श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय में ऑनलाइन पुस्तक समीक्षा प्रतियोगिता का आयोजन

Rangnath Jayanti at SSMV Bhilaiभिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी भिलाई के ग्रंथालय विभाग द्वारा रंगनाथन जयंती के उपलक्ष्य में ऑनलाइन पुस्तक समीक्षा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ के अलावा अन्य राज्यों के प्रतिभागियों ने भी भाग लिया। इस प्रतियोगिता में छात्रों को पुस्तक का शीर्षक, पुस्तक का संक्षेप में सारांश, पुस्तक से क्या शिक्षा मिलता है एवं पुस्तक से भविष्य हेतु संदेश पर समीक्षा कर अधिकतम चार मिनट का वीडियो बनाकर प्रेषित करना था। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान मनीष श्रीवास्तव (रवीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, भोपाल), द्वितीय स्थान प्रियंका चौहान (स्वामी स्वरूपानंद महाविद्यालय हुडको भिलाई) एवं तृतीय स्थान तेजराम (श्री शंकराचार्य महाविद्यालय, जुनवानी भिलाई) ने प्राप्त किया। ऑनलाइन पुस्तक समीक्षा प्रतियोगिता के निर्णायक डॉ गिरजा शंकर पटेल (लाइब्रेरियन एवं सहा. प्राध्यापक, श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय, रायपुर) थे।
महाविद्यालय की निदेशक/प्राचार्य डॉ. रक्षा सिंह ने आयोजन हेतु विभाग को बधाई देते हुए कहा की वर्तमान समय में छात्रों को घर में रहते हुए सकारात्मक सोच के साथ कार्य करने की आवश्यकता है और पुस्तक समीक्षा का आयोजन इसी संदर्भ को ध्यान में रखते हुए किया गया था।
महाविद्यालय के अति. निदेशक डॉ. जे. दुर्गा प्रसाद राव ने कहा की कोविड-19 के समय आई.सी.टी. एक बडा रोल प्ले कर रहा है। लगभग सभी कार्य ऑनलाइन माध्यम से हो रहे है। विभाग द्वारा आयोजित आॅनलाइन पुस्तक समीक्षा प्रतियोगिता छात्रों हेतु उपयोगी साबित होगा।
महाविद्यालय के लाइब्रेरियन डॉ ओमप्रकाश पटेल ने प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी छात्रों को शुभकामना प्रेषित करते हुए जानकारी दी कि प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ के अलावा अन्य राज्यों से भी बडी संख्या में छात्रों ने भाग लिया और ऑनलाइन माध्यम से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। महाविद्यालय ग्रंथालय विभाग द्वारा छात्रों के सर्वागीण विकास हेतु समय-समय पर इस तरह के अनेक आयोजन जैसे ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, कहानी बोलने की प्रतियोगिता, एवं टेस्ट सीरिज का आयोजन किया जाता है।
कार्यक्रम के सफल आयोजन में महाविद्यालय के प्राध्यापको, ग्रंथालय विभाग के गौरव चौहान, रविचन्द्रन विष्णु, डेविड राजु, मंटु चक्रवर्ती एवं महाविद्यालय के समस्त कर्मचारियों का योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *