गोधन न्याय : वर्मी कम्पोस्ट बेचने में पूरे प्रदेश में अव्वल रहा भिलाई नगर निगम

Bhlai Nigam becomes the first producer of Vermi Compost in Chhattisgarhभिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई पूरे छत्तीसगढ़ में गोधन न्याय योजना के तहत वर्मी कम्पोस्ट तैयार कर विक्रय करने वाला पहला निगम बन गया है। गोबर खरीदी केन्द्रों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने का कार्य भिलाई में जोर शोर से किया जा रहा है। गोधन न्याय योजना की शुरूआत 20 जुलाई को हुई थी। योजना की शुरुआत से ही निगम ने पूरी तैयारी कर ली थी। 5 ग्रीन बैग वर्मी कम्पोस्ट निर्माण के लिए लाए गए थे। वर्मी कम्पोस्ट तैयार होते ही कृषि विभाग के लैब में टेस्ट कराया गया जहां वह मानको पर खरा उतरा और विक्रय के लिये तैयार हो गया।वार्ड 16 कुरूद क्षेत्र के कृषको ने वर्मी कम्पोस्ट क्रय किया नेहरू नगर के जोन आयुक्त सुनील अग्रहरी ने बताया कि 120 किलोग्राम वर्मी कम्पोस्ट का विक्रय आज गौठान समिति ने किया और भिलाई निगम पहला ऐसा निगम बन गया जो वर्मी कम्पोस्ट बनाने से लेकर विक्रय करने में तेज गति से कार्य करते हुए अग्रणी स्थान हासिल किया है। गोधन न्याय योजना के तहत केन्द्रों में 2 किलोग्राम, 5 किलोग्राम एवं 30 किलोग्राम का बैग तैयार किया गया है, ताकि लोगों द्वारा आवश्यकता अनुरूप वर्मी कम्पोस्ट क्रय किया जा सके। जोन 01 के गोबर खरीदी केन्द्र में कुल 14 क्विंटल वर्मी कंपोस्ट विक्रय के लिए तैयार हो गया है! यहां 30 टंकिया निर्मित की गई है, जिनमें वर्मी कंपोस्ट तैयार होने की कगार पर है। बांकि की टंकियो में भी वर्मी कम्पोस्ट तैयार हो रहा है। जोन 04 के गोबर खरीदी केन्द्र में भी वर्मी कम्पोस्ट शीघ्र तैयार हो जाएगा। यहां 23 टंकियों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार किया जा रहा है। इसी प्रकार जोन 03 में 10 टंकियां और जोन 02 में 34 टंकियों में वर्मी कम्पोस्ट तैयार किया जा रहा है।
गोबर खरीदी केंद्रों में तैयार वर्मी कम्पोस्ट खरीदी के लिये इस प्रकार कराए पंजीयन- गोबर खरीदी केन्द्रों में वर्मी कम्पोस्ट प्राप्त करने के लिये साख समिति (पैक्स) से पंजीयन कराना आवश्यक है। भिलाई में साख समिति कोहका मेन रोड में शासकीय स्कूल के पास स्थित है, जहां पर आसानी से पंजीयन करा सकते है, पंजीयन के लिए केवल नाम और मोबाइल नंबर की आवश्यकता है। पंजीयन उपरान्त वर्मी कम्पोस्ट खरीदी के लिये इसी साख समिति में पैसे जमा कर रसीद प्राप्त होगा! रसीद को गोबर खरीदी केंद्रों में दिखाकर वर्मी कंपोस्ट प्राप्त कर पाएंगे! रसीद कटाने के साथ ही एक सप्ताह के भीतर गौठान समिति के खाते में वर्मी कम्पोस्ट की राशि जमा हो जाएगी। वित्तीय प्रवाह की बात करें तो 2 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से गोबर खरीदा जा रहा है, प्रयोगशाला परीक्षण एवं अन्य व्यय 25 पैसे प्रति किलोग्राम वर्मी कंपोस्ट, प्रसंस्करण एवं पैकेजिंग के लिए 65 पैसा प्रति किलोग्राम वर्मी कंपोस्ट, विपणन हेतु 50 पैसे प्रति किलोग्राम वर्मी कंपोस्ट के खर्च का आंकलन करते हुए स्व सहायता समूह की महिलाओं को 75:25 के अनुपात में शुद्ध लाभ मिलेगा! अब शासन की महत्वकांक्षी योजना से जुड़कर वर्मी कम्पोस्ट विक्रय कर महिलाएं अपनी आर्थिक स्थिति में मजबूती लाएंगी जिसकी शुरूआत आज से हो गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *