सार्वजनिक नीति और सुशासन को बताया लोककल्याण के लिए जरूरी भिलाई। विजन इंडिया फाउंडेशन द्वारा आयोजित पॉलिसी बूटकैम्प 2019 में युवा नेतृत्व कर्ताओं के साथ More »

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी में दस दिवसीय योग प्रशिक्षण का कार्यक्रम, योग प्रशिक्षक अरूण अग्रवाल (बिहार योग विद्यालय से प्रशिक्षित एवं वर्तमान में कबीर More »

दुर्ग। शासकीय डॉ. वा. वा. पाटणकर कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय दुर्ग में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में ग्रीन आॅडिट में प्राप्त सुझावों More »

भिलाई। गर्भधारण से लेकर एक शिशु को जन्म देने का सर्वाधिकार उसकी मां के पास सुरक्षित होता है। स्वयंसिद्धा समूह ने एक मां के संघर्ष More »

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में गणेश चतुर्थी एवं विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्नेह संपदा, भिलाई More »

 

Daily Archives: August 15, 2018

वसुन्धरा के स्त्री विमर्श पर केन्द्रित अंक का विमोचन

Vasundhara Releasedभिलाई। भिलाई निवास के सभागार में वसुन्धरा के स्त्री विमर्श अंक का विमोचन प्रसिद्ध पत्रकार, लेखक रमेश नैय्यर, प्रकाश दुबे एवं सुनील कुमार ने किया। इस अवसर पर वसुन्धरा सम्मान के संयोजक विनोद मिश्र, दिनेश वाजपेयी, अरुण श्रीवास्तव एवं इस अंक की अतिथि संपादक डॉ रक्षा सिंह मंच पर उपस्थित थे। वसुन्धरा के इस अंक में अमृत लाल बेगड़, केदारनाथ सिंह की स्मृतियां संजोई गई हैं।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

इमरजेंसी में भी इंदिरा ने कायम रखा था मीडिया से संवाद : नैय्यर

Vasundhara Sammanवरिष्ठ पत्रकार प्रकाश दुबे को दिया गया वसुन्धरा सम्मान      भिलाई। प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने भले ही इमरजेंसी लगाई थी पर उन्होंने मीडिया के संवाद कायम रखा था। मीडिया को किसी न किसी प्रकार के सेंसरशिप को तो बर्दाश्त करना ही पड़ता है। आपरेशन ब्लू स्टार से उन्होंने भारत की अखण्डता की रक्षा की थी जिसकी कीमत उन्होंने शहादत देकर चुकाई। उक्त उद्गार वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैय्यर ने भिलाई निवास के सभागार में कीर्तिशेष देवी प्रसाद चौबे की स्मृति में आयोजित वसुन्धरा सम्मान समारोह के दौरान व्यक्त किए।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

जिस घर में कमांडो ने संभाला था मोर्चा उसे सेना ने उड़ा दिया, पर बच गई जान

NSG Commandoएमजे कालेज में एनएसजी कमांडो ने सुनाई अपनी आपबीती   भिलाई। जिस घर में एनएसजी के कमांडो मोर्चा संभाले हुए थे, सेना ने अंतत: उसे ही उड़ा दिया। दरअसल फायरिंग रुक जाने के कारण भारतीय सेना की बटालियन को लगा था कि हमारे साथी शहीद हो गए और इमारत में अब केवल आतंकवादी ही रह गए हैं। एनएसजी में कमाण्डो रहे विजय बहादुर सिंह ने उक्त उद्गार एमजे कालेज में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में व्यक्त किए।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare