• Fri. Oct 7th, 2022

Sunday Campus

Health & Education Together Build a Nation

interviews

  • Home
  • लता ताई के बिना अधूरा है गायकी का सफर – शैली बिदवईकर

लता ताई के बिना अधूरा है गायकी का सफर – शैली बिदवईकर

भिलाई। शहर की बेटी शैली बिदवईकर का मानना है कि सुगम संगीत का सफर बिना लता ताई के अधूरा होता है. आप कितना भी पॉप गा लो, फास्ट नम्बर्स कर…

आकर्षी ने साझा किया सफलता का रोमांचक सफर

भिलाई। ब्रिटेन के बर्मिंघम में आयोजित हुए कामनवेल्थ गेम्स-2022 में भारत के लिए रजत जीतने वाली बैडमिंटन खिलाड़ी आकर्षी कश्यप ने अपने रोमांचक सफर को संडे कैम्पस के साथ साझा…

खाटू श्याम ने हाथ पकड़कर पहुंचाया इस मुकाम तक – अर्पिता पंडित

भिलाई। प्रख्यात भजन गायिका अर्पिता पंडित गीते ने आज कहा कि उन्हें स्वयं बाबा खाटू श्याम ने हाथ पकड़कर इस मुकाम तक पहुंचाया है। हालांकि बचपन से ही उन्हें गायन…

70वीं विश्व सुन्दरी हरनाज की सफलता का ये है राज

नई दिल्ली। भारत की बेटी हरनाज कौर संधू ने 75 देशों की सुंदरियों को मात देकर विश्व सुन्दरी (मिस यूनिवर्स) का खिताब जीता है। हरनाज की सफलता से न केवल…

स्थाई लॉक-डाउन में जी रहे हैं हमारे वरिष्ठजन – सतपथी

भिलाई। अवकाश प्राप्त पुलिस अधिकारी एवं सामाजिक कार्यकर्ता वीरेन्द्र सतपथी का मानना है कि अपनी उम्र के अंतिम पड़ाव में हमारे माता-पिता स्थाई लॉक-डाउन और आइसोलेशन जैसी परिस्थितियों में जी…

ममता चन्द्राकर 1974 से गा रही हैं “अरपा पैरी के धार”

खैरागढ़/भिलाई। छत्तीसगढ़ी लोकगीत की पर्याय बन चुकीं पद्मश्री डॉ मोक्षदा (ममता) चन्द्राकर ने “अरपा पैरी के धार, महानदी हे अपार” को पहली बार 14 मार्च 1974 को मंच पर प्रस्तुत…

दुनिया भर के युवा दिलों को जोड़ती है मिष्टी की आवाज

भिलाई। युवाओं की अपनी दुनिया है। बच्चे अब वो रहे नहीं और दुनिया उन्हें वयस्क नहीं मानती। इस उधेड़बुन में स्वयं को तलाशती उनकी अपनी राहें हैं। एक तरफ जीवन…

जो मजा बासी-चटनी में है, वो ब्रेड चबाने में कहां – पद्मविभूषण तीजन

भिलाई। देश विदेश में पंडवानी की धूम मचाने वाली पद्मविभूषण तीजन बाई को बासी-चटनी बेहद पसंद है। वो कहती हैं कि परदेस में प्यार और सम्मान तो बहुत मिला, पर…

आत्मा को तृप्त करती है नृत्य की कथक शैली- डॉ सरिता श्रीवास्तव

भिलाई। वैसे तो सभी नृत्य तन एवं मन को एक सूत्र में पिरोकर साध देते हैं किन्तु कथक का लचीलापन, कथा कहने की उसकी शैली आत्मा को तृप्त कर देती…

चटख रंगों से सजा है नन्दिनी का रचना संसार, अभिव्यक्त होती है सरलता

नेहरू आर्ट गैलरी भिलाई में एकल प्रदर्शनी का शुभारंभ, युवा कलाकारों के साथ ही पहुंचे कला मर्मज्ञ भी भिलाई। आधुनिक जीवन शैली के नीचे कहीं दब गई है हमारी मौलिकता।…

अष्टांग योग सीखने आई बुल्गारिया की बेटी थियोडोरा

भिलाई। क्या कोई कल्पना कर सकता है कि एक युवती किसी ऐसे देश की यात्रा कर सकती है जहां की कोई भी भाषा उसे न आती हो। थियोडोरा मावरोवा को…

सुन्दरता तो चली जाएगी, रह जाएगा केवल कार्य : तृषा

भिलाई। मिसेस इंडिया यूनिवर्स-अर्थ तृषा बी. तोमर का मानना है कि दैहिक सुन्दरता की एक उम्र होती है जिसके बाद उसे जाना होता है। पीछे रह जाता है केवल आपका…