धमतरी। बांस से तो हम सभी परिचित हैं। बांस से बनी सजावटी वस्तुओं के बारे में भी हम सभी जानते हैं पर बांस से जेवर More »

भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

 

साइको किलर था विकास, कहीं भी किसी की भी कर देता था हत्या

Vikas Dubey was a psycho killerकानपुर। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद भी उसके व्यक्तित्व से जुड़े कई पहलू निकलकर सामने आ रहे हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक जब एसटीएफ और पुलिस की टीमें विकास दुबे को उज्जैन से पकड़कर कानपुर लेकर आ रही थी तो उससे पूरे रास्ते पूछताछ की गई थी। विकास दुबे की हरकतें एक साइको किलर की तरह थीं। विकास दुबे की सनक से पूरा गांव अच्छी तरह से वाकिफ था। इसी वजह से गांव के अंदर उसका सामना करने की किसी में हिम्मत नहीं थी। विकास का फरमान नहीं मानने वाले को उसके गुर्गे घर से उठा लाते थे। किलेनुमा घर के अंदर लगे नीम के पेड़ से बांधकर उसकी पिटाई की जाती थी। विकास दुबे से पीड़ित ग्रामीणों की पुलिस के पास जाने की भी हिम्मत नहीं होती थी। यदि किसी तरह से पीड़ित पुलिस के पास पहुंच गया तो थाने के पुलिसकर्मी खुद विकास को इस बात की जानकारी दे देते थे।
बताया जाता था कि जब हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का मूड खराब होता था तो चौबेपुर थाने के निलंबित एसओ विनय तिवारी, दरोगा और सिपाही मारे भय के उससे बात नहीं करते थे। पुलिसकर्मी उसका मूड ठीक होने का इंतजार करते थे। वे विकास का मूड ठीक करने के लिए उसके सामने तारीफों के पुल बांधना शुरू कर देते थे। दरअसल विकास को अपनी तारीफें सुनना बहुत पंसद था।
बिकरू गांव से लगभग ढाई किलोमीटर की दूरी पर मोहनी नेवादा गांव है। मोहनी नेवादा गांव में रहने वाले राहुल तिवारी के ससुर की जमीन पर विकास दुबे ने कब्जा कर लिया था। राहुल तिवारी ने कोर्ट से विकास दुबे पर खेत में कब्जा करने का मुकदमा दर्ज कराया था। विकास ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर राहुल तिवारी को बंधक बनाकर पीटा था।
इस घटना के बाद राहुल तिवारी ने विकास के खिलाफ चौबेपुर थाने में तहरीर दी थी। तत्कालीन एसओ विनय तिवारी ने एफआइआर दर्ज नहीं थी और राहुल तिवारी को विकास के घर पर समझौता कराने के लिए ले गया था। विकास दुबे ने विनय तिवारी के सामने ही राहुल को पीटना शुरू कर दिया था और विकास और उसके गुर्गों ने मिलकर राहुल की जमकर पिटाई की थी। यदि तत्कालीन एसओ साथ में नहीं होते तो वो राहुल की हत्या भी कर सकता था।
विकास दुबे के ऐसे अनगिनत मामले हैं जो इशारा करते हैं कि सनक सवार होने पर ही वह घटना को अंजाम देता था। सन् 2001 में तत्कालीन दर्जाप्राप्त मंत्री संतोष शुक्ला की शिवली थाने में घुसकर हत्या कर दी थी। इस घटना में भी विकास यह भूल गया था कि किसकी हत्या कर रहा है और कहां पर कर रहा है। इसी तरह से बीते 2 जुलाई को दबिश देने गई पुलिस पर भी उसने अपने साथियों के साथ मिलकर सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>