता से संबंधित है जिसके बिना सर्जरी की कल्पना तक नहीं की जा सकती। एनेस्थेटिस्ट मरीज को सर्जरी के लिये तैयार करता है, सर्जरी के दौरान एवं सर्जरी के पश्चात पूरी तरह सामान्य होने तक मरीज का प्रबंधन करता है। वह ऐसी व्यवस्था करता है कि सर्जरी के दौरान या बाद में होने वाली पीड़ा का उसे स्मरण न रहे। निश्चेतना के विषय में यहां स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल के निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ संजय गोयल से जानते हैं इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां :-

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

खूबचंद बघेल कालेज के एनएसएस स्टूडेंट्स ने पक्षी दिवस पर लिया संकल्प

भिलाई-3। डॉ. खूबचंद बघेल शा.स्ना.महाविद्यालय भिलाई 3 की राष्ट्रीय सेवा योजना बालिका इकाई की नियमित गतिविधि के अंतर्गत कार्यक्रम अधिकारी डॉ.अल्पना देषपाण्डे ने पर्यावरण की दृष्टि से वृक्षों के महत्व के बारे में स्वयंसेवकों को अवगत कराया। वृक्षारोपण कर बरगद वृक्ष के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर बरगद एवं पीपल के औषधीय गुणों की भी चर्चा की गई।भिलाई-3। डॉ. खूबचंद बघेल शा.स्ना.महाविद्यालय भिलाई 3 की राष्ट्रीय सेवा योजना बालिका इकाई की नियमित गतिविधि के अंतर्गत कार्यक्रम अधिकारी डॉ.अल्पना देशपाण्डे ने पक्षी दिवस पर पर्यावरण की दृष्टि से वृक्षों के महत्व के बारे में स्वयंसेवकों को अवगत कराया। वृक्षारोपण कर बरगद वृक्ष के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर बरगद एवं पीपल के औषधीय गुणों की भी चर्चा की गई।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

भौतिकी में गुणवत्तापरक शोध को बढ़ावा देने साइंस कालेज में व्याख्यान

दुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर पीजी स्वशासी महाविद्यालय दुर्ग के भौतिक शास्त्र विभाग में स्नातकोत्तर तथा शोध छात्रों में गुणवत्तापरक शोध को बढ़ावा देने हेतु व्याख्यान का आयोजन किया गया। महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी वड़ोदरा के प्रोफेसर, लुमिनसेन्स सोसाइटी के अध्यक्ष और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर केवीआर मूर्ति ने लाइट इमीशन प्रेजेंट, पास्ट एंड फ्यूचर पर व्याख्यान दिया।दुर्ग। शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर पीजी स्वशासी महाविद्यालय दुर्ग के भौतिक शास्त्र विभाग में स्नातकोत्तर तथा शोध छात्रों में गुणवत्तापरक शोध को बढ़ावा देने हेतु व्याख्यान का आयोजन किया गया। महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी वड़ोदरा के प्रोफेसर, लुमिनसेन्स सोसाइटी के अध्यक्ष और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर केवीआर मूर्ति ने लाइट इमीशन प्रेजेंट, पास्ट एंड फ्यूचर पर व्याख्यान दिया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare