Category Archives: Crime/Legal

50 हजार रुपए के फैंसी हेलमेट ने ले ली जान, किसी को नहीं पता था आखिर कैसे खुलता है यह हेडगियर

50 हजार रुपए के फैंसी हेलमेट ने ले ली जान, किसी को नहीं पता था आखिर कैसे खुलता है यह हेडगियर जयपुर। उसकी बाइक 22 लाख की थी तो हेलमेट भी 50 हजार का था। दोनों ही खास थे। जब हादसा हुआ तो कोई उसका हेलमेट ही नहीं खोल पाया। इलाज के अभाव में आखिर उसकी जान चली गई।जयपुर। उसकी बाइक 22 लाख की थी तो फैंसी हेलमेट भी 50 हजार का था। दोनों ही खास थे। जब हादसा हुआ तो कोई उसका हेलमेट ही नहीं खोल पाया। इलाज के अभाव में आखिर उसकी जान चली गई। सड़क हादसों से बचने के लिए टू व्हीलर वालों को हेलमेट पहनने की सलाह दी जाती है, लेकिन राजस्थान में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें हेलमेट ही बाइक सवार की मौत का कारण बन गया। उसका 50 हजार का हेलमेट कैसे खुलता है, इसका किसी को पता ही नहीं था। बाइक सवार अपनी लाखों की मोटरसाइकिल पर बेतहाशा रफ्तार से जा रहा था।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

अंतरराष्ट्रीय कराते कोच ने किया छात्रा का यौन शोषण

हरदा। अंतरराष्ट्रीय कराते कोच नीलेश सेन और युसुफ मंसूरी पर दो महाविद्यालयीन छात्राओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि कोच नीलेश सेन कराते सिखाने के बहाने उन्हें बैड टच करता था। फिर उसने चेंजिंग रूम में उसने छिपकर उसका वीडियो बना लिया और फिर यौन शोषण करने लगा।हरदा। अंतरराष्ट्रीय कराते कोच नीलेश सेन और युसुफ मंसूरी पर दो महाविद्यालयीन छात्राओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि कोच नीलेश सेन कराते सिखाने के बहाने उन्हें बैड टच करता था। फिर उसने चेंजिंग रूम में उसने छिपकर उसका वीडियो बना लिया और फिर यौन शोषण करने लगा। उसने स्कूल में कराते सीखना बंद कर दिया और युसुफ अंसारी से प्रशिक्षण लेने लगी।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

मातृछाया में पल रही मुस्कान को मिले इतालवी माता-पिता, बेल्जियम में होगा आशियाना

बिलासपुर। इटली की दंपति के आंगन का सूनापन उनकी शादी के 10 साल बाद मातृछाया की 5 साल की बच्ची की मुस्कान से दूर होगा। शुक्रवार को जब उन्हें अपनी बेटी की एक झलक दिखी तो उनकी आखें भी छलक उठी। फिर उसे गले लगा लिए और पुचकारते रहे। सादे कार्यक्रम में गोद लेने की प्रक्रिया पूरी की गई।बिलासपुर। इटली की दंपति के आंगन का सूनापन उनकी शादी के 10 साल बाद मातृछाया की 5 साल की बच्ची की मुस्कान से दूर होगा। शुक्रवार को जब उन्हें अपनी बेटी की एक झलक दिखी तो उनकी आखें भी छलक उठी। फिर उसे गले लगा लिए और पुचकारते रहे। सादे कार्यक्रम में गोद लेने की प्रक्रिया पूरी की गई। इटली निवासी पेशे से इंजीनियर एंड्रयू फोचेस्टो और प्रायमरी स्कूली की शिक्षिका इकोलेटा शुक्रवार को मातृछाया पहुंचे। दोनों की शादी वर्ष 2010 में हुई थी और उनकी कोई संतान नहीं है। उन्हें अपने आंगन के इस सूनेपन को भरने के लिए संतान के रूप में बेटी को चुना। मातृछाया में सादे कार्यक्रम में उन्हें उनकी बेटी को सौंपा गया।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

MP: बच्चियों से रेप के दोषियों को फांसी की सजा

भोपाल। रेप के मामलों में दोषियों के खिलाफ सख्त सजा की मांग तेज हो रही है। अब मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने बलात्कार के मामलों में दोषियों के खिलाफ बेहद कड़ी सजा की पहल की है। रविवार को शिवराज कैबिनेट की बैठक में 12 साल तक की बच्चियों से रेप के मामले में दोषियों के खिलाफ फांसी की सजा का प्रस्ताव पारित किया है। इसके साथ ही कैबिनेट ने गैंगरेप के मामले में दोषियों को मौत की सजा देने के लिए एक प्रस्ताव भी पास किया है।भोपाल। रेप के मामलों में दोषियों के खिलाफ सख्त सजा की मांग तेज हो रही है। अब मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने बलात्कार के मामलों में दोषियों के खिलाफ बेहद कड़ी सजा की पहल की है। रविवार को शिवराज कैबिनेट की बैठक में 12 साल तक की बच्चियों से रेप के मामले में दोषियों के खिलाफ फांसी की सजा का प्रस्ताव पारित किया है। इसके साथ ही कैबिनेट ने गैंगरेप के मामले में दोषियों को मौत की सजा देने के लिए एक प्रस्ताव भी पास किया है। रेप के दोषियों के खिलाफ जुर्माने और सजा को बढ़ाने के लिए दंड संहिता में संशोधन के प्रस्ताव को भी शिवराज सरकार ने हरी झंडी दी है।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

प्रेमियों में बढ़ रही हैं साथ साथ आत्महत्या की घटनाएं

रायपुर। समाज से निराश प्रेमी जोड़ों द्वारा साथ साथ आत्महत्या की घटनाओं में तेजी आई है। पिछले छह महीने में अकेले छत्तीसगढ़ में लगभग एक दर्जन जोड़ों ने साथ-साथ मौत को गले लगाया है। इनमें से अधिकांश ने फांसी लगाकर अपनी जान दी है। ऐसे ही एक मामले में बुधवार को प्रेमी युगल की सड़ी गली लाश जंगल में फांसी पर लटकी मिली।रायपुर। समाज से निराश प्रेमी जोड़ों द्वारा साथ साथ आत्महत्या की घटनाओं में तेजी आई है। पिछले छह महीने में अकेले छत्तीसगढ़ में लगभग एक दर्जन जोड़ों ने साथ-साथ मौत को गले लगाया है। इनमें से अधिकांश ने फांसी लगाकर अपनी जान दी है। ऐसे ही एक मामले में बुधवार को प्रेमी युगल की सड़ी गली लाश जंगल में फांसी पर लटकी मिली। पिथौरा के कौडिय़ा और पिलवापाली क्षेत्र के जंगल में 8 नवम्बर को प्रेमी युगल की सड़ी गली लाशें फंदे पर लटकी मिलीं। दोनों बसना क्षेत्र के नौगड़ी गांव के निवासी थे। लड़की नाबालिग थी और गनेकेरा में रहती थी जबकि लड़का शोककुमार बरिहा नौगड़ी का निवासी था।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

तमिलनाडु: बेटी से रेप, दोषी पिता को फांसी, दोहरे आजीवन कारावास की भी सजा

daugher rape murderरामनाथपुरम। 9 साल की मासूम बेटी से रेप करने और बाद में उसकी हत्या करने के दोषी पिता को शुक्रवार को फांसी की सजा सुनाई गई। अदालत ने पिता के कृत्य को घृणित और क्रूर करार दिया। महिला अदालत की न्यायाधीश ए कायल विझी ने दोषी को बलात्कार के लिए पॉक्सो कानून और भारतीय दंड संहिता की धारा 364 के तहत दोहरे आजीवन कारावास की सजा भी सुनायी। साथ ही 15 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

9 साल की भांजी से दोनों मामा करते रहे बलात्कार

9 साल की भांजी से दोनों मामा करते रहे बलात्कारचंडीगढ़। बच्चियां घर में भी सुरक्षित नहीं हैं, इसे एक बार साबित कर दिया है दो भाइयों ने। अपनी 9 साल की भांजी के साथ दोनों मामा करते रहे बलात्कार। कुछ समय पहले वह गर्भवती हो गई और इसी अगस्त में उसने एक बच्चे को जन्म दिया। डीएनए टेस्ट से मामले का खुलासा हुआ। बच्ची नहीं जानती कि वह मां बन चुकी है। उसे यह भी नहीं पता कि उसके मामाओं ने उसके साथ गलत किया। उसे बताया गया था कि उसके पेट में पथरी है जिसे आपरेशन से निकालना पड़ेगा।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

बहुत पावरफुल हो गया है सुप्रीम कोर्ट : केंद्र

supreme-courtनई दिल्ली। मोदी सरकार ने अपने अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल के जरिए गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा कि देश के उच्चतम न्यायालय ने ‘बहुत बड़े अधिकार’ हासिल कर लिए हैं और यह ‘दुनिया का सबसे शक्तिशाली कोर्ट’ बन गया है। वेणुगोपाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने संविधान में पहले से दर्ज मौलिक अधिकारों में ‘कम से कम 30 नए अधिकार’ जोड़ दिए हैं। इस बात का कड़ा जवाब देते हुए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा, ‘इस अदालत के पास बहुत बड़े अधिकार तथ्य पर आधारित न्याय करने के लिए हैं। हमें हर मामले में संतुलन बनाना होता है। हमें पता है कि हम लक्ष्मण रेखा पार नहीं कर सकते हैं।’ वहीं जस्टिस डी वाई चंद्रचूड ने कहा कि ‘सामाजिक न्याय’ के मामलों में अदालत ‘अपनी आंखें बंद नहीं कर सकती है।’
WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

लावारिस की हालत में चल बसी दो लायक बच्चों की मां रूपाली

लावारिस की हालत में मौत

Rupali Das breathes her last

भिलाई। 70 वर्षीय रूपाली दास की गुरूवार को लावारिस की हालत में मौत हो गई। रूपाली को दुर्ग सदर अस्पताल से रायपुर मेडिकल कालेज अस्पताल रिफर किया गया था। संजीवनी 108 से उसे रायपुर रवाना किया गया था पर खुर्सीपार के पास ही रूपाली ने दम तोड़ दिया। रूपाली दास नाम है उस मां का जिसके दो लायक बेटे हैं। बड़ा बेटा मुकुल दास रेलवे में नौकरी करता है जबकि छोटा बेटा रातुल स्कूल मास्टर है। पति की मौत 10 साल पहले हो चुकी है। रूपाली ने अपना अंतिम वक्तव्य बुधवार को दिया था। इस प्रतिनिधि से चर्चा करते हुए उसने बताया था कि वह रांगामाटी गांव, तेजपुर, आसाम में रहती थी। जब तक बेटे कुंवारे थे, कहीं कोई दिक्कत नहीं थी। इधर बेटों का विवाह हुआ और उधर उसके छोटे से सुखी संसार को आग लग गई।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

किन्नरों की इन तालियों के पीछे छिपी है शोषण उत्पीडऩ की कहानी

sigma-upadhyay-playभिलाई। किन्नरों के बारे में साधारण समाज बहुत कम जानता है। उन्हें लगता है कि बात-बात पर ताली बजाने वाले इन किन्नरों के जीवन में सिर्फ मौज मस्ती है। समाज मानता है कि किन्नर बेहद ताकतवर होते हैं और उन्हें दर्द नहीं होता। पर यह कितना बड़ा झूठ है, इसका मंचन किया एक युवा रंगकर्मी, सिग्मा उपाध्याय ने। नाटक में किन्नरों की समस्याओं को रेखांकित किया गया है। किन्नरों की कोई जुबान नहीं होती। किन्नरों के कोई अधिकार नहीं होते। किन्नरों को चिकित्सा की सुविधा हासिल नहीं है। किन्नरों का कोई घर नहीं है। तालियां बजाकर लोगों का मनोरंजन करने और शुभ अवसरों पर उनकी बलाएं अपने सिर लेकर उन्हें आशीर्वाद देने वाले किन्नरों का स्वयं का जीवन एक अंधे कुएं में ही गुजरता है। एक ऐसा अंधा कुआं जहां सभ्यता की रौशनी नहीं है, जहां सपना देखना गुनाह है, जहां चीखें घुट-घुट कर दम तोड़ देती हैं। 

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

तेदमंता अभियान से उखडऩे लगे हैं नक्सलियों के पांव

Naxal step out as Tedmanta gains pace in Bastarरायपुर। तेदमंता अभियान पुलिस और ग्रामीणों को पास ला रही है। पहले जहां लोग पुलिस से बातचीत नहीं करना चाहते थे, उनके साथ दिखना नहीं चाहते थे वहीं अब वे उन्हें अपनी बैठकों में बुलाने लगे हैं। तेदमंता से जुड़े गांवों में अब नक्सलियों की आमद कम हो गई है। दोरनापाल के एसडीओपी विवेक शुक्ला ने एक कला जत्था दल बनाने की योजना बनाई जिसमें एसपी और अन्य अफसरों की सहमति मिल गई।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

कल्याण कालेज में पेड़ों की कटाई, साइकल स्टैंड ढहाया

NSUIभिलाई। कल्याण महाविद्यालय में नए भवन के लिए पेड़ों की अंधाधुंध कटाई और शासकीय मद से बने सायकल स्टैंड को ध्वस्त करने के विरोध में एनएसयूआई ने राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय को ज्ञापन सौंपा। श्री पाण्डेय यहां छात्र संघ के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। कल्याण कालेज की एनएसयूआई टीम द्वारा कल्याण कालेज के संगठन अध्यक्ष आकाश कनोजिया के नेतृत्व एवम महाविद्यालय के सचिव अतुल श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में मंत्री जो को ज्ञापन सौपा गया। एनएसयूआई ने मंत्री से शासकीय धन की बर्बादी और पर्यावरण कानून के तहत संबंधित लोगों पर कार्रवाई की मांग की है।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

आरूषि मैं शर्मिन्दा हूँ, हो सके तो माफ कर देना

Aarushi Talwar Murder Caseआरूषि मैं नहीं जानता तुम्हें किसने मारा। इतना कह सकता हूँ कि मृत्यु के बाद तुम्हारा चीर हरण हुआ। खोजी पुलिस, सीबीआई और पत्रकार ढूंढ-ढूंढ कर रसीले समाचार लाते रहे और लोग चटखारे ले लेकर पढ़ते रहे। मैं शर्मिन्दा हूँ कि मैं भी इसी सिस्टम का एक हिस्सा हूँ। तुम्हारी मृत्यु की सजा तुम्हारे माता पिता को भी मिल चुकी है। ऐसी भयानक सजा दुनिया की कोई भी अदालत किसी को नहीं दे सकती। आईएसआईएस भी नहीं।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

नाबालिग पत्नी से सेक्स भी रेप : सुप्रीम कोर्ट

sex with minor bride is rape says supreme courtनई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने नाबालिग पत्नी से शारीरिक संबंध को रेप माना है। सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 375-2 को असंवैधानिक बताया है, जिसके मुताबिक 15 से 18 साल की बीवी से उसका पति संबंध बनाता है तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा। फैसले के मुताबिक यदि नाबालिग पत्नी एक साल के भीतर शिकायत करती है तो पति पर रेप का मुकदमा चलेगा।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook

मुंबई हाई कोर्ट में पहली बार हुई Sign Language से सुनवाई

Mumbai High Court hears convicts in sign languageमुंबई। मुंबई हाई कोर्ट ने हत्या के आरोपी मूक-बधिर से उनका पक्ष जानने के लिए सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल किया। कोर्ट में ऐसा पहली बार देखने को मिला और यह सुनवाई इस लिहाज से अहम है। 2 मूक बधिर मुंबई 2013 नलिनी मर्डर केस के मुख्य आरोपी हैं। जज के सामने मूक-बधिर आरोपियों का पक्ष रखने के लिए उनके माता-पिता को बुलाया गया।

WhatsAppGoogle GmailTwitterFacebook