भिलाई। ‘न तो श्रीकृष्ण रणछोड़ थे न ही नारद जी चुगलखोर। दोनों की प्रत्येक क्रिया के पीछे गहरी सोच हुआ करती थी। श्रीकृष्ण ने कालयवन More »

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर धूम मचाने वाली ‘तफरीह’ एक बार फिर प्रारंभ होने जा रही है। महापौर एवं विधायक देवेन्द्र यादव की यह महत्वाकांक्षी योजना More »

भिलाई। इंदु आईटी स्कूल में प्री-प्राइमरी विंग के नर्सरी से केजी-2 तक के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। More »

भिलाई। केपीएस के प्रज्ञोत्सव-2019 में आज शास्त्रीय नृत्यांगनाओं ने पौराणिक कथाओं को बेहद खूबसूरती के साथ मंच पर उतारा। भरतनाट्यम एवं कूचिपुड़ी कलाकारों ने महाभारत, More »

भिलाई। कृष्णा पब्लिक स्कूल कुटेलाभाटा ने 73वां स्वतंत्रता दिवस खुले, स्वच्छंद आकाश में ध्वजारोहण करते हर्षोल्लास के साथ मनाया। इस समारोह में स्कूल की बैण्ड More »

 

Daily Archives: July 21, 2019

इंदु आई टी स्कूल में श्रावण के शुभ अवसर पर रेनी डे सेलीब्रेशन

भिलाई। इंदु आई टी स्कूल में शनिवार को श्रावण मास के प्रारंभ पर वर्षा ऋतु की मनमोहनी छटा बिखेरते हुए कक्षा नर्सरी से के. जी. टू तक के नन्हे-मुन्ने बच्चे फेन्सी ड्रेस में रेन-बो (इंद्रधनुष ), रेनड्रोप, पीकॉक (मयूर), छाता, बादल बनकर आए तथा वर्षा ऋतु पर, नृत्य, कविता, गीत प्रस्तुत किया जिसे देखकर सभी मंत्रमुग्ध हो गये। रेनी डे पर प्रॉजेक्ट पेंटिंग भी की इस अवसर पर उपस्थित डायरेक्टर सर एसएम उमक, डाएरेक्टर मेडम श्रीमती मीनल उमक, यशोवर्धन उमक, प्राचार्य आलोक श्रीवास्तव, प्री-प्राइमरी विंग इंचार्ज श्रीमती शिम्पी भट्टी द्वारा एक्टिविटी में सर्वश्रेस्ट प्रदर्शन करने वाले बच्चों को पुरस्कार भी वितरित किया, शिक्षक-गण भी उपस्थित थे। वर्षा ऋतु पर बच्चों का उत्साह व प्रस्तुति देखकर पुरस्कार भी वितरित किए गये।भिलाई। इंदु आई टी स्कूल में शनिवार को श्रावण मास के प्रारंभ पर वर्षा ऋतु की मनमोहनी छटा बिखेरते हुए कक्षा नर्सरी से के. जी. टू तक के नन्हे-मुन्ने बच्चे फेन्सी ड्रेस में रेन-बो (इंद्रधनुष ), रेनड्रोप, पीकॉक (मयूर), छाता, बादल बनकर आए तथा वर्षा ऋतु पर, नृत्य, कविता, गीत प्रस्तुत किया जिसे देखकर सभी मंत्रमुग्ध हो गये। रेनी डे पर प्रॉजेक्ट पेंटिंग भी की इस अवसर पर उपस्थित डायरेक्टर सर एसएम उमक, डाएरेक्टर मेडम श्रीमती मीनल उमक, यशोवर्धन उमक, प्राचार्य आलोक श्रीवास्तव, प्री-प्राइमरी विंग इंचार्ज श्रीमती शिम्पी भट्टी द्वारा एक्टिविटी में सर्वश्रेस्ट प्रदर्शन करने वाले बच्चों को पुरस्कार भी वितरित किया, शिक्षक-गण भी उपस्थित थे। वर्षा ऋतु पर बच्चों का उत्साह व प्रस्तुति देखकर पुरस्कार भी वितरित किए गये।Indu-it-school भिलाई। इंदु आई टी स्कूल में शनिवार को श्रावण मास के प्रारंभ पर वर्षा ऋतु की मनमोहनी छटा बिखेरते हुए कक्षा नर्सरी से के. जी. टू तक के नन्हे-मुन्ने बच्चे फेन्सी ड्रेस में रेन-बो (इंद्रधनुष ), रेनड्रोप, पीकॉक (मयूर), छाता, बादल बनकर आए तथा वर्षा ऋतु पर, नृत्य, कविता, गीत प्रस्तुत किया जिसे देखकर सभी मंत्रमुग्ध हो गये। रेनी डे पर प्रॉजेक्ट पेंटिंग भी की इस अवसर पर उपस्थित डायरेक्टर सर एसएम उमक, डाएरेक्टर मेडम श्रीमती मीनल उमक, यशोवर्धन उमक, प्राचार्य आलोक श्रीवास्तव, प्री-प्राइमरी विंग इंचार्ज श्रीमती शिम्पी भट्टी द्वारा एक्टिविटी में सर्वश्रेस्ट प्रदर्शन करने वाले बच्चों को पुरस्कार भी वितरित किया, शिक्षक-गण भी उपस्थित थे। वर्षा ऋतु पर बच्चों का उत्साह व प्रस्तुति देखकर पुरस्कार भी वितरित किए गये।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

पूर्व छात्र ने केपीएस के विद्यार्थियों को सुनाई अपनी कहानी, दिए टिप्स

भिलाई। एक अनूठी घटना के तहत कृष्णा पब्लिक स्कूल नेहरू नगर के पूर्व छात्र आदर्श खरे ने शनिवार को केपीएस कुटेलाभाटा के हाई स्कूल की छात्र-छात्राओं को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि स्कूल में वे काफी शरारती थे पर सही मार्गदर्शन से उन्होंने अपने जीवन में सकारात्मक परिवर्तन किए। लक्ष्य निर्धारित किया और फिर कड़ी मेहनत कर उसे हासिल भी किया। आदर्श ने मणिपाल यूनिवर्सिटी से होटल मैनेजमेन्ट की डिग्री हासिल की है और सम्प्रति एक पांच सितारा होटल में कार्यरत हैं।भिलाई। एक अनूठी घटना के तहत कृष्णा पब्लिक स्कूल नेहरू नगर के पूर्व छात्र आदर्श खरे ने शनिवार को केपीएस कुटेलाभाटा के हाई स्कूल की छात्र-छात्राओं को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि स्कूल में वे काफी शरारती थे पर सही मार्गदर्शन से उन्होंने अपने जीवन में सकारात्मक परिवर्तन किए। लक्ष्य निर्धारित किया और फिर कड़ी मेहनत कर उसे हासिल भी किया। आदर्श ने मणिपाल यूनिवर्सिटी से होटल मैनेजमेन्ट की डिग्री हासिल की है और सम्प्रति एक पांच सितारा होटल में कार्यरत हैं।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

आरसीइटी के बीई एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स ने की इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग

रूंगटा के स्टूडेंट्स ने की बीईसी फूड्स प्लांट में 20 दिन की इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग भिलाई। संतोष रूंगटा समूह (आर-1) के रूंगटा कॉलेज आॅफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी (आरसीइटी) के बीई एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के पांचवें सेमेस्टर के स्टूडेंट्स दुर्ग-बालोद रोड पर ग्राम-कुथरेल में संचालित फूड प्रोसेसिंग प्लांट बीईसी फूड्स में इंडस्ट्रिीयल ट्रेनिंग कर प्रशिक्षित हुए। संतोष रूंगटा समूह के डायरेक्टर टेक्निकल डॉ. सौरभ रूंगटा ने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य भावी इंजीनियर्स को एग्रीकल्चर प्रोसेसिंग तथा डेयरी टेक्नालॉजी से अवगत कराना था। एग्रीकल्चर के विस्तृत क्षेत्र को देखते हुए इस प्रकार की सघन ट्रेनिंग युवाओं के कैरियर निर्माण के दौरान अत्यंत महत्वपूर्ण साबित होती है।

भिलाई। संतोष रूंगटा समूह (आर-1) के रूंगटा कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नालॉजी (आरसीइटी) के बीई एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग के पांचवें सेमेस्टर के स्टूडेंट्स दुर्ग-बालोद रोड पर ग्राम-कुथरेल में संचालित फूड प्रोसेसिंग प्लांट बीईसी फूड्स में इंडस्ट्रिीयल ट्रेनिंग कर प्रशिक्षित हुए। संतोष रूंगटा समूह के डायरेक्टर टेक्निकल डॉ. सौरभ रूंगटा ने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य भावी इंजीनियर्स को एग्रीकल्चर प्रोसेसिंग तथा डेयरी टेक्नालॉजी से अवगत कराना था। एग्रीकल्चर के विस्तृत क्षेत्र को देखते हुए इस प्रकार की सघन ट्रेनिंग युवाओं के कैरियर निर्माण के दौरान अत्यंत महत्वपूर्ण साबित होती है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

शालेय स्तर से गुणवत्ता युक्त शिक्षा आज की आवश्यकता

साइंस कालेज दुर्ग में नई शिक्षा नीति 2019 पर परिचर्चा आयोजित

भिलाई। शालेय स्तर से गुणवत्ता युक्त शिक्षा आज की आवश्यकता है। नई शिक्षा नीति 2019 के प्रारूप में शालेय स्तर पर शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के प्रयास एवं स्कूली बस्तों का बोझ कम करने के उपायों का समावेश करना चाहिए। ये तथ्य आज शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में आईक्यूएसी द्वारा प्रारूप नई शिक्षा नीति 2019 पर आयोजित परिचर्चा के दौरान सामने आया।भिलाई। शालेय स्तर से गुणवत्ता युक्त शिक्षा आज की आवश्यकता है। नई शिक्षा नीति 2019 के प्रारूप में शालेय स्तर पर शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के प्रयास एवं स्कूली बस्तों का बोझ कम करने के उपायों का समावेश करना चाहिए। ये तथ्य आज शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में आईक्यूएसी द्वारा प्रारूप नई शिक्षा नीति 2019 पर आयोजित परिचर्चा के दौरान सामने आया।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

आरसीएसटी के बायोटेक्नोलॉजी/ माइक्रोबायोलॉजी के 80 प्रतिशत छात्र प्रथम श्रेणी में

भिलाई। संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशन द्वारा संचालित रूंगटा कॉलेज आॅफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के छात्र - छात्राओं ने हेमचंद यादव विश्विद्यालय दुर्ग द्वारा आयोजित बायोटेक्नोलॉजी एवं माइक्रोबायोलॉजी की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं में शानदार प्रदर्शन किया है। कॉलेज का परिणाम 100 फीसदी रहा । संस्था के चेयरमैन संजय रूंगटा ने छात्र - छात्राओं को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि शिक्षा के साथ उनके बहुमुखी विकास के लिए समय समय पर उनकी शैक्षणिक एवं अन्य गुणवत्ताओं को निखारने के लिए संस्था सदैव प्रयासरत रही है।भिलाई। संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूशन द्वारा संचालित रूंगटा कॉलेज ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के छात्र – छात्राओं ने हेमचंद यादव विश्विद्यालय दुर्ग द्वारा आयोजित बायोटेक्नोलॉजी एवं माइक्रोबायोलॉजी की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं में शानदार प्रदर्शन किया है। कॉलेज का परिणाम 100 फीसदी रहा । संस्था के चेयरमैन संजय रूंगटा ने छात्र – छात्राओं को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि शिक्षा के साथ उनके बहुमुखी विकास के लिए समय समय पर उनकी शैक्षणिक एवं अन्य गुणवत्ताओं को निखारने के लिए संस्था सदैव प्रयासरत रही है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल के बच्चों ने पौधे रोपकर दिया पर्यावरण का संदेश

भिलाई। पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ प्रकृति के साथ किए गए अपराध के तुल्य है। वास्तव में स्वच्छ पर्यावरण ही जीवन का आधार है। जबकि पर्यावरण प्रदूषण जीवन के अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लगा देता है। पर्यावरण का मतलब केवल पेड़-पौधे लगाना ही नहीं, वरन भूमि प्रदूषण, जल प्रदूषण, वायु तथा ध्वनि प्रदूषण आदि से पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है। जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए। उक्त बातें डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल सेक्टर 2 भिलाई के पर्यावरण संरक्षण सप्ताह के समापन पर स्कूल की शिक्षक प्रभारी श्रीमती योगिता शर्मा ने कही ।उन्होंने कहा कि बढ़ते प्रदूषण आज समूचे विश्व के सामने एक चुनौती है । जिसका सामना जागरूकता के माध्यम से ही किया जा सकता है।भिलाई। पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ प्रकृति के साथ किए गए अपराध के तुल्य है। वास्तव में स्वच्छ पर्यावरण ही जीवन का आधार है। जबकि पर्यावरण प्रदूषण जीवन के अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लगा देता है। पर्यावरण का मतलब केवल पेड़-पौधे लगाना ही नहीं, वरन भूमि प्रदूषण, जल प्रदूषण, वायु तथा ध्वनि प्रदूषण आदि से पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है। जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए। उक्त बातें डीएवी इस्पात पब्लिक स्कूल सेक्टर 2 भिलाई के पर्यावरण संरक्षण सप्ताह के समापन पर स्कूल की शिक्षक प्रभारी श्रीमती योगिता शर्मा ने कही ।उन्होंने कहा कि बढ़ते प्रदूषण आज समूचे विश्व के सामने एक चुनौती है । जिसका सामना जागरूकता के माध्यम से ही किया जा सकता है।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

भिलाई महिला महाविद्यालय का उत्कृष्ट परिणाम, बीकॉम की छात्राओं ने फहराया परचम

भिलाई। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग द्वारा घोषित परिणामों में भिलाई महिला महाविद्यालय ने पुन: अपनी श्रेष्ठता साबित की। बीकाम अंतिम वर्ष का परिणाम शत प्रतिशत रहा जिसमें 50 फीसद छात्राओं ने प्रथम श्रेणी प्राप्त की। बीएससी गृहविज्ञान का परीक्षा परिणाम भी 90 फीसद रहा। प्रथम स्थान आरती पंचाक्षरी, दूसरा स्थान अंकिता पशीने तथा तीसरा स्थान ओशीन को मिला। प्रथम श्रेणी में 6 और द्वितीय श्रेणी में 12 छात्राओं ने सफलता हासिल की।भिलाई। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग द्वारा घोषित परिणामों में भिलाई महिला महाविद्यालय ने पुन: अपनी श्रेष्ठता साबित की। बीकाम अंतिम वर्ष का परिणाम शत प्रतिशत रहा जिसमें 50 फीसद छात्राओं ने प्रथम श्रेणी प्राप्त की। बीएससी गृहविज्ञान का परीक्षा परिणाम भी 90 फीसद रहा। प्रथम स्थान आरती पंचाक्षरी, दूसरा स्थान अंकिता पशीने तथा तीसरा स्थान ओशीन को मिला। प्रथम श्रेणी में 6 और द्वितीय श्रेणी में 12 छात्राओं ने सफलता हासिल की।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

आधी अधूरी सूचनाएं : चार कानों तक जाते जाते पोहा-इडली बन गया बिस्किट

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में एमजे कालेज का लाइफ स्किल वर्कशॉप भिलाई। सूचनाओं के इस बवंडर में सही सूचना प्राप्त करना एक कठिन चुनौती है। इसलिए सूचना के सही स्रोतों की पहचान करना बेहद जरूरी है। अफवाहें और आधी अधूरी सूचनाएं अनेक समस्याओं को जन्म देती हैं। छात्र जीवन में ही हमें इसकी आदत डाल लेनी चाहिए कि क्लास स्वयं अटेंड करें, नोट्स कापी न करें, नोटिस बोर्ड को स्वयं देखें और सूचनाएं अधिकृत शिक्षक या सीधे प्राचार्य से प्राप्त करें। इससे चूकें कम होंगी और तनाव भी नहीं होगा।

भिलाई। सूचनाओं के इस बवंडर में सही सूचना प्राप्त करना एक कठिन चुनौती है। इसलिए सूचना के सही स्रोतों की पहचान करना बेहद जरूरी है। अफवाहें और आधी अधूरी सूचनाएं अनेक समस्याओं को जन्म देती हैं। छात्र जीवन में ही हमें इसकी आदत डाल लेनी चाहिए कि क्लास स्वयं अटेंड करें, नोट्स कापी न करें, नोटिस बोर्ड को स्वयं देखें और सूचनाएं अधिकृत शिक्षक या सीधे प्राचार्य से प्राप्त करें। इससे चूकें कम होंगी और तनाव भी नहीं होगा।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare

अपने बच्चों से संवाद बनाए रखना सबसे बड़ी चुनौती, संजीदा बनें : दीपक रंजन

केम्प-1 की महिला स्व सहायता समूह प्रमुखों को दिए टिप्स भिलाई। बच्चे जीवन की सबसे बड़ी पूंजी हैं। अपने बच्चों से ज्यादा कीमती दुनिया में कुछ भी नहीं। परन्तु बच्चों को अच्छे से अच्छा देने की कोशिश में माता-पिता कुछ इतने व्यस्त हो गए हैं कि बच्चे उनसे दूर होते जा रहे हैं। एक परिवारों में उनके बीच संवादहीनता की स्थिति बन रही है। यह अनेक मुसीबतों की जड़ है। इसलिए बच्चों के साथ संवाद बनाए रखें, भले ही इसके लिए आपको अपनी तरफ से पहल करनी पड़े।

भिलाई। बच्चे जीवन की सबसे बड़ी पूंजी हैं। अपने बच्चों से ज्यादा कीमती दुनिया में कुछ भी नहीं। परन्तु बच्चों को अच्छे से अच्छा देने की कोशिश में माता-पिता कुछ इतने व्यस्त हो गए हैं कि बच्चे उनसे दूर होते जा रहे हैं। एकल परिवारों में उनके बीच संवादहीनता की स्थिति बन रही है। यह अनेक मुसीबतों की जड़ है। इसलिए बच्चों से संवाद बनाए रखें, भले ही इसके लिए आपको अपनी तरफ से पहल करनी पड़े।

Google GmailTwitterFacebookWhatsAppShare