भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

भिलाई। कृष्णा पब्लिक स्कूल कुटेलाभाटा ने 73वां स्वतंत्रता दिवस खुले, स्वच्छंद आकाश में ध्वजारोहण करते हर्षोल्लास के साथ मनाया। इस समारोह में स्कूल की बैण्ड More »

भिलाई। संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशंस द्वारा संचालित रूंगटा पब्लिक स्कूल में 15 अगस्त को स्कूल प्रांगण में कक्षा नसर्री से पहली तक के बच्चों द्वारा More »

भिलाई। डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल सेक्टर -2 में रक्षाबंधन मनाया गया। इस त्यौहार को अग्रिम रूप से कक्षा नसर्री, एलकेजी तथा यूकेजी के छात्रों ने More »

 

Daily Archives: July 18, 2019

साहित्यकारों ने रचना के साथ ही वृक्षारोपण भी कर पर्यावरण संरक्षण का दिया सन्देश

भिलाई। माँ राज-राजेश्वरी मंदिर, ओवर ब्रिज के नीचे, पॉवर हाउस, भिलाई के प्रांगण में प्रख्यात साहित्यकार सुश्री नीता काम्बोज के संयोजन और साहित्य सृजन परिषद्, भिलाई (जिला दुर्ग) के तत्वाधान में पर्यावरण संरक्षण विषय पर परिचर्चा की गई। तदुपरांत सरस काव्यगोष्ठी और मंदिर प्रांगण में वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया।  कार्यक्रम की शुरुवात में सर्वप्रथम माँ राज राजेश्वरी की पूजा अचर्ना कर उनका आशीर्वाद सभी रचनाकारो और अतिथियों ने लिया। काव्यगोष्ठी के संचालन का दायित्व साहित्य सृजन परिषद के सचिव गजेन्द्र द्विवेदी गिरीश ने निभाया।भिलाई। माँ राज-राजेश्वरी मंदिर, ओवर ब्रिज के नीचे, पॉवर हाउस, भिलाई के प्रांगण में प्रख्यात साहित्यकार सुश्री नीता काम्बोज के संयोजन और साहित्य सृजन परिषद्, भिलाई (जिला दुर्ग) के तत्वाधान में पर्यावरण संरक्षण विषय पर परिचर्चा की गई। तदुपरांत सरस काव्यगोष्ठी और मंदिर प्रांगण में वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम की शुरुवात में सर्वप्रथम माँ राज राजेश्वरी की पूजा अचर्ना कर उनका आशीर्वाद सभी रचनाकारो और अतिथियों ने लिया। काव्यगोष्ठी के संचालन का दायित्व साहित्य सृजन परिषद के सचिव गजेन्द्र द्विवेदी गिरीश ने निभाया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

Career : नई तकनीकों ने बदल दी पत्रकारिता एवं जनसंचार की दुनिया

भिलाई। नई तकनीकों के आविष्कार के साथ जनसंचार के क्षेत्र में तेजी से परिवर्तन आया है, पत्रकारिता या जनसंचार के क्षेत्र में career बनाने के लिये छात्र को 12वीं पास होना जरुरी है। भिलाई स्थित श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़  फाइन आर्ट्स एंड कम्युनिकेशन महाविद्यालय ने त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम प्रारम्भ किया है, इस पाठ्यक्रम को करने के बाद पत्रकारिता के साथ-साथ जनसंचार के क्षेत्र में और फिल्म इंडस्टरी में रोजगार के अपार संभावनाये हैं।भिलाई। नई तकनीकों के आविष्कार के साथ जनसंचार के क्षेत्र में तेजी से परिवर्तन आया है, पत्रकारिता या जनसंचार के क्षेत्र में career बनाने के लिये छात्र को 12वीं पास होना जरुरी है। भिलाई स्थित श्री शंकराचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़  फाइन आर्ट्स एंड कम्युनिकेशन महाविद्यालय ने त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम प्रारम्भ किया है, इस पाठ्यक्रम को करने के बाद पत्रकारिता के साथ-साथ जनसंचार के क्षेत्र में और फिल्म इंडस्टरी में रोजगार के अपार संभावनाये हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

स्वरुपानंद महाविद्यालय में गुरू पूर्णिमा पर महिला सेल द्वारा विविध कार्यक्रम

भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में महिला प्रकोष्ठ द्वारा गुरू पूर्णिमा के अवसर पर ‘गुरू के रूप में महिलाओं का सक्रिय योगदान’ विषय पर स्लोगन, पोस्टर एवं भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। महिला प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. तृषा शर्मा ने कहा कि गुरू का स्थान हमारे जीवन में ईश्वर से भी ऊपर है क्योंकि वह हमें ईश्वर से मिलाते हैं। गुरू हमें ज्ञान ही नहीं देते हमारा मार्गदर्शन भी करते हैं, गुरू के प्रति आभार एवं कृतज्ञता को अभिव्यक्त करने के लिये गुरू पूणिर्मा पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। गुरू वह है जो हमारे अंधकार भरे जीवन में ज्ञान का प्रकाष फैलाते हैं।भिलाई। स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में महिला प्रकोष्ठ द्वारा गुरू पूर्णिमा के अवसर पर ‘गुरू के रूप में महिलाओं का सक्रिय योगदान’ विषय पर स्लोगन, पोस्टर एवं भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। महिला प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. तृषा शर्मा ने कहा कि गुरू का स्थान हमारे जीवन में ईश्वर से भी ऊपर है क्योंकि वह हमें ईश्वर से मिलाते हैं। गुरू हमें ज्ञान ही नहीं देते हमारा मार्गदर्शन भी करते हैं, गुरू के प्रति आभार एवं कृतज्ञता को अभिव्यक्त करने के लिये गुरू पूणिर्मा पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। गुरू वह है जो हमारे अंधकार भरे जीवन में ज्ञान का प्रकाष फैलाते हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

साइंस कालेज दुर्ग के एनसीसी कैडेट्स ने निभाई पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारी

दुर्ग। नीला ग्रह कहलाने वाली हमारी पृथ्वी के संरक्षण का दायित्व हम सब पर है। हमें अपने-अपने स्तर पर पृथ्वी के संरक्षण हेतु प्रयास करना चाहिए। ये उद्गार शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग के प्राचार्य डॉ. एम.ए. सिद्दीकी ने आज व्यक्त किये। डॉ. सिद्दीकी आज महाविद्यालय की एनसीसी इकाई द्वारा आयोजित माय अर्थ माय ड्यूटी कार्यक्रम को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे।दुर्ग। नीला ग्रह कहलाने वाली हमारी पृथ्वी के संरक्षण का दायित्व हम सब पर है। हमें अपने-अपने स्तर पर पृथ्वी के संरक्षण हेतु प्रयास करना चाहिए। ये उद्गार शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग के प्राचार्य डॉ. एम.ए. सिद्दीकी ने आज व्यक्त किये। डॉ. सिद्दीकी आज महाविद्यालय की एनसीसी इकाई द्वारा आयोजित माय अर्थ माय ड्यूटी कार्यक्रम को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

शंकराचार्य महाविद्यालय में मोर धरती-मोर कर्तव्य के तहत रैली, पौधरोपण

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय की एनसीसी इकाई के द्वारा मोर धरती मोर कर्तव्य को चरितार्थ करते हुए वृक्षारोपण, जागरूकता रैली एवं पर्यावरण संरक्षण हेतु संदेश घर-घर पहुंचाने हेतु कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्राचीन काल में मनुष्य धरती को माता कहकर संबोधित करता था, और धरती से जिस भी प्रकार से लाभान्वित होता था। उसे किसी न किसी रूप में चाहे पर्यावरण की देखभाल या बरसात के पानी को परंपरागत उपाय से धरती को सौपता था।भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय की एनसीसी इकाई के द्वारा मोर धरती मोर कर्तव्य को चरितार्थ करते हुए वृक्षारोपण, जागरूकता रैली एवं पर्यावरण संरक्षण हेतु संदेश घर-घर पहुंचाने हेतु कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्राचीन काल में मनुष्य धरती को माता कहकर संबोधित करता था, और धरती से जिस भी प्रकार से लाभान्वित होता था। उसे किसी न किसी रूप में चाहे पर्यावरण की देखभाल या बरसात के पानी को परंपरागत उपाय से धरती को सौपता था।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare