स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हिन्दी सप्ताह का शुभारंभ

भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हिन्दी विभाग एवं स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के संयुक्त तात्वावधान में आयोजित हिन्दी सप्ताह का उद्घाटन सत्र मुहावरे व लोकोक्तियों पर आधारित ‘डम्बशराज’ प्रतियोगिता से प्रारंभ हुआ। प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम की प्रभारी हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता वर्मा थी। इसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ शिक्षकों ने भी उत्साहपूर्वक भाग लिया। सप्रा टी बबीता व सप्रा पूजा सोढ़ा, सप्रा निशा पाठक ने विशेष योगदान दिया।भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हिन्दी विभाग एवं स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के संयुक्त तात्वावधान में आयोजित हिन्दी सप्ताह का उद्घाटन सत्र मुहावरे व लोकोक्तियों पर आधारित ‘डम्बशराज’ प्रतियोगिता से प्रारंभ हुआ। प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम की प्रभारी हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता वर्मा थी। इसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ शिक्षकों ने भी उत्साहपूर्वक भाग लिया। सप्रा टी बबीता व सप्रा पूजा सोढ़ा, सप्रा निशा पाठक ने विशेष योगदान दिया।Hindi-Week भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हिन्दी विभाग एवं स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के संयुक्त तात्वावधान में आयोजित हिन्दी सप्ताह का उद्घाटन सत्र मुहावरे व लोकोक्तियों पर आधारित ‘डम्बशराज’ प्रतियोगिता से प्रारंभ हुआ। प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम की प्रभारी हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता वर्मा थी। इसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ शिक्षकों ने भी उत्साहपूर्वक भाग लिया। सप्रा टी बबीता व सप्रा पूजा सोढ़ा, सप्रा निशा पाठक ने विशेष योगदान दिया।डॉ. सुनीता वर्मा विभागाध्यक्ष हिन्दी ने कहा हिन्दी हमारी राष्ट्र भाषा है। 14 सितंबर 1949 को भारतीय संविधान में हिन्दी को राजभाषा का दर्जा मिला था। जिसकी स्मृति में हिन्दी सप्ताह का आयोजन किया जाता है। सप्ताह भर चलने वाले आयोजन में निबंध चित्रकला, नारा, निमंत्रण पत्र, मुहावरे, लोकोक्ति पर आधारित डम्बशराज आदि विविध प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है। पुरस्कार वितरण स्टेट बैंक के सौजन्य से किया जायेगा।
प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला ने हिन्दी विभाग की सराहना करते हुये कहा इस प्रकार के आयोजनों से विद्यार्थियों में हिन्दी कार्यक्रमों के प्रति रुचि उत्पन्न होती है साथ ही ज्ञानार्जन भी होता है। हिन्दी विभाग द्वारा मुहावरों व लोकोक्तियों पर आधारित डम्बशराज प्रतियोगिता से विद्यार्थियों में हिन्दी मुहावरे व लोकोक्तियों के प्रति रुचि उत्पन्न होगी। यह अभिनव प्रयोग है जिसके लिए हिन्दी विभाग बधाई के पात्र है।
महाविद्यालय के सीओओ डॉ. दीपक शर्मा ने हिन्दी विभाग को बधाई दी व कहा इस प्रकार के कार्यक्रम से विद्यार्थियों में रुचि बनी रहती है व मनोरंजन के साथ ज्ञानार्जन भी होता है।
भिलाई। स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में हिन्दी विभाग एवं स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के संयुक्त तात्वावधान में आयोजित हिन्दी सप्ताह का उद्घाटन सत्र मुहावरे व लोकोक्तियों पर आधारित ‘डम्बशराज’ प्रतियोगिता से प्रारंभ हुआ। प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला के मुख्य आतिथ्य में आयोजित कार्यक्रम की प्रभारी हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता वर्मा थी। इसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ शिक्षकों ने भी उत्साहपूर्वक भाग लिया। सप्रा टी बबीता व सप्रा पूजा सोढ़ा, सप्रा निशा पाठक ने विशेष योगदान दिया।डम्बशराज में नाच न जाने आंगन टेढ़ा, जिसकी लाठी उसकी भैंस, भैंस के आगे बीन बजाये भैंस खड़ी पगुराय, दो नाव में सवार होना, एक तवे की रोटी, क्या छोटी क्या मोटी, कान का कच्चा होना आदि मुहावरे पूछे गये। विद्यार्थियों ने अभिनय में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। ऐक्टिंग देख कर दर्शक लोटपोट होते रहे। प्राध्यापकों ने भी इसमें उत्साहपूर्वक भाग लिया। प्राचार्य डॉ. हंसा भी एक्टिंग करने में पीछे नहीं रही।
निर्णायक के रूप में डॉ. अजीता सजीत व स.प्रा. मीना मिश्रा उपस्थित हुई। मंच संचालन व धन्यवाद ज्ञापन हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता वर्मा ने किया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>