Category Archives: interviews

अष्टांग योग सीखने भिलाई आ पहुंची बुल्गारिया की बेटी थियोडोरा

Theodora Mavrova comes to India to learn Ashtang Yogaभिलाई। क्या कोई कल्पना कर सकता है कि एक युवती किसी ऐसे देश की यात्रा कर सकती है जहां की कोई भी भाषा उसे न आती हो। थियोडोरा मावरोवा को बुल्गारियाई भाषा के अलावा कोई और भाषा नहीं आती। किसी तरह अंग्रेजी में काम चला लेती हैं। पर अष्टांग योग सीखने की ललक उन्हें भारत की धरती पर ले आती है और वह भिलाई से इसकी शुरुआत करती है। वे स्वामी श्रीस्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको भिलाई में आयोजित योग कार्यशाला में शामिल होती हैं और उसे अपनी भाषा में संबोधित भी करती हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

किसी भी क्षेत्र में सफलता के लिए व्यक्ति का संवेदनशील होना जरूरी : रघुरामन

संतोष रूंगटा कैम्पस में करियर मोटिवेशन वर्कशॉप ‘मार्गदर्शन’ में दिए टिप्स

N Raghuraman motivates students to recognize their potentialभिलाई। लाइफ कोच एवं स्तंभकार एन रघुरामन का मानना है कि किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए व्यक्ति का संवेदनशील होना जरूरी है। लोगों की जरूरतों को समझकर ही हम उनके लिए कुछ कर सकते हैं। यह बात सेवा, शोध, नवोन्मेष सभी क्षेत्रों में लागू होती है। श्री रघुरामन यहां संतोष रूंगटा समूह द्वारा स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए आयोजित ‘मार्गदर्शन’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि दूसरों की जरूरतों के प्रति संवेदना ही विकास का मूलमंत्र है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

सुन्दरता तो चली जाएगी, रह जाएगा केवल आपका खूबसूरत कार्य : मिसेस इंडिया यूनिवर्स तृषा

भिलाई। मिसेस इंडिया यूनिवर्स-अर्थ तृषा बी. तोमर का मानना है कि दैहिक सुन्दरता की एक उम्र होती है जिसके बाद उसे जाना होता है। पीछे रह जाता है केवल आपका सुन्दर कार्य। इसलिए वे कुछ ऐसा करना चाहेंगी जिससे न केवल उन्हें व्यक्तिगत सुकून मिले बल्कि लोगों को भी इसका लाभ मिले और मिलता रहे। तृषा ने हाल ही में मॉरीशस में यह खिताब जीता। उन्हें आइकोनिक आईज और ब्यूटीफुल वुमन ऑफ़ द ईयर का खिताब भी दिया गया।भिलाई। मिसेस इंडिया यूनिवर्स-अर्थ तृषा बी. तोमर का मानना है कि दैहिक सुन्दरता की एक उम्र होती है जिसके बाद उसे जाना होता है। पीछे रह जाता है केवल आपका सुन्दर कार्य। इसलिए वे कुछ ऐसा करना चाहेंगी जिससे न केवल उन्हें व्यक्तिगत सुकून मिले बल्कि लोगों को भी इसका लाभ मिले और मिलता रहे। तृषा ने हाल ही में मॉरीशस में यह खिताब जीता। उन्हें आइकोनिक आईज और ब्यूटीफुल वुमन ऑफ़ द ईयर का खिताब भी दिया गया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

जहां जाकर आप प्रयास छोड़ते हैं, सफलता उससे कुछ ही दूर होती है : कुलपति डॉ पल्टा

स्वरूपानंद महाविद्यालय में कृति विद्यार्थियों का सम्मान एवं पारितोषिक वितरण

भिलाई। हेमचंद विश्वविद्यालय दुर्ग की कुलपति डॉ अरुणा पल्टा ने आज विद्यार्थियों से निरंतर प्रयास करते रहने को कहा। उन्होंने कहा कि जहां जाकर हम प्रयास करना बंद कर देते हैं, सफलता उससे बस कुछ ही दूर होती है। अकसर हम प्रयासों को जहां छोड़ते हैं वहां से उसे कोई और आगे ले जाता है और सफलता का सेहरा उसके सिर बंध जाता है। डॉ पल्टा यहां स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कृति विद्यार्थियों के सम्मान समारोह को संबोधित कर रही थीं।भिलाई। हेमचंद विश्वविद्यालय दुर्ग की कुलपति डॉ अरुणा पल्टा ने आज विद्यार्थियों से निरंतर प्रयास करते रहने को कहा। उन्होंने कहा कि जहां जाकर हम प्रयास करना बंद कर देते हैं, सफलता उससे बस कुछ ही दूर होती है। अकसर हम प्रयासों को जहां छोड़ते हैं वहां से उसे कोई और आगे ले जाता है और सफलता का सेहरा उसके सिर बंध जाता है। डॉ पल्टा यहां स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कृति विद्यार्थियों के सम्मान समारोह को संबोधित कर रही थीं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

नंदिनी के चित्रों में छत्तीसगढ़ी लोक जीवन की झलक, रायपुर के गौरव गार्डन में प्रदर्शनी आज

दुर्ग। शहर की अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चित्रकार नंदिनी वर्मा की पेंटिंग्स आज रायपुर के गौरव गार्डन में ‘द लोकल’ कार्यक्रम के तहत प्रदर्शित की गई हैं। उनकी तूलिका छत्तीसगढ़ के ग्रामीण जन जीवन को एक अलग नजरिये से देखती हैं। फ्लो ऑफ़ लाइफ (जीवन-धारा) की उनकी यह अभिव्यक्ति अपने परिवेश से उनके जुड़ाव को रेखांकित करती हैं। इससे पहले उनकी कृतियां देश विदेश की अनेक आर्ट गैलरियों में प्रदर्शित हो चुकी हैं।दुर्ग। शहर की अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त चित्रकार नंदिनी वर्मा की पेंटिंग्स आज रायपुर के गौरव गार्डन में ‘द लोकल’ कार्यक्रम के तहत प्रदर्शित की गई हैं। उनकी तूलिका छत्तीसगढ़ के ग्रामीण जन जीवन को एक अलग नजरिये से देखती हैं। फ्लो ऑफ़ लाइफ (जीवन-धारा) की उनकी यह अभिव्यक्ति अपने परिवेश से उनके जुड़ाव को रेखांकित करती हैं। इससे पहले उनकी कृतियां देश विदेश की अनेक आर्ट गैलरियों में प्रदर्शित हो चुकी हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare