Science college faculty awarded 3 patents

साइंस कॉलेज दुर्ग ने कराया पहला पेटेंट ग्रांट

दुर्ग। साइंस कॉलेज दुर्ग के भौतिक शास्त्र विभाग में कार्यरत वूमेन साइंटिस्ट डॉ. नेहा दुबे और प्रोफेसर जगजीत कौर सलूजा को अपने शोध के लिए 03 ऑस्ट्रेलियन पेटेंट मिले हैं। डॉ. नेहा दुबे और प्रोफेसर जगजीत कौर सलूजा ने बताया कि यह पेटेंट उन्हें बायोमेडिकल रिसर्च में फॉस्फर के उपयोग जैसे फोटो थैरेपी (नवजात शिशु का पराबैंगनी विकिरण (युवी-बी) द्वारा उपचार) तथा पर्यावरण मॉनिटरिंग एप्लीकेशन हेतु उपयोगी मटेरियल्स की खोज के लिए दिया गया है, जिसका उपयोग विकिरण को मापकर पर्यावरण संरक्षण में किया जा सकता है। वर्तमान कोविड-19 के समय में इन क्षेत्रों में बायोमेडिकल एप्लीकेशन से संबंधित अनेक शोध कार्य किए गए है। फोटो थैरेपी हेतु पेटेन्ट नवजात शिशुओं यूवी-बी एलईडी की सहायता से बैक्टीरिया एवं वायरसों से बचाव किया जा सकता है। इस सराहनीय कार्य के लिए महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ आर.एन. सिंह ने प्रशंसा की और भविष्य में नये शोध के लिए प्रोत्साहित किया। इस शोध कार्य में डॉ नेहा दुबे एवं प्रोफेसर जगजीत कौर सलूजा के साथ डॉ विकास दुबे, विभागाध्यक्ष भौतिक शास्त्र विभाग, भिलाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी का सराहनीय योगदान रहा।
भौतिक शास्त्र विभाग की ही डॉ स्वागता बेरा को उनके शोध कार्यों के लिए एक पेटेंट (फिटनेस इंटेंलिजेंस प्रेडिक्टिव एनालिटिक्स यूसिंग डीप लर्निंग) एवं दो कॉपीराइट A DWT Feature Based Blind Steganalysis In Transform Domain तथा A Gabor Filter Based Blind Steganalysis For JPEG Images दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *