विज्ञान धर्म दोनों का सच्चा अर्थ और उद्देश्य है सत्य की खोज : आचार्य मुमुक्षु

भिलाई महिला महाविद्यालय में नव-प्रवेशी छात्राओं हेतु आध्यात्मिक प्रवचन

भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय में नव-प्रवेशी छात्राओं के स्वागत एवं शैक्षणिक व अन्य क्षेत्रों में उपलब्धियों हेतु आशीर्वाद प्रदान करने भारत के प्रसिद्ध वैदिक धर्म के राष्ट्रीय प्रचारक मुरादाबाद (उ.प्र.) से पधारे आचार्य महावीर ‘मुमुक्षु’ के द्वारा आध्यात्मिक प्रवचन एवं वैदिक यज्ञ की सात-दिवसीय श्रृंखला का आयोजन कॉलेज में आई.क्यू.ए.सी. द्वारा किया गया। आचार्य मुमुक्षु ने कहा कि आज का युग संघर्ष का युग है। भौतिक तथा आध्यात्मिक विचारों का भी टकराव हो रहा है। हमें धर्म की मान्यताओं को वैज्ञानिक दृष्टि से समझना होगा।भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय में नव-प्रवेशी छात्राओं के स्वागत एवं शैक्षणिक व अन्य क्षेत्रों में उपलब्धियों हेतु आशीर्वाद प्रदान करने भारत के प्रसिद्ध वैदिक धर्म के राष्ट्रीय प्रचारक मुरादाबाद (उ.प्र.) से पधारे आचार्य महावीर ‘मुमुक्षु’ के द्वारा आध्यात्मिक प्रवचन एवं वैदिक यज्ञ की सात-दिवसीय श्रृंखला का आयोजन कॉलेज में आई.क्यू.ए.सी. द्वारा किया गया। आचार्य मुमुक्षु ने कहा कि आज का युग संघर्ष का युग है। भौतिक तथा आध्यात्मिक विचारों का भी टकराव हो रहा है। हमें धर्म की मान्यताओं को वैज्ञानिक दृष्टि से समझना होगा। भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय में नव-प्रवेशी छात्राओं के स्वागत एवं शैक्षणिक व अन्य क्षेत्रों में उपलब्धियों हेतु आशीर्वाद प्रदान करने भारत के प्रसिद्ध वैदिक धर्म के राष्ट्रीय प्रचारक मुरादाबाद (उ.प्र.) से पधारे आचार्य महावीर ‘मुमुक्षु’ के द्वारा आध्यात्मिक प्रवचन एवं वैदिक यज्ञ की सात-दिवसीय श्रृंखला का आयोजन कॉलेज में आई.क्यू.ए.सी. द्वारा किया गया। आचार्य मुमुक्षु ने कहा कि आज का युग संघर्ष का युग है। भौतिक तथा आध्यात्मिक विचारों का भी टकराव हो रहा है। हमें धर्म की मान्यताओं को वैज्ञानिक दृष्टि से समझना होगा।धर्म के वैदिक आधारभूत सिद्धांतों को आत्मसात करना होगा। धर्म की इन मान्यताओं में जो विज्ञान सम्मत है उसमें इतना बल है कि वे जीवन को सशक्त बना सकती है। विज्ञान का सच्चा अर्थ है सत्य की खोज और वही उद्देश्य धर्म का भी है। इससे पूर्व अपने स्वागत भाषण में कॉलेज के आई.क्यू.ए.सी. की प्रभारी तथा उप-प्राचार्या डॉ. संध्या मदनमोहन ने कहा कि शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक योग्यताओं के विकास के साथ-साथ आज के युवाओं में धर्म, संस्कार, संस्कृति व नैतिक मूल्य जैसे शील गुणों के परिवर्धन की दृष्टि से इस प्रकार के आयोजन अत्यंत महत्वपूर्ण होते हैं। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए कॉलेज की इस सत्र की नव-प्रवेशी छात्राओं तथा शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक कमर्चारियों हेतु इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट के सचिव सुरेन्द्र गुप्ता ने अपने संबोधन में वैदिक ज्ञान के महत्व को बताते हुए इस प्रकार के आयोजन की आवश्यकता पर प्रकाश डाला तथा प्रवचन एवं यज्ञ के इस संयोजन का महत्व बताया। कॉलेज की प्राचार्या डॉ. जेहरा हसन ने अपने संबोधन में आचार्य मुमुक्षु जी के महाविद्यालय आगमन पर हर्ष व्यक्त करते हुए छात्राओं को इनके आध्यात्मिक प्रवचन से प्रेरणा लेने कहा। मौके पर कॉलेज के विभिन्न विषय के विभागों के हेड डॉ. अनिता नरूला, डॉ. निशा शुक्ला, डॉ. मधुलिका श्रीवास्तव, श्रीमती प्रतिभा क्लाउडियस, डॉ. आशा रानी दास, डॉ. भारती वर्मा, डॉ. भावना पाण्डे, डॉ. प्रतीक्षा पाण्डे, डॉ. मोहना सुशांत पंडित, सुश्री सलमा मो. शफी सहित समस्त फैकल्टी मेम्बर्स तथा स्टाफ व स्टूडेंट उपस्थित थे।

Google GmailTwitterFacebookGoogle+WhatsAppShare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>