Category Archives: Events

TEDxRCET : इन हस्तियों ने दी अपने जीवन में हर चुनौती को मात

Santosh Rungta Campus में सजा TEDxRCET का ग्लोबल मंच
भिलाई। संतोष रूंगटा कैम्पस में टेडेक्स आरसीईटी का आयोजन हुआ। इस ग्लोबल मंच से अपने जीवन में बड़ी से बड़ी चुनौती को मात देने वाली छह हस्तियों ने अपनी आपबीती शेयर की। इन लोगों ने बताया कि किस तरह जीवन के उस मोड़ पर भी उन्होंने हौसला नहीं गंवाया जब चारों तरफ घुप्प अंधेरा था। उन्होंने न केवल उन अंधेरी गलियों से बाहर निकलने का रास्ता निकाला बल्कि असाधारण उपलब्धियां हासिल कीं। रूंगटा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स तथा भिलाई राउण्ड टेबल के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में फिल्ममेकर अनुराग बसु, मेजर डॉ. सुरेन्द्र पूनिया वीएसएम, एंजल इन्वेस्टर शशीकान्त चौधरी, शिक्षाविद् डॉ. जवाहर सूरीसेट्टी, पद्मश्री फुलबासन बाई यादव तथा मशहूर सितार वादक अनुपमा भागवत ने अपने अनुभव शेयर किए। मौके पर रूंगटा समूह के चेयरमेन संतोष रूंगटा, डायरेक्टर टेक्निकल डॉ. सौरभ रूंगटा, डायरेक्टर एफ एण्ड ए सोनल रूंगटा तथा समूह द्वारा भिलाई तथा रायपुर में संचालित कॉलेजों के डायरेक्टर्स, प्रिंसिपल, फैकल्टी तथा स्टूडेंट उपस्थित थे।

WhatsAppTwitterGoogle GmailShare

संगीत से खुशियां बांट रहे Deepak Tahil

भिलाई संडे TAFREE में हुई छोटी सी मुलाकात
भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के सेवानिवृत्त डीजीएम और पेशे से मेकानिकल इंजीनियर दीपक ताहिल संगीत से खुशियां बांटते हैं। वे आर्ट ऑफ लिविंग से जुड़े हैं और यहां भी वे संगीत का ही प्रचार प्रसार कर रहे हैं। दीपक का पूरा नाम दीपक ताहिलरमानी है पर वे दीपक ताहिल कहलाना ही ज्यादा पसंद करते हैं। सेक्टर-8 स्थित अपने निवास और स्मृति नगर स्थित आर्ट ऑफ लिविंग में वे संगीत की शिक्षा भी देते हैं। जब महापौर के प्रयासों से भिलाई में तफरी की शुरुआत हुई तो वे इससे भी जुड़ गए। बैंजो, गिटार, एमप्लीफायर और माइक के साथ वे सुबह यहां पहुंच जाते हैं और लोगों को गाने के लिए प्रेरित करते हैं। Watch Video

लाड़ले मेयर का शहर ने मनाया बर्थडे

भिलाई। शहर के युवा महापौर देवेन्द्र यादव का जन्मदिन आज भिलाई ने स्वस्फूर्त होकर मनाया। सुबह जहां संडे तफरी में कई केक कटे वहीं दोपहर को एलियांस कालेज के राज्य स्तरीय सेमीनार में भी उनका जन्मदिन मनाया गया। देर शाम तक यह सिलसिला जारी है। महापौर की पत्नी आज दिल्ली में हैं पर शहर ने उन्हें कोई कमी महसूस नहीं होने दी।

ISRO के साथ SAIL ने लिखा इतिहास

श्री हरिकोटा। आंध्रप्रदेश स्थित श्री हरिकोटा अत्याधुनिक स्पेस सेंटर से सिंगल रॉकेट के जरिये 104 सैटलाइट लांच करके एक तरफ जहां इसरो ने नया इतिहास बनाया वहीं सेल ने भी इसमें अपनी महत्वपूर्ण भूमिका दर्ज कर नया इतिहास लिखा है। रिकार्ड बनाया है। 15 फरवरी, 2017 को सिंगल रॉकेट के जरिये 104 सैटलाइट लांच कर भारत ऐसा करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है। इस राकेट के लिए सेल ने स्पेशल स्टील की आपूर्ति की। सेल के सेलम इस्पात संयंत्र ने राकेट के ईंधन और ऑक्सीडाइजर टैंक के लिए उच्च गुणवत्ता का स्टेनलेस स्टील उपलब्ध कराया। सेलम इस्पात संयंत्र ने प्रतिष्ठित चंद्रयान और मंगलयान मिशन के लिए भी स्टील की आपूर्ति की है।

महापौर की सादगी के दीवाने हुए युवा

संडे तफरी में भी राजनीति ढूंढ रहे कुछ लोग
भिलाई। ‘संडे तफरी’ की चौथी कड़ी में इस रविवार को भी सेन्ट्रल एवेन्यू पर मौज मस्ती का मेला लगा। खेल खेल में लोगों ने खूब गहरी सांसें लीं और खुद को तरोताजा किया। हमेशा की तरह महापौर देवेन्द्र यादव इस बार भी लोगों के साथ घुल मिलकर उनका हाल चाल पूछते रहे, ईवेन्ट्स में भागीदारी देते रहे। शहर के लोगों, खासकर युवाओं को अपने युवा महापौर की यह सादगी दीवाना बना रही है। कोई उनके साथ सेल्फी ले रहा है तो कोई उनके साथ मुक्केबाजी मेें दो-दो हाथ कर रहा है।

राजिम गंगा आरती घाट का भव्य लोकार्पण

रायपुर। महानदी, पैरी और सोढूंर नदी के संगम पर आज माघ पूर्णिमा के अवसर पर 15 दिवसीय राजिम महाकुंभ कल्प का शुभारंभ हुआ। छत्तीसगढ़ सहित देश भर से आए संत-महात्माओं की उपस्थिति में देर रात विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने आयोजन का शुभारंभ किया। महानदी के तट पर बने मुख्य मंच में भगवान राजीव लोचन की आरती की गई। इसके पूर्व श्री गौरीशंकर अग्रवाल और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने महानदी के किनारे नवनिर्मित भव्य गंगा आरती घाट का भी लोकार्पण किया और आरती में भी शामिल हुए।

श्री शंकराचार्य कालेज में वार्षिक क्रीड़ा स्पर्धा

भिलाई। श्री शंकराचार्य महाविद्यालय में 31 जनवरी से 3 फरवरी तक 4 दिवसीय वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता का शुभारंभ प्राचार्य डॉ. रक्षा सिंह एवं निदेशक डॉ. जे. दुर्गा प्रसाद राव ने किया। प्रथम दिवस के परिणाम इस प्रकार रहे। क्रीड़ाधिकारी डॉ. वी. के. सिंह ने बताया कि कुर्सी दौड़ में प्रथम सौरभ गोस्वामी, द्वितीय तौसीम खान एवं तृतीय तलीब हुसैन, छात्रा वर्ग में प्रथम वर्षा सिंह, द्वितीय तमन्ना सिंह एवं तृतीय माधुरी जंघेल रहीं।

TAFREE में Apollo BSR ने लगाया शिविर

भिलाई। सेन्ट्रल एवेन्यू पर प्रति रविवार होने वाली तफरीह में अपोलो बीएसआर के शिविर को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। आयोजन की पहली कड़ी में जहां 76 लोगों ने स्वास्थ्य परीक्षण कराया वहीं इसकी दूसरी कड़ी में 128 लोगों ने अपने रक्तचाप, रक्तशर्करा की जांच करवाई। भिलाई की जनता के स्वास्थ्य के नाम आयोजित तफरीह में अपोलो बीएसआर यह सेवाएं नि:शुल्क प्रदान कर रहा है। तफरीह के राइडिंग रिपोर्टर को अपोलो बीएसआर की वरिष्ठ सहयोगी सलोमी सिस्टर ने अस्पताल की जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी।

रक्षा टीम ने कराया आत्मरक्षा का अभ्यास

भिलाई। तफरीह की दूसरी कड़ी में युवतियों को यौन हमलों से सुरक्षा के टिप्स देते हुए आत्मरक्षा के गुर सिखाए गए। रक्षा टीम की लीडर नवी मोनिका पाण्डेय के नेतृत्व में युवतियों को मार्शल आट्र्स का अभ्यास कराया गया। उन्होंने सीखा कि किस तरह झप्पी मारने वालों को कुहनी या एड़ी की एक चोट से सबक सिखाया जा सकता है।

तफरीह में घुल-मिल गए महापौर देवेन्द्र

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के आह्वान पर प्रति रविवार सेन्ट्रल एवेन्यू पर होने वाली तफरीह में महापौर देवेन्द्र यादव पूरी तरह से घुलमिल गए हैं। देवेन्द्र कभी युवाओं के साथ पूरे जोश-खरोश के साथ नृत्य करते दिखाई देते हैं तो कभी उनके साथ सेल्फी खिंचवाते। कभी वो बाक्सिंग में हाथ आजमाते हैं तो कभी किक बास्सिंग ग्रुप में शामिल हो जाते हैं। कभी वो साइकिल चलाते दिखते हैं तो कभी जुम्बा करते हुए।

शाश्वत, सुन्दर, अनुपम, अतुलनीय ”स्वयंसिद्धा”

भिलाई। शीर्षक ही बता रहा है कि अपने भावों को व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं मिल रहे। एक छोटे से लाइट एंड साउंड एक्ट में छोटे-छोटे बच्चे आखिर ऐसा क्या कर गए कि दर्शकों का मन भीग गया? भावातिरेक में दर्शक कभी तालियां बजाते तो कभी कपोलों पर ढलक आए आंसुओं को पोंछते। हम बात कर रहे हैं शाश्वत संगीत अकादमी के वार्षिक उत्सव की। प्रसंग था नारी के आत्मनिर्णय के अधिकार का। प्रसंग था ‘स्वयंसिद्धा’ का।

छत्तीसगढ़ में नहीं होती कन्या भ्रूण हत्या

महिला सशक्तिकरण का परिचायक है दुर्ग जिला-डॉ. रमन सिंह : मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के वक्तव्य के मुख्य अंश :- गुलामी के दौर में बिगड़ी समाज में महिलाओं की स्थिति. वैदिक काल में भी महिलाएं खुद रणभूमि में पहुंच जाती थीं, आज फाइटर प्लेन उड़ा रहीं. महिला स्व सहायता समूह की बदौलत एक साल पहले ही ओडीएफ हो जाएगा छत्तीसगढ़. महिलाओं के लिए आरक्षण 50 फीसदी पर जीतकर आ रही 60 फीसदी महिलाएं. शिशु मृत्यु दर कम करने में भी महिलाओं की बड़ी भूमिका. दहेज प्रताडऩा में महिलाओं की बराबर भूमिका. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना से महिलाओं को चूल्हा फूंकने, दमा और कैंसर से मिली निजात. कभी नहीं भूलेंगे वह पल जब एक अनपढ़ ग्रामीण महिला ने कहा- थैंक यू वैरी मच डाक्टर साहब.

रूंगटा कॉलेज में फ्रेशर्स पार्टी की धूम

केडीआरसीएसटी के बीएससी, बीकॉम, बीबीए एवं बीसीए कोर्स के स्टूडेंट्स ने जमकर किया एन्जॉय, हीता वसानी व रोहन देकेते बने मिस व मिस्टर फ्रेशर
भिलाई/रायपुर। संतोष रूंगटा समूह के नंदनवन के समीप स्थित एजुकेशनल कैम्पस में संचालित के.डी. रुंगटा कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नालॉजी (केडीआरसीएसटी) में फ्रेशर्स-डे का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन सीनियर्स द्वारा बीएससी, बीकॉम, बीबीए एवं बीसीए कोर्स के प्रथम वर्ष के छात्रों के लिए किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में ‘रुंगटा ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशंस’ के डायरेक्टर (टेक्निकल) डॉ. सौरभ रुंगटा उपस्थित थे जिन्होंने फ्रेशर्स का स्वागत करते हुए उन्हें अपना भविष्य सवांरने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि ‘आने वाले तीन साल उनके जीवन तथा कैरियर निर्माण की दृष्टि से बहुत ही अहम हैं इस समय का सदुपयोग कर वे अपने जीवन में सफलता की नई बुलंदियों को हासिल कर सकते हैं।

भिलाई नराकास को राजभाषा कीर्ति पुरस्कार

भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राजभाषा प्रचार प्रसार के सर्वोच्च सम्मान से विभूषित किया है। इस अवसर पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह एवं गृह राज्य मंत्री किरेन रीजीजू भीं उपस्थित थे। भिलाई इस्पात संयंत्र के महाप्रबंधक प्रभारी (संकार्य) पीआर देशमुख एवं वरिष्ठ प्रबंधक (राजभाषा) डॉ बी एम तिवारी एवं डी पी देशमुख वरिष्ठ प्रबंधक (एसआरयू) ने राष्ट्रपति से यह पुरस्कार ग्रहण किया।

भाषाएं अलग पर सांस्कृतिक विरासत एक : मिश्र

भिलाई। छत्तीसगढ़ के जनसम्पर्क, संस्कृति एवं पर्यटन विभाग के सचिव संतोष कुमार मिश्र (आईएएस) ने कहा कि भारत में अनेक भाषाएं हैं पर हम सबको सांस्कृतिक एकता और जीवन मूल्य एक सूत्र में पिरोते हैं। उन्होंने कहा कि यूरोपियन समूह आर्थिक कारणों से एकजुट हुआ था पर वो कभी एक देश का रूप नहीं ले सके जबकि भारत के साथ ऐसा नहीं है। यहां की सभी भाषाओं के मूल में संस्कृत है जो हमारी धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत में भी झलकती है।