भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

भिलाई। सिविक सेन्टर की चौपाटी में लगी विशाल भारतीय सिल्क एक्सपो प्रदशर्नी का शनिवार शाम यंगिस्तान के चेयरमैन मनीष पाण्डेय ने विधिवत उद्घाटन किया। उनके More »

न्यूकैसल। कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैम्पियनशिप, न्युकैसल, इंग्लैंड में भारत ने 03 स्वर्ण, 02 रजत एवं 08 कांस्य पदक सहित कुल 13 पदक हासिल किया। पदक तालिका More »

भिलाई। साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनकी कृतियों की चर्चा करना और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करना प्रशंसनीय है। उनकी रचनाधर्मिता से More »

भिलाई। स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत श्रीशंकराचार्य महाविद्यालय ने ग्राम खपरी में एक वैचारिक आंदोलन खड़ा कर दिया है। महाविद्यालय के रोटरैक्ट क्लब, More »

 

Daily Archives: March 21, 2018

स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में कविता लेखन प्रतियोगिता का आयोजन

भिलाई। विश्व कविता दिवस पर स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको में प्राध्यापकों द्वारा मेरी प्यारी बिटिया एवं विद्यार्थियों द्वारा देशभक्ति विषय पर कविता लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला ने की। निर्णायकगण के रूप डॉ. श्रीमती शीला शर्मा, प्राध्यापक हिन्दी विभाग, शासकीय महाविद्यालय खुर्सीपार एवं डॉ. निशा शुक्ला विभागाध्यक्ष हिन्दी विभाग, भिलाई महिला महाविद्यालय, भिलाई उपस्थित हुये।भिलाई। विश्व कविता दिवस पर स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको में प्राध्यापकों द्वारा मेरी प्यारी बिटिया एवं विद्यार्थियों द्वारा देशभक्ति विषय पर कविता लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला ने की। निर्णायकगण के रूप डॉ. श्रीमती शीला शर्मा, प्राध्यापक हिन्दी विभाग, शासकीय महाविद्यालय खुर्सीपार एवं डॉ. निशा शुक्ला विभागाध्यक्ष हिन्दी विभाग, भिलाई महिला महाविद्यालय, भिलाई उपस्थित हुये।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

नौकरियां निगल रही खिलाडिय़ों की प्रतिभा : नेहा

रायपुर। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर आधारित फिल्म 'माहीÓ तो आप सभी ने देखी होगी। माही का दर्द देशभर के खिलाड़ी झेल रहे हैं। उनकी जिंदगी खेल मैदान की जगह कागजों में उलझ गई हैं। केंद्रीय बोर्ड के अलग-अलग विभागों में काम कर रहे खिलाडिय़ों के खेलने के लिए कोई अतिरिक्त समय नहीं है। इसकी वजह से खिलाड़ी खुद की प्रतिभा से कंप्रोमाइज कर रहे हैं। रायपुर। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर आधारित फिल्म ‘माही’ तो आप सभी ने देखी होगी। माही का दर्द देशभर के खिलाड़ी झेल रहे हैं। उनकी जिंदगी खेल मैदान की जगह कागजों में उलझ गई हैं। केंद्रीय बोर्ड के अलग-अलग विभागों में काम कर रहे खिलाडिय़ों के खेलने के लिए कोई अतिरिक्त समय नहीं है। इसकी वजह से खिलाड़ी खुद की प्रतिभा से कंप्रोमाइज कर रहे हैं। 

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare