हेमचंद विश्वविद्यालय में स्नातक प्रथम वर्ष के लिए प्रवेश आवेदन अब 15 सितम्बर तक

Admission date extendedदुर्ग। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय, ने स्नातक स्तर की प्रथम वर्ष की कक्षाओ में आनलाइन पद्धति से प्रवेश हेतु आवेदन करने की तिथि 15 सितंबर तक बढ़ा दी है। पूर्व में यह तिथि 31 अगस्त थी। यह जानकारी देते हुए दुर्ग विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता छात्र कल्याण, डॉ प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि 21, 22 एवं 23 अगस्त को तीन दिन लगातार शासकीय अवकाश होने के कारण तथा पिछले दिनों लगातार भारी वर्षा के कारण महाविद्यालयों में प्रवेश लेने में विद्यार्थियों को कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था। विशेषकर ग्रामीण अंचलों के विद्यार्थी नदी-नालों में उफान के कारण महाविद्यालयों तक नहीं पहुंच पा रहे थे। दूसरी बड़ी समस्या विद्यार्थियों को स्कूलों से अभी तक मूल अंकसूची, स्थानांतरण प्रमाण पत्र तथा माइग्रेशन सर्टिफिकेट प्राप्त न हो पाना भी था। इसी संदर्भ में महाविद्यालयों के प्राचार्यो तथा विद्यार्थियों ने दुर्ग विश्वविद्यालय की कुलपति, डॉ अरूणा पल्टा से आनलाईन प्रवेश तिथि में वृद्धि का अनुरोध किया था। इस पर मानवीय दृष्टिकोण से सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुए कुलपति, डॉ अरूणा पल्टा ने छत्तीसगढ़ शासन, उच्च शिक्षा विभाग के नियमानुसार प्रत्येक शासकीय एवं निजी महाविद्यालयों में कुलपति की अनुमति से 15 सितंबर तक स्नातक प्रथम वर्ष में आनलाईन प्रवेश देने की इजाजत दे दी।

दुर्ग विश्वविद्यालय, के कुलसचिव डॉ सी.एल.देवांगन ने बताया कि इस संबंध में आज दुर्ग विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले समस्त महावद्यिालयों के प्राचार्यों की आनलाईन बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में डॉ पल्टा ने सभी प्राचार्यों को विद्यार्थी के साथ सहयोगात्मक रवैया अपनाते हुए 15 सितंबर तक प्रवेश देने के निर्देश दिये। डॉ पल्टा ने बी.एड. महाविद्यालयों के प्राचार्यों से कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक तृतीय वर्षों के परीक्षा परिणामों की घोषणा के पश्चात् ही बी.एड. कक्षाओं में छत्तीसगढ़ शासन के नियमानुसार प्रवेश किया जावे। वर्तमान में कोई भी महाविद्यालय बी.एड. पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्रक्रिया कदापि आरंभ नहीं करें। डॉ पल्टा ने प्राचार्यों को निर्देश किया कि यदि किसी उपयुक्त कारणवश कोई विद्यार्थी महाविद्यालय में घोषित प्रथम प्रवेश सूची हेतु निर्धारित फीस जमा न कर पाया हो तो भी उसे द्वितीय प्रवेश सूची कि विद्यार्थियों के साथ प्रवेश शुल्क अदा करने की सुविधा प्रदान की जावे। कोविड-19 की इस संकट की घड़ी में हमें हर विद्यार्थी की कठिनाई को समझते हुए शासन के नियमानुसार प्रवेश प्रक्रिया संपादित करना है।

ऑनलाईन बैठक के आरंभ में अधिष्ठाता छात्र कल्याण, डॉ प्रशांत श्रीवास्तव ने सभी प्राचार्यों का स्वागत करते हुए आपात बैठक का एजेण्डा प्रस्तुत किया। विभिन्न महाविद्यालय के प्राचार्यों ने अपने प्रश्न पुछकर प्रवेश प्रकिया संबंधी अपनी जिज्ञासा का समाधान किया। बैठक में लगभग 100 महाविद्यालयों के प्राचार्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *