Category Archives: Health

ब्रह्मवत्सों ने शुरू किया 50 दिवसीय चल-फिरते योग तपस्या

Walking Rajyogभिलाई। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय संस्था के संस्थापक पिता श्री ब्रह्मा बाबा के 18 जनवरी 2019 को 50 वी पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में विश्व के सभी सेवा केंद्रों में 50 दिनों की विशेष योग तपस्या कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। भिलाई सेवा केंद्र राजयोग भवन द्वारा भी विशेष 50 दिवसीय राजयोग तपस्या का कार्यक्रम प्रारंभ हो चुका है। प्रात 9:00 बजे से रात्रि 10:00 बजे तक सभी ब्रह्मवत्स प्रतिदिन एक घंटा विशेष राजयोग मेडिटेशन का अभ्यास करेंगे। इसी कड़ी में आज प्रात: रविवार को सेक्टर 7 तालाब में प्रकृति के सुमधुर शांत परिवेश में सभी ब्रह्मावत्सों ने परिक्रमाओं के साथ चलते फिरते राजयोग मेडिटेशन का अभ्यास किया। यह राजयोग की विशेषता है कि इसे चलते फिरते या फिर और अन्य कोई कार्य करते हुए भी किया जा सकता है। यह क्रम 18 जनवरी 2019 तक निरंतर चलता रहेगा।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एमजे कालेज की रासेयो इकाई ने मनाया एड्स दिवस

MJ-College-Deepak-Ranjan1भिलाई। एमजे कालेज की रासेयो इकाई द्वारा विश्व एड्स दिवस मनाया गया। इसके अंतर्गत रंगोली, पेंटिंग, लघु नाटक एवं व्याख्यान कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। असीम सहगल कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। विशिष्ट अतिथियों में हेमंत अरोरा, श्रीमती रजनी अरोरा एवं महाविद्यालय की डायरेक्टर श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर शामिल थीं। कार्यक्रम अधिकारी डॉ जेपी कन्नौजे ने कार्यक्रम का संचालन किया। श्री सहगल ने इस अवसर पर पीपीटी एवं वीडियो द्वारा स्वास्थ्य से हो रहे खिलवाड़ी की जानकारी प्रदान की। श्रीमती विरुलकर ने स्वस्थ भारत की अवधारणा पर अपने विचार रखे। आरंभ में प्राचार्य डॉ कुबेर सिंह गुरुपंच ने अतिथियों का स्वागत करते हुए आयोजन के विषय में जानकारी प्रदान की। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्वरुपानंद कालेज में एड्स दिवस पर अतिथि व्याख्यान और परिचर्चा

SSSSMV-AIDS-DAY भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में आई.क्यू.ए.सी. सेल द्वारा विश्व एड्स दिवस पर अतिथि व्याख्यान और परिचर्चा का आयोजन ‘न्यू पाथ एजुकेशन सोसायटी के द्वारा किया गया। न्यू पथ सोसायटी की ओर से कुमारी रंजिता गढ़े, प्रोग्राम मैनेजर एवं श्रीमती शोभा साहू काउंसलर उपस्थित थे। रंजिता गढ़े ने बताया कि उनकी संस्था बस्तियों में रहने वाले निम्न तबके की महिलाओं को जागरुक करने का कार्य करती है तथा उन्हें छ:माही एच.आई.वी टेस्ट एवं बीमारी मंथली चेकअप की सुविधा जिला अस्पताल, सुपेला, बैकुंठधाम तथा खुर्सीपार अस्पताल के माध्यम से नि:शुल्क उपलब्ध कराती है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

सही जानाकरी और उचित सावधानी से एड्स नियंत्रण संभव : डॉ. तमेर

Dr-Ujjwala-Tamerदुर्ग। शासकीय डॉ. वा.वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय में विश्व एड्स दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताएँ एवं विशेषज्ञ चिकित्सक का संवाद रखा गया। इस अवसर पर आयोजित संवाद कार्यक्रम में शहर की सुप्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. उज्जवला तमेर ने छात्राओं को एड्स के विषय की जानकारी ही नहीं दी बल्कि संवाद के माध्यम से उनके प्रश्नों के जवाब भी दिए। डॉ. तमेर ने बताया कि तमाम वैज्ञानिक विकास के बावजूद आज भी एच.आई.वी.-एड्स एक लाइलाज बीमारी के रूप में कठिन चुनौती बना हुआ है। इससे बचाव का एक ही जरिया है- सहीं और सटीक जानकारी व उचित सावधानी बरतना।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

थाली से लेकर प्याली में हर जगह है पेस्टिसाइड का जहर : सहगल

MJ College AIDSभिलाई। विश्व एड्स दिवस पर एमजे कालेज में स्वास्थ्य परिचर्चा का आयोजन किया गया। वेलनेस कोच असीम सहगल ने इस अवसर पर कहा कि आज आपकी थाली से लेकर प्याली में पेस्टिसाइड का जहर मिला हुआ है। आपको आपके भोजन से आवश्यक पोषण का केवल 11 फीसदी ही प्राप्त हो रहा है। यही कारण है कि आप थोड़ी ही देर काम करने के बाद थकान महसूस करने लगते हैं। एमजे कालेज की डायरेक्टर श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर की सोच पर आधारित इस अभिनव आयोजन में श्री सहगल ने वीडियो प्रेजेन्टेशन द्वारा फल, सब्जियों से लेकर दूध तक में मिलाए जा रहे जहरीले पदार्थों की जानकारी दी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

 हादसे में फट गया था पेट, लिवर में जा धंसीं थीं पसलियां, स्पर्श में बची जान

Sparsh Multispeciality Hospitalभिलाई। केम्प क्षेत्र के एक युवक को स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल में नया जीवन मिला है। एक हादसे में उसका पेट फट गया था और तीन पसलियां उसके लिवर में धंस गई थीं। अत्यंत गंभीर हालत में उसे देर रात स्पर्श लाया गया था। रात में ही उसकी सर्जरी की गई और अब वह पूरी तरह से ठीक है। स्पर्श के डायरेक्टर एवं निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ संजय गोयल एवं सर्जन डॉ राहुल सिंह ने बताया कि केम्प क्षेत्र निवासी यह मरीज राजकुमार 7 अक्टूबर की रात को घर लौटते समय मुर्गा चौक के पास रेलिंग पर गिर पड़ा था। इससे रेलिंग के ऊपर बना नुकीला हिस्सा उसके पेट में धंस गया और पसलियां भी जोर से रेलिंग से टकराई थी। राहगीरों ने ही एम्बुलेंस को कॉल कर उसे अस्पताल पहुंचाया।
Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

मानसिक स्वास्थ्य जीवन की सबसे बड़ी पूंजी : डॉ. आकांक्षा दानी

Dr Akanksha Gupta Daniदुर्ग। सुप्रसिद्ध मनोविशेषज्ञ डॉ. आकांक्षा गुप्तादानी ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है और महत्वपूर्ण भी है। हम इस पर ध्यान न देकर लापरवाही बरतते है जिससे छोटी-छोटी बातें एक बड़ी गंभीर समस्या का रूप ले लेती है। उन्होनें अवसाद पर विशेष फोकस करते हुए कहा कि किशोर अवस्था में हम उचित मार्गदर्शन एवं सलाह के अभाव में हत्तोसाहित हो जाते है और धीरे-धीरे यह अवसाद का रूप ले लेता है। छात्राएँ ज्यादा इससे प्रभावित हो जाती है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

रोटरी ग्रेटर ने फैक्ट्री कर्मचारियों के लिए लगाया विशेषज्ञों का शिविर

Rotary Club of Bhilai Greater Health Campभिलाई। रोटरी क्लब आॅफ भिलाई ग्रेटर एवं सुरप्रीत चोपड़ा हार्ट फाउंडेशन द्वारा एक निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का भव्य आयोजन किया गया। शिविर में भिलाई इंडस्ट्रियल एरिया के फैक्ट्री कर्मचारियों की स्पेशलिस्ट डॉक्टरों द्वारा जांच की गयी एवं दवा का वितरण किया गया।शिविर में चंदूलाल चंद्राकर हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. सुरप्रीत चोपड़ा एवं अन्य 10 विशेषज्ञ डॉक्टरों ने अपनी सेवाएं दी। शिविर में रूंगटा कॉलेज के दन्त चिकित्सक एवं धमधा से आये नेत्र विशेषज्ञ डॉ. ऋषभ मेहता एवं दन्त चिकित्सक डॉ. हर्षा मेहता ने भी अपना अमूल्य सहयोग दिया। लगभग आठ घंटे तक चले इस शिविर का 400 से अधिक फैक्ट्री कर्मचारियों एवं उनके परिवार के सदस्यों ने लाभ लिया। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एनआईसीयू सुविधा प्रतिवर्ष बचाती है सैकड़ों नवजातों की जान : डॉ गोयल

Sparsh Multispeciality Hospitalभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी अस्पताल के डायरेक्टर डॉ संजय गोयल ने कहा कि एनआईसीयू की सुविधा ने प्रतिवर्ष सैकड़ों नवजातों का जीवन बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि कम वजन के साथ या समय से पूर्व पैदा होने वाले शिशुओं को बचाने में इसकी बड़ी भूमिका होती है। इसलिए प्रसूति के लिए हमेशा ऐसे अस्पताल का चयन करना चाहिए जहां आईसीयू एवं ब्लड बैंक का अच्छा बैकअप हो और नियोनेटल आईसीयू भी हो।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

एनआईसीयू सुविधा प्रतिवर्ष बचाती है सैकड़ों नवजातों की जान : डॉ गोयल

Sparsh Multispeciality Hospitalभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी अस्पताल के डायरेक्टर डॉ संजय गोयल ने कहा कि एनआईसीयू की सुविधा ने प्रतिवर्ष सैकड़ों नवजातों का जीवन बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि कम वजन के साथ या समय से पूर्व पैदा होने वाले शिशुओं को बचाने में इसकी बड़ी भूमिका होती है। डॉ संजय गोयल सीआईएसएफ रिक्रूट ट्रेनिंग सेंटर में जवानों एवं उनकी पत्नियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि स्पर्श भिलाई के चिकिस्तकों का अपना अस्पताल है। अस्पताल में सभी रोगों के विशेषज्ञ उपलब्ध हैं। हृदय रोगों के इलाज के लिए दो विशेषज्ञ होने के साथ साथ सीटीवीएस सर्जन भी उपलब्ध हैं। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल ने बुजुर्गों के लिए आसान की चिकित्सा की राह

International day for older personsभिलाई। विश्व बुजुर्ग दिवस पर स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल ने अपने दरवाजे भिलाई की पहली पीढ़ी के लोगों के लिए उन्मुक्त करते हुए अनेक सुविधाओं एवं रियायतों की घोषणा की। ज्येष्ठ नागरिक मंच द्वारा नेहरू नगर सियान सदन में आयोजित कार्यक्रम में स्पर्श के डायरेक्टर डॉ संजय गोयल ने इसकी घोषणा की। कार्यक्रम में 400 से अधिक बुजुर्गों ने शिरकत की। मुख्य अतिथि की आसंदी से सभा को संबोधित करते हुए डॉ गोयल ने कहा कि अपने पिता की इच्छा पूरी करने के लिए ही बेहतर करियर की चाह में मेट्रो या विदेश जाने की बजाय उन्होंने भिलाई में ही रहकर लोगों की सेवा करने की ठानी। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी के रूप में उनके पिता का सपना साकार हुआ है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

‘स्पर्श’ में शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के स्वास्थ्य की हुई जांच

Sparsh Multispeciality Hospitalभिलाई। गोवर्धनपुरी मठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द जी सरस्वती आज यहां स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल पहुंचे। यहां उनके स्वास्थ्य की रूटीन जांच की गई। शंकराचार्य ने अस्पताल में काफी वक्त गुजारा तथा चिकित्सकों से अस्पताल की भी जानकारी लेते रहे। उल्लेखनीय है कि स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी अस्पताल का उद्घाटन शंकराचार्यजी ने ही किया था। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

जेएलएन चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र की ‘स्पर्श’ टीम ने तिरुपति में जीता गोल्ड

JLN & RC team wins quality circle goldभिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के जवाहरलाल नेहरु चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र की ‘स्पर्श’ क्वालिटी सर्कल टीम ने हाल ही में आयोजित क्वालिटी सर्कल फोरम आॅफ इंडिया के तत्वावधान में तिरुपति चैप्टर द्वारा चैथे चैप्टर कन्वेंशन क्वालिटी कंसेप्ट्स-2018 में गोल्ड अवार्ड जीतने का गौरव प्राप्त किया है। टीम द्वारा ‘समय तथा मैनपावर की बचत एवं मानवीय त्रुटी से होने वाली गलतियों को दूर करना’ इस विषय पर प्रस्तुत प्रस्तुतिकरण को भरपूर सराहना मिली। विदित हो कि श्री जगन मोहन, चेयरमैन क्वालिटी सर्किल, तिरुपति चैप्टर द्वारा उक्त अवार्ड को प्रदान किया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

जेएलएन चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र के पूर्व चिकित्सक बने एडजंक्ट प्रोफेसर

JLN Hospital & Research Centreभिलाई। बीएसपी द्वारा संचालित जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र के तीन पूर्व चिकित्सकों को भारतीय इस्पात प्राधिकरण ने डीएनबी पोस्ट ग्रैजुएट ट्रेनिंग के लिए एडजंक्ट प्रोफेसर की उपाधि से नवाजा है। ये तीनों चिकित्सक हैं रेडियोलॉजी के डॉ एमके द्विवेदी, ईएनटी के डॉ पीके बैनर्जी एवं स्त्री एवं प्रसूति विशेषज्ञ डॉ मीना जैन।इन डॉक्टरों को डीएनबी पोस्ट ग्रेजुएट एवं पोस्ट-डॉक्टोरल स्टूडेंट्स को शिक्षण और प्रशिक्षण प्रदान करने में उनके अनुकरणीय योगदान के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अन्तर्गत एक स्वायत्तशासी निकाय नेशनल बोर्ड आॅफ एग्जामिनेशन, नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय स्तर का यह सम्मान दिया गया। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

रूंगटा फार्मेसी कॉलेज के स्टूडेंट्स ने डेंगू के खिलाफ जंग में दी अपनी भागीदारी

RCPSR Dengue Awarenessभिलाई। डेंगू के खिलाफ जंग में संतोष रूंगटा समूह के रूंगटा कॉलेज आॅफ फार्मास्यूटीकल्स साइंसेस एण्ड रिसर्च (आरसीपीएसआर) के एनएसएस वॉलन्टीयर्स ने अपनी सक्रिय भागीदारी दी। समूह के डायरेक्टर डॉ. सौरभ रूंगटा ने बताया कि कॉलेज के स्टूडेंट्स ने ग्राम-गोद-योजना के तहत जामुल के समीप स्थित गोद लिये गये गांव ढौर में ‘डेंगु अवेयरनेस कैम्प’ का आयोजन किया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare