Category Archives: articles

भिलाई में शिशु रोग विभाग के अधिष्ठाता डॉ मदान का अवसान

Dr MS Madanभिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के मुख्य चिकित्सालय सेक्टर-9 में शिशु रोग विभाग (नियोनेटल डिपार्टमेंट) प्रारंभ करने वाले डॉ एमएस मदान का आज तड़के देहावसान हो गया। लगभग 90 वर्षीय डॉ मदान नेहरू नगर गुरुद्वारे में संचालित धर्मार्थ चिकित्सालय के भी अधिष्ठाता हैं। जीवन के अंतिम वर्षों में भी वे बेहतर शिशु स्वास्थ्य की दिशा में स्वयं के साधनों से काम करते रहे। सन् 1962 में डॉ मदान युनाइटेड किंगडम की नौकरी छोड़कर भिलाई इस्पात संयंत्र से जुड़ गए। उन्होंने शिशु रोग विभाग की स्थापना की। यह देश का सातवां शिशु रोग विभाग था। तब तक जनरल फिजिशियन ही बच्चों से लेकर बड़ों तक का इलाज करते थे। जल्द ही इस यूनिट का नाम तत्कालीन मध्यप्रदेश समेत आसपास के राज्यों तक फैल गया। 1969 में यहां पहला इंक्यूबेटर स्थापित किया गया। यह देश का सातवां नियोनेटल केयर यूनिट था।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

निगम क्षेत्र में पूजा के फूल से बन रहा है गुलाल, बढ़ी मांग

Gulal from Puja Flowersभिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के आयुक्त एसके सुंदरानी द्वारा चालू की गई पूजा एक्सप्रेस होली से पहले अपने मंजिल तक पहुंची। छग एजुकेशनल रिसर्च एण्ड वेलफेयर सोसायटी एवं एनयूएलएम के सहयोग से भिलाई नगर के विभिन्न मदिरों में एकत्रित होने वाले फूल, पत्ती, नारियल और अन्य कचरों का संग्रहण कर फूलों की पंखुड़ियों से तीन रंगों के गुलाल का निर्माण बिना जटिल मशीनीकरण के किया जा रहा है। इसकी मांग भी बढ़ रही है। भूरे, पीले और नारंगी रंगों में उपलब्ध गुलाल न सिर्फ होली के गुलाल की जगह ले रहा है बल्कि यह बहुत अच्छा फेस पैक भी है जिससे रासायनिक रंगों से होने वाली एलर्जी भी नहीं होती बल्कि चेहरे की त्वचा में निखार भी आ जाता है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

भिलाई के तीन कोरियाग्राफर्स का टेन सेंटीडोज के लिए चयन, पर नहीं हैं पैसे

choreographersभिलाई। इस्पात नगरी के तीन युवा कोरियाग्राफर्स  का चयन स्पेन में आयोजित होने वाले प्रतिष्ठित टेन सेंटीडोज अंतरराष्ट्रीय कोरियोग्राफी प्रतियोगिता के लिए हुआ है लेकिन आर्थिक तंगी उनका रास्ता रोक रही है। दुनिया के हजारों लोगों के बीच ये युवा टॉप टेन में अपना स्थान बनाने में कामयाब हुए हैं। तीनों युवाओं की नजरें समाज और शासन-प्रशासन की ओर से है, ताकि ये स्पेन जाकर भिलाई और छत्तीसगढ़ राज्य के साथ देश का नाम रौशन कर सकें। रामनगर निवासी रौशन घड़ेकर, स्टेशन मरोदा निवासी प्रदीप गुप्ता और सेक्टर-10 निवासी पुरेंद्र मेश्राम ने इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के लिए अपनी कोरियोग्राफी का वीडियो अपलोड कर इंट्री ली थी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी का समापन

National Workshop on Research Paperभिलाई। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय एवं स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में शोधपत्र लेखन विधि एवं प्रविधि विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी का समापन डॉ. संदीप अवस्थी, एसोसिएट प्रोफेसर, भगवंत विश्वविद्यालय, अजमेर, शिक्षाविद एवं साहित्यकार के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ। सहसंयोजक डॉ. वी. सुजाता ने उभरे बिंदुओं को प्रतिवेदन के रूप में प्रस्तुत किया व कहा हमें शोधपत्र बनाते समय समाज की समस्याओं को भी ध्यान में रखना होगा जिससे लोगों को फायदा हो।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एमजे कालेज की निदेशक श्रीलेखा को छत्तीसगढ़ गौरव सम्मान

Shreelekha Virulkar MJ Collegeभिलाई। एमजे कालेज की निदेशक श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर को श्री रमेशचंद्र फाउंडेशन ने छत्तीसगढ़ गौरव सम्मान से नवाजा है। फाउंडेशन 5 राज्यों के 23 से अधिक गांवों के एक लाख बच्चों और उनके परिवारों को लाभांवित करने वाली संस्था है। श्रीमती विरुलकर को यह सम्मान स्वास्थ्य, शिक्षा एवं समाजसेवा के क्षेत्र में उनके विलक्षण कार्यों के लिया प्रदान किया गया है। बीआईटी सभागार में आयोजित समारोह में श्रीमती विरुलकर को यह सम्मान प्रदान किया गया। फाउंडेशन के डॉ राहुल गुलाटी एवं डॉ मानसी गुलाटी के नेतृत्व में आयोजित इस समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखीय कार्य करने वालों का सम्मान किया गया। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

बेहतरी के लिए संतुलन जरूरी : मां ने भोगे सारे कष्ट तो सभी अधिकार पत्नी के कैसे?

Woman's Dayभिलाई। आज पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। महिलाओं के हक में यह दिन पहली बार अमरीका की समाजवादी पार्टी ने 1909 में मनाया। तब से अब तक गंगा में काफी नीर बह गया है। महिला की स्थिति समाज में बेहतर हुई है पर इसके साथ ही महिला और पुरुषवादी सोच के नए फलसफे से एक नए संघर्ष की शुरुआत भी हो चुकी है। जब-जब महिलाओं के अधिकारों की बात होती है तब-तब उसकी सुरक्षा का मुद्दा सर्वोपरि होता है। अबोध बच्चियों से लेकर वृद्धावस्था में पहुंच चुकी महिलाएं कामांधों का शिकार बन रही हैं। इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि मानसिक स्वास्थ्य को हमने कभी गंभीरता से लिया ही नहीं। घरों में कहीं बहुएं प्रताड़ित हो रही हैं तो कहीं सास प्रताड़ित हो रही है। सवाल यह उठता है कि मां ने भोगे सारे कष्ट तो सभी अधिकार पत्नी के कैसे?

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

इन खास बच्चों के मस्तिष्क में बसते हैं कुछ अनजाने से ख्वाब, आओ जानें

Juhi Dewangan and Rupam Dewanganभिलाई। वह आम बच्चों जैसा नहीं है। उसकी अपनी दुनिया है। उसे हमारी वाली गणित नहीं समझती पर वह चुटकियों में दिए गए किसी भी तारीख का दिन बता सकता है। जब कभी फुर्सत में होता है तो चित्रकारी करता है। उसके चित्रों में अभिव्यक्त होती है उसकी नजरों की बारीकी। जी फाउंडेशन द्वारा अय्यप्पा मंदिर में आयोजित खास बच्चों की चित्रकारी प्रतियोगिता में उसे प्रथम पुरस्कार मिला। जी हां! हम बात कर रहे हैं जूही बैडमिंटन ऐकेडमी के संचालक जयंत देवांगन के 18 वर्षीय पुत्र रुपम देवांगन की। डाक्टरी जुबान में वह आॅटिस्टिक है। उसके पिता जयंत और दीदी जूही अंतरराष्ट्रीय स्तर के बैडमिन्टन खिलाड़ी हैं। जयंत आने वाले अगस्त महीने में वेटेरन टीम के साथ पोलैंड जाने वाले हैं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

‘संविद-19’ : बीआईटी के नुक्कड़ नाटकों में उठाए गए ज्वलंत मुद्दे

SAMVID-19भिलाई। श्रीशंकराचार्य तकनीकी कैम्पस में आयोजित ‘संविद-19’ में बीआईटी के छात्रों ने भी बढ़चढ़ कर सहभागिता दी। बीआईटी के नुक्कड़ नाटक दलों ने न केवल बेहतरीन प्रदर्शन किया बल्कि अनेक ज्वलंत मुद्दों की तरफ ध्यान आकर्षित करते हुए प्रथम एवं द्वितीय स्थानोें पर कब्जा भी जमा लिया। छत्तीसगढ़ी फिल्मों के सफल अभिनेता एवं वरिष्ठ मिमिक्री आर्टिस्ट प्रदीप शर्मा के साथ वरिष्ठ पत्रकार दीपक रंजन दास निर्णायक के रूप में मौजूद थे। ‘बोल रेड’ और ‘बोल ब्लैक’ नाम के दलों में बंटे इन बच्चों ने मॉब लिंचिंग, भीड़ का फैसला, सेक्स एजुकेशन के नाम पर समाज के ठेकेदारों की चुप्पी, जैसी अनेक सामाजिक चुनौतियों को चुटीले संवादों के साथ पुरकशिश अंदाज में पेश किया। उन्होंने बताने की कोशिश की कि किस तरह भीड़ जो समझती है उसे ही सच मानकर सच्चाई का गला घोंट देती है। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

नालायक पाकिस्तान से भारत ही नहीं अमेरिका भी परेशान, बार-बार कटाई नाक

India Air Force MIG-21सामरिक महत्व के कारण नालायक पाकिस्तान को भाव देना अमेरिका को हमेशा महंगा पड़ता आया है। पाकिस्तान ने केवल अमेरिकी तकनीक को बार-बार शर्मसार किया है बल्कि अपनी कायरता से पूरी दुनिया में अपनी छी-छी, थू-थू करवाई है। हालिया घटना इसी का जीता जागता उदाहरण है। विभाजन के बाद से ही पाकिस्तान भारत को नुकसान पहुंचाने की नाकाम कोशिशें करता आया है। भारत उसकी गलतियों को अब तक नजरअंदाज करता रहा है। पाक अधिकृत कश्मीर में बैठकर चलाए जा रहे आतंकी नेटवर्क को भारत ने अब तक बर्दाश्त ही किया था। भारी नुकसान उठाकर भी भारत अपने इस नालायक बेटे को हमेशा माफ करता आया था।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

विंग कमांडर अभिनंदन बना देश के भाल का चंदन, सख्त नीति की जीत

Wing Commander Abhinandan Vartmanभारतीय वायु सेना के जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने खुद को देश के भाल का चंदन साबित किया है। उन्होंने एक बार फिर साबित कर दिया है कि हथियार की असली ताकत उसे साधने वाले हाथों में होती है। अपने पुराने मिग-21 से अभिनंदन ने न केवल अत्याधुनिक एफ-16 को मार गिराया बल्कि दुश्मन के कब्जे में भी बहादुरी का परिचय दिया। आतंक के खिलाफ मोदी सरकार की सख्त नीति के बीच पाकिस्तान को आनन फानन में उनकी रिहाई की घोषणा करनी पड़ी और 55 घंटे के भीतर उन्हें सही सलामत भारत को लौटा देना पड़ा।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

मिसेज इंडिया यूनिवर्स रनरअप सुलोचना ने सूरत और सीरत से जीता खिताब

Mrs India Universe Sulochana Hirwaniभिलाई। वाइरस इंटरटेनमेन्ट द्वारा मुम्बई में आयोजित मिस एंड मिसेज इंडिया यूनिवर्स ब्यूटी पेजेन्ट में भिलाई की सुलोचना हिरवानी सेकण्ड रनर अप बनी और ‘ब्यूटीफुल बॉडी’ का सब टाइटल अपने नाम किया। उन्होंने अपनी सूरत और सीरत से यह मुकाम हासिल किया। उन्होंने अपने गायन से भी प्रेक्षकों व जजों को खूब प्रभावित किया। सुलोचना गांव की बेटी हैं। उनका जन्म पाटन के बटंग में हुआ। प्रारंभिक शिक्षा एनसीईआरटी स्कूल में हुई जिसके बाद उन्होंने बीएसपी गर्ल्स स्कूल में दाखिला ले लिया। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय सेक्टर-6 से उन्होंने वाणिज्य में स्नातक की परीक्षा उत्तीर्ण की।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

आजादी मांग रहे मच्छरों को कर ही दिया आजाद, रैकेट लेकर पिल पड़ा

Kapil Sharma Showअपने डेढ़ साल के पोते शिवाय के साथ बैठ मै टी वी पर कपिल शो देख रहा था अन्दाज लगा रहा था की सिद्धू की जगह अर्चना पूरन सिंह कम्फरटेबल दिख रही या नहीं। तभी एक मच्छर आ के शिवाय के गाल पर बैठ गया। मैंने हल्की सी चपत से उसका काम तमाम कर दिया। शिवाय को इसका तनिक भी एहसास नही हुआ पर थोड़ी देर में देखा ढेर सारे मच्छर आ के मेरे चारों तरफ मंडराने लगे। उसमें दो तीन ने आगे आकर कहा कि यह ‘असुहिष्णता’ है। मैंने कहा बच्चे को मलेरिया होगा तब? उसमें से एक ने कहा यह हमारी आजादी का सवाल है। हम कहीं भी बैठ सकते हैं। मैंने कहा वह ठीक है पर खून क्यूँ चूस रहे थे। बहस के अंत में उठाया बिजली का रैकेट और मच्छरों को कर ही दिया आजाद।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

Autism : एक हादसे ने बना दिया पति की मां और सेवा ही बन गया जीवन का लक्ष्य

Arpan School Sector-4 Bhilaiभिलाई। हादसे अकसर जीवन का रुख मोड़ देते हैं। शांता के साथ भी ऐसा ही हुआ। 2008 में एक औद्योगिक हादसे ने उनके पति को मरणासन्न कर दिया। डाक्टरों ने जान तो बचा ली पर आगे के जीवन के बारे में आश्वस्त न कर सके। शांता ने पति को दोबारा खड़ा करने की ठान ली। दिन रात मां बनकर उनकी सेवा की। सफलता मिली। पति ठीक होकर काम पर लौट गए। इस हादसे ने शांता के जीवन को एक नया मकसद दे दिया। दोस्तों की सलाह पर उन्होंने Autism से प्रभावित बच्चों की जिम्मेदारी उठा ली। अब उनके अर्पण स्कूल में  35 ऐसे बच्चे हैं जिन्हें अपना कहते हुए उनके परिवारों को भी शर्म आती है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

भिलाई की दीपा ने जीता अदा मिसेज इंडिया का खिताब

भिलाई। देहरादून उत्तराखंड में आयोजित अदा मिसेज इंडिया क्लासिक स्पर्धा में भिलाई की दीपा मेश्राम विनर रही। विभिन्न राज्यों से पहुंचे 32 प्रतिभागियों को पीछे छोड़ दीपा मेश्राम ने यह मुकाम हासिल किया। दीपा अब अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपना परचम लहराना चाहती है। इसके लिए वे अपनी तैयारियों में जुटी हुई हैं। दीपा ने बताया कि 2018 में भिलाई स्टील सिटी में मिसेज क्वीन का खिताब जीतने से यह यात्रा शुरू हुई। अदा मिसेज इंडिया क्लासिक में सात राज्यों से 32 प्रतिभागियों ने भाग लिया था।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

अंतरराष्ट्रीय छत्तीसगढ़ एनआरआई कन्वेंशन शिकागो में, व्यापार को मिलेगा बढ़ावा

NACHA  Chicagoभिलाई। उत्तरी अमेरिका छत्तीसगढ़ एसोसिएशन (नाचा) के प्रथम अंतरराष्ट्रीय एनआरआई अधिवेशन शिकागो में हो रहा है। अधिवेशन छत्तीसगढ़ के सभी एनआरआई को एक जगह इकट्ठा करने और सामाजिक और व्यावसायिक संबंध बनाने के लिए मंच प्रदान करेगा। नाचा का शिकागो चैप्टर सम्मेलन की मेजबानी करेगा। संस्था का उद्देश्य आगे छत्तीसगढ़ सरकार के साथ मिलकर काम करते हुए राज्य का विकास करना भी है। एसोसिएशन के कार्यकारी अध्यक्ष गणेश कर ने बताया कि एनएसीएचए (नाचा) एक पंजीकृत गैर-लाभकारी संघ है और इसका गठन उत्तरी अमेरिका में छत्तीसगढ़ एनआरआई समुदाय की मदद करने के लिए किया गया है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare