Category Archives: Health

गनियारी में जेएसएस : एम्स के इन युवा चिकित्सकों ने बदली छत्तीसगढ़ की सूरत

Mayaram Sujan Foundationरायपुर। एम्स से पोस्टग्रेजुएट चार चिकित्सकों के इस दल ने छत्तीसगढ़ के गनियारी में स्वास्थ्य सेवाओं का एक ऐसा मॉडल पेश किया है जिसका अनुकरण पूरे देश में किये जाने की जरूरत है। इस टीम ने जनस्वास्थ्य पर काम करते हुए 14 साल में 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर को 140 से घटाकर 62 और नवजात शिशु मृत्यु दर (आईएमआर) को 120 से घटाकर 40 करने में सफलता प्राप्त की।  इस दल के नेता डॉ योगेश जैन से छत्तीसगढ़ विधानसभा के श्यामाप्रसाद मुखर्जी सभागार में मुलाकात हुई। वे मायाराम सुरजन फाउंडेशन, नेशनल फाउंडेशन फार इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित स्वास्थ्य प्रथम कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए पहुंचे थे। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

भिलाई महिला महाविद्यालय के शिक्षा विभाग में योग शिविर का आयोजन

Bhilai Mahila Mahavidyalaya भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय के शिक्षा विभाग और पतंजलि योग समिति के संयुक्त तत्वावधान में कॉलेज के बी.एड. प्रशिक्षु छात्राओं के लिये 15 दिवसीय योग शिविर का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम के आयोजन के उद्देश्य के संबंध में जानकारी देते हुए कॉलेज की शिक्षा विभाग की हेड डॉ. मोहना सुशांत पंडित ने बताया कि वतर्मान समय में संपूर्ण विश्व में करीब 10 करोड़ से अधिक योग शिक्षकों की आवश्यकता है। योग की महत्ता को स्वीकारते हुए इसे अब बी.एड. पाठ्यक्रम में भी शामिल कर लिया गया है। इस शिविर में भाग ले रहे बी.एड. प्रशिक्षाथिर्यों को केन्द्र सरकार एवं पतंजलि योग समिति द्वारा आरपीएल योग परीक्षा आयोजित कर योग-शिक्षक प्रमाणपत्र प्रदान किया जायेगा। इस प्रमाणपत्र के प्राप्त होने से वे शिक्षक के साथ-साथ सहयोगी योग-शिक्षक के रूप में भी अपनी सेवायें प्रदान कर सकेंगे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

परिवार को समर्पित गृहिणियों के श्रम को भी मिलनी चाहिए सराहना : विरुलकर

Anubhuti Shree Foundationभिलाई। एमजे ग्रुप ऑफ एजुकेशन की डायरेक्टर श्रीमती श्रीलेखा विरुलकर ने कहा कि समाज ने कभी भी घरेलू स्त्री के श्रम की सराहना नहीं की। स्वास्थ्य संबंधी उसकी जरूरतों को भी हमेशा हाशिए पर रखा गया। समाज को स्वस्थ बनाने के लिए गृहिणियों के प्रति हमें थोड़ा और संवेदनशील होना पड़ेगा।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्पर्श प्रीमियर लीग में झलका टीम स्पिरिट, दिखा सर्जिकल प्रिसिशन – एग्रेसिव मार्केटिंग

Sparsh Premiere Leagueभिलाई। बीआईटी के क्रिकेट ग्राउंड में आज खेले गए स्पर्श प्रीमियर लीग सीजन-1 में स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल का टीम स्पिरिट उभर कर सामने आया। सीनियर कंसल्टेंट्स, मार्केटिंग एवं मैनेजमेंट के साथ ही अस्पताल के सभी वर्ग के स्टाफ मेम्बर्स ने इसमें बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सुबह 7:30 बजे शुरू हुआ श्री मोनू गोयल स्मृति कप दोपहर 2 बजे तक चलता रहा जिसमें डॉ राजीव कौरा के नेतृत्व वाली टीम सी ने ट्राफी पर कब्जा किया। सभी टीमें अलग अलग कलर पहने नजर आई। लीग पूरी तरह प्रफेशनल फार्मेट में खेला गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

लाईफ केयर डायग्नोस्टिक का शुभारंभ, एक मार्च से उपलब्ध होंगी सुविधाएं

Life Care Diagnosticsभिलाई। भिलाई में  लाईफ केयर स्केन एंड रिसर्च  सेंटर का शुभारंभ रविवार को हुआ। भिलाई विधायक व महापौर देवेन्द्र यादव, दुर्ग विधायक अरूण वोरा तथा  बिलासपुर के विधायक शैलेष पांडेय ने संयुक्त रूप से फीता काटकर इस सेंटर का शुभारंभ किया। मौर्या टाकिज के पास सुपेला भिलाई स्थित स्केन एंड रिसर्च सेंटर में सभी तरह के टेस्ट के लिए अत्याधुनिक  सुविधाएं होंगी। संचालक मनीष पारख ने बताया कि सेंटर में सभी बड़ी बीमारियों का अत्याधुनिक  तकनीक से टेस्ट की सुविधा उपलब्ध रहेगी, जिसके लिए सेंटर में सभी विशेषज्ञ टेक्नीशियन होंगे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

इंटर हॉस्पिटल क्रिकेट में स्पर्श लगातार तीसरी बार बना चैम्पियन

Sparsh-Multispeciality-Hospभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल भिलाई ने रायपुर में आयोजित अंतर अस्पताल क्रिकेट टूर्नामेन्ट में एक बार फिर खिताब अपने नाम कर लिया है। धन्यवाद क्रिकेट क्लब द्वारा आयोजित इस टूर्नामेन्ट में रामकृष्ण केयर, बालाजी वीवाई केयर, सुयश जैसे नामचीन अस्पतालों ने शिरकत की थी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

अधिकांश लोगों को नहीं होती मानसिक व्याधियों की पहचान : डॉ गुप्ता

Dr Pramod Gupta Psychiatristदेवादा। पिछले दो दशक से भी अधिक समय से मनोरोगियों के प्रति जागरूकता एवं उनके पुनर्वास की दिशा में काम कर रहे प्रसिद्ध मनोरोग चिकित्सक डॉ प्रमोद गुप्ता का मानना है कि आज भी लोगों में मानसिक व्याधियों को लेकर स्पष्ट धारणा नहीं है। समाज आज भी मनोरोग चिकित्सकों को पागल डाक्टर कहते हैं। पागल कहलाने के डर से लोग अपनी समस्याओं को लेकर मनोरोग चिकित्सालयों में आने से कतराते हैं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

जिनोटा फार्मेसी लेकर आया चिकित्सा का नया कांसेप्ट, शास्त्री मार्केट केन्द्र प्रारंभ

Zinota Pharmacy opens shop in Shastri Market Power Houseभिलाई। जिनोटा फार्मेसी ने शास्त्री मार्केट पावरहाउस में छत्तीसगढ़ का अपना पहला केन्द्र स्थापित किया है। यहां उचित मूल्य पर दवाओं की सहज उपलब्धता के साथ ही सभी विभागों के चिकित्सा विशेषज्ञ एक ही छत के नीचे उपलब्ध रहेंगे। इससे रोगियों की बेहतर सेवा संभव हो सकेगी। यहां सभी प्रकार के टीकों को लगाए जाने की भी व्यवस्था होगी। जिनोटा फार्मेसी के संचालन प्रमुख कमल गुरनानी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि जिनोटा फार्मेसी लोगों तक उचित मूल्य में सही दवा पहुंचाने का प्रयास कर रही है। यह हमारा पहला केन्द्र है पर जल्द ही शहर में और आउटलेट्स के साथ पूरे छत्तीसगढ़ में इसकी शाखाएं खोली जाएंगी। जिनोटा के फार्मेसी केन्द्र उन लोगों के लिए बेहद उपयोगी होगी जो समयाभाव के कारण समय पर अपना इलाज नहीं करवा पाते।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

कल्याण मेडिकल सेन्टर की पहली वर्षगांठ धूमधाम से मनाई गई

Kalyan Medical Centre Bhilaiभिलाई। श्रीश्रीश्री 1008 घोर अघोर अवधूत महाराज के सान्निध्य में साधना शक्ति पीठ समिति द्वारा संचालित नि:शुल्क चिकित्सा केन्द्र कल्याण मेडिकल सेन्टर की प्रथम वर्षगांठ हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर दो नई इकाई ‘कल्याण फिजियोथेरेपी सेन्टर’ तथा नि:शुल्क परामर्श केन्द्र ‘कल्याण आयुर्वेद’ का शुभारंभ किया गया। शिविर में डॉ रत्ना शुक्ला, डॉ संध्या श्रीवास्तव, डॉ विकास अग्रवाल, डॉ मनीष अवस्थी, डॉ पी शर्मा, डॉ राहुल पाण्डे, डॉ शिवानी एवं डॉ विन्ध्याचल ने अपनी सेवाएं दीं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

गर्ल्स कालेज में मानसिक स्वास्थ्य और मोबाइल पर संवाद

Mobile-Addictionदुर्ग। शासकीय डॉ. वा.वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय के मेडिकल सेंटर के तत्वाधान में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत ‘मानसिक स्वास्थ्य और मोबाइल’ विषय पर मनोविशेषज्ञ डॉ. शमा हमदानी ने छात्राओं से संवाद किया। मेडिकल सेंटर प्रभारी डॉ. रेशमा लाकेश ने बताया कि राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम में मनोविशेषज्ञ महाविद्यालय के मेडिकल सेंटर में आकर काउंसिलिंग करते है तथा छात्राओं की विभिन्न समस्याओं पर परामर्श तथा सुझाव देते है। स्थानीय अपोलो कॉलेज आॅफ नर्सिंग एवं श्रेयस नर्सिंग कॉलेज भिलाई की मनोविशेषज्ञ एवं काउंसलर डॉ. शमा हमदानी को महाविद्यालय के सेंटर में मार्गदर्शन हेतु आमंत्रित किया गया।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

समय से पहले 30वें सप्ताह में जन्मे जुड़वां को स्पर्श में मिला नया जीवन

Sparsh gives a new stretch of life to premature 30 week twinsभिलाई। कठिन चुनौतियों का सामना करते हुए स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल के नीयोनेटल विभाग ने समय से पूर्व जन्म लेने वाले जुड़वां बच्चों की न केवल जान बचा ली बल्कि उन बच्चों को एक माह की सघन चिकित्सा के बाद पूरी तरह स्वस्थ अवस्था में मां को सौंप दिया। प्रसूता को पखांजूर से बेहद गंभीर अवस्था में यहां लाया गया था। नीयोनेटल आईसीयू की टीम ने डॉ संदीप थुटे के नेतृत्व में दिन-रात काम किया। इस टीम में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ आशीष जैन, डॉ राजीव कौरा, डॉ ऋचा गुप्ता एवं एनआईसीयू के सभी रेजिडेन्ट मेडिकल अफसर डॉ रॉबर्ट, डॉ संजय एवं डॉ श्वेता सहित उच्च प्रशिक्षित नर्सिंग स्टाफ शामिल थे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

20 साल तक बड़े शहरों में होने लगेंगी रोबोटिक सर्जरी : डॉ एमके वर्मा

एमजे कालेज आॅफ नर्सिंग में टेली मेडिसिन पर राष्ट्रीय स्तर का सेमीनार सम्पन्न

National Seminar on Tele Medicineभिलाई। छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ एमके वर्मा ने आज कहा कि तकनीकी के विकास के साथ ही स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन आ रहे हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह रफ्तार कायम रही तो आने वाले 20 सालों में देश में टेली रोबोटिक सर्जरी भी संभव हो जाएगी। डॉ वर्मा यहां एमजे कालेज आॅफ नर्सिंग में टेली मेडिसिन पर सीजीकॉस्ट के सहयोग से आयोजित राष्ट्रीय स्तर के सेमीनार के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। डॉ वर्मा ने कहा कि टेली मेडिसिन को संभव बनाने के लिए उनके निर्देशन में भी शोध हो चुके हैं। उनका मानना है कि सूचना क्रांति ने आविष्कारों की गति को और तेज कर दिया है। आज हम अपने शोध से मिले डाटा को पलक झपकते उस समूह को उपलब्ध करा सकते हैं जो उसपर आगे काम कर रहे हैं। इसका लाभ चिकित्सा के क्षेत्र में भी मिल रहा है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

भारत जैसे विशाल देश के लिए वरदान बन सकती है टेलीमेडिसिन : डॉ अय्यर

एमजे कालेज ऑफ नर्सिंग में राष्ट्रीय स्तर का सेमीनार

Shreelekha-Virulkarलाभ लेने के लिए ईगो छोड़कर मांगनी होगी मदद
भिलाई। प्रसिद्ध इंटरवेंशन कार्डियोलॉजिस्ट डॉ जयराम अय्यर का मानना है कि भारत जैसे विशाल देश में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में टेलीमेडिसिन का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। पर 1996 में किए गए पहले प्रयोग के बाद के 20 से अधिक वर्षों में इसने कोई खास प्रगति नहीं की है। डॉ अय्यर यहां एमजे कालेज आफ नर्सिंग में टेलीमेडिसिन पर आयोजित राष्ट्रीय स्तर के सेमीनार को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे। सेमीनार में भोपाल, नागपुर, राजनांदगांव एवं दुर्ग के रिसोर्सपर्सन ने अपनी प्रस्तुतियां दीं। सीकॉस्ट द्वारा सह प्रायोजित इस सेमीनार में विभिन्न नर्सिंग महाविद्यालयों की छात्राओं ने प्रतिभागिता दी।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

ऑस्टियोपोरोसिस : इससे पहले कि हड्डियां हो जाएं पोली, करें उपाय : डॉ वर्मा

Osteoporosis cannot be treated though can be preventedभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हास्पिटल के प्रबंध निदेशक डॉ दीपक वर्मा ने बढ़ती उम्र के लोगों, विशेषकर महिलाओं को अस्थि भंगुरता (आॅस्टियोपोरोसिस) के प्रति सावधान करते हुए कहा है कि इस स्थिति से बचने के उपाय समय रहते प्रारंभ कर देने में ही समझदारी है। उन्होंने कहा कि एक बार अस्थियां कमजोर हो गर्इं तो उसे पलटा नहीं जा सकता। स्पर्श के मेडिकल डायरेक्टर डॉ संजय गोयल ने कहा की लाइफ स्टाइल चेंज की वजह से कैल्शियम का संतुलन बिगड़ जाता है. समय समय पर कैल्शियम और बोन मिनरल डेंसिटी की जांच करवाकर इस संकट से बचा जा सकता है.ध्यान रहे की ऑस्टियोपोरोसिस से होने वाले नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकती
Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

स्पर्श के हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ विवेक दशोरे ने एलआईसी के कार्मिकों को दिए टिप्स

Sparsh Multispeciality Cardioभिलाई। स्पर्श मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ विवेक दशोरे ने आज कहा कि जो लोग दफ्तर में काम करते हैं उन्हें कई प्रकार की लाइफ स्टाइल डिजीजेस जकड़ लेती हैं। बीपी, शुगर की समस्या के साथ ही हृदयजनित रोग इन लोगों के बीच काफी आम हैं। थोड़ी सी सावधानी और दिनचर्या में आवश्यक बदलाव लाकर इसे नियंत्रित किया जा सकता है। डॉ दशोरे यहां भारतीय जीवन बीमा निगम के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि दफ्तर में काम करने वालों में अनियमित कार्य के घंटे, खान-पान में लापरवाही और तनाव की शिकायत आम होती है। यदि इसपर ध्यान नहीं दिया गया तो बीपी, शुगर और हार्ट डिजीज उन्हें जकड़ लेता है।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare